DL को Aadhaar Card से करना होगा लिंक, जानिए क्या-क्या होंगे फायदे

DL को Aadhaar Card से करना होगा लिंक, जानिए क्या-क्या होंगे फायदे
आधार को डीएल से लिंक करने का सबसे बड़ा फायदा तो ये होगा कि ड्राइविंग लाइसेंस की डुप्लीकेसी नहीं पाएगी

अगर ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence) को आधार (Aadhaar Card) से लिंक कर दिया जाएगा तो इससे कई तरह के फायदे होंगे. डीएल (DL) को आधार से लिंक करने के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं हम आपको बताते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2019, 1:15 PM IST
  • Share this:
ट्रैफिक नियमों को और बेहतर बनाने के लिए सरकार लगातार कोशिश कर रही है. इसीलिए न सिर्फ ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर भारी जुर्माना वसूला जा रहा है बल्कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पटना में ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से लिंक करने की बात भी कह दी. उन्होंने कहा कि अगर ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से लिंक कर दिया जाएगा तो इससे कई तरह के फायदे होंगे.  तो, डीएल को आधार से लिंक करने के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं हम आपको बताते हैं-

नहीं हो पाएगी डुप्लीकेसी-
आधार को डीएल से लिंक करने का सबसे बड़ा फायदा तो ये होगा कि ड्राइविंग लाइसेंस की डुप्लीकेसी नहीं पाएगी जिससे किसी भी इमरजेंसी या दुर्घटना की स्थिति में आरोपी की पहचान करना आसान होगा. अभी तक लोग अलग किसी दूसरे आरटीओ ऑफिस जाकर दूसरा डीएल बनवा लेते हैं.

पहचान करना होगा आसान-
दरअसल आधार से डीएल को लिंक कर देने से नकली डीएल बनवाना आसान नहीं होगा. अभी तक नकली डीएल की वजह से कई बार दुर्घटना करने के बाद कुछ आरोपी फरार हो जाते हैं और दूसरा नकली लाइसेंस बनवा लेते हैं जिससे उनका पता लगाना मुश्किल हो जाता है.



फाइन देने से बचना होगा मुश्किल-
डीएल से आधार को लिंक करने से लोग फाइन देने से नहीं बच पाएंगे. अभी तक लोग उनके नाम में किए गए फाइन को या तो बहुत देर में जमा करते हैं या तो कई बार दूसरा लाइसेंस बनवा लेते हैं. आधार लिंक होने से इससे बचा जा सकेगा.

खुद ही कर सकते हैं लिंक-
राज्य या केंद्र शासित प्रदेश के सड़क परिवहन विभाग के ऑफीशियल वेबसाइट पर जाएं. वहां लिंक आधार के विकल्प को चुनें. इसके बाद ड्राइविंग लाइसेंस के विकल्प को सेलेक्ट करके अपना ड्राइविंग लाइसेंस नंबर डाल दें. फिर आपके ड्राइविंग लाइसेंस की सारी डिटेल दिखेगी. अब अपना 12 डिजिट का आधार नंबर और कॉन्टैक्ट नंबर डाल दीजिए. फोन नंबर वही होना चाहिए जो कि आपके आधार कार्ड से लिंक है. अगर आप ऑनलाइन नहीं करना चाहते हैं तो आरटीओ ऑफिस जाकर भी आप ऐसा कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज