सेंकड हैंड कार लेते समय RC में जरूर देखें इस पाइंट को, गलती रही तो RTO जाकर होंगे परेशान

इनवॉइस से भी नहीं हुआ काम

इनवॉइस से भी नहीं हुआ काम

कार एक्सपर्ट शहजाद बताते हैं कि ऐसी कार जिसके आरसी में उसका पूरा नाम नहीं हो लेने से बचना चाहिए. क्योंकि इसे आगे बेचने में दिक्कत आती है. क्योंकि अधिकांश लोग कार फाइनेंस करवाते है ऐसे में आरसी में यदि कार का सही या पूरा नाम नहीं लिखा हो तो फिर लोन मिलने में भी दिक्कत आती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. सेंकड हैंड कार (Second hand car)का मार्केट बढ़ा है. खासतौर से पिछले साल कोरोना वायरस (Corona)के बाद लगे लंबे लॉकडाउन (lockdown )के चलते जब सारे पब्लिक ट्रांसपोर्ट (Public Transport) बंद हो गए थे उस समय घर में एक कार की जरूरत सबको महसूस हुई. यही वजह है कि सेंकड हैंड मार्केट में कार बड़ी संख्या में खरीदी जा रही है. यदि आप भी पुरानी कार खरीद रहे है तो एक बात का विशेष ध्यान रखे क्योंकि आज हम आपको जिस चीज के बारे में बताने जा रहे है उसमें गलती आपकी नहीं बल्कि आरटीओ की ही रहता है लेकिन खामियाजा आगे आपको भुगतना पड़ता है. चलिए जानते है वो कौन सी बात है जिसका आपको विशेष ध्यान रखना है. 



कार के मॉडल का पूरा नाम है या नहीं 



हरियाणा के मुनिंदर सिंह ने अपनी स्विफ्ट डिजायर (Swift Dzire) को बेचा. खरीदने वाले सुमीत ने भी कार के सारे डॉक्यूमेंट देख लिए लेकिन रजिस्ट्रेशन कार्ड (RC) में एक चीज नहीं देखी. और वो थी कि रजिस्ट्रेशन कार्ड पर कार का पूरा नाम नहीं था, सिर्फ स्विफ्ट एलएक्सआई लिखा था जबकि होना स्विफ्ट डिजायर एलएक्सआई होना था. यहां दिक्कत की बात यह है कि स्विफ्ट भी एक अलग कार है. इस कार को खरीदने वाले को दिक्कत उस समय आई जब वो इसे अपने राज्य ले जाने के लिए एनओसी निकलवाने गए. जहां उन्हें एनओसी में सिर्फ स्विफ्ट लिखा मिल रहा था जबकि उन्हें पूरा नाम चाहिए था. 



ये भी पढ़ें -  पूरे परिवार के साथ कार में घूमने के लिए करना होगा इंतजार, क्योंकि Hyundai ने इस SUV की लॉन्चिंग टाली


 


इनवॉइस से भी नहीं हुआ काम 



 सुमीत परेशान होते रहे. आरटीओ ने कहा कि यह पहले के आरटीओ की गलती है जिसमें वो भी कुछ नहीं कर सकते. आरटीओ ने कहा कार की इनवॉइस मिल जाए तो चेंज हो सकता है. सुमीत ने बड़ी मुश्किल ने कार की इनवाइस निकलवाई क्योंकि कार थर्ड ओनर थी और उन्होंने जिससे कार खरीदी थी उसे भी जानकारी नहीं थी. जैसे तैसे इनवाइस निकली तो बताया गया इससे भी काम नहीं होगा. क्योंकि सिस्टम पर एक बार जो नाम चढ़ जाए उसे बदलना मुश्किल रहता है. 





नहीं खरीदे ऐसी कार 



कार एक्सपर्ट शहजाद बताते हैं कि ऐसी कार जिसके आरसी में उसका पूरा नाम नहीं हो लेने से बचना चाहिए. क्योंकि इसे आगे बेचने में दिक्कत आती है. क्योंकि अधिकांश लोग कार फाइनेंस करवाते है ऐसे में आरसी में यदि कार का सही या पूरा नाम नहीं लिखा हो तो फिर लोन मिलने में भी दिक्कत आती है. यदि कोई नई कार भी ले रहा है और आरटीओ ने उसका सही नाम या पूरा नाम नहीं लिखा हो तुरंत बदलवाना चाहिए क्योंकि आगे जाकर इसे बदलवाना लगभग नामुमकिन हो जाता है.  


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज