यह गलती करेंगे तो कार में रखे सैनिटाइजर से लग जाएगी आग! इन बातों का जरूर रखें ध्यान

यूएस में जिस व्यक्ति की कार में आग लगी उस कार का फोटो

यूएस (US) में ऐसी ही घटना हुई, जब एक कार में आग लग गई. इसके पीछे वजह थी ड्राइवर ने स्मोकिंग करते हुए हाथ को सैनिटाइज करने की कोशिश की. तो आखिर वो कौन सी चीजें है जिन्हें ध्यान में रखना बेहद जरूरी है जिससे कार में रखा सैनिटाइजर आग लगने की वजह ना बन जाए.

  • Share this:

    नई दिल्ली. कोरोना (Corona) के इस दौर में सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) और हाथ सहित अन्य चीजों को सैनिटाइज (Sanities) करना अब आदत बन चुका है. लोग घरों के साथ-साथ कारों में भी सैनिटाइजर (Sanitizer) रखते है जिससे कही आते-जाते समय वे कार में ही हाथों को सैनिटाइज कर सके. यहां तक की यदि कार (Car) में कोई व्यक्ति बैठ रहा है तो उसके जाने के बाद कार की सीट हैंडल व अन्य चीजों के लिए भी लोग कार में सैनिटाइजर की बॉटल रखते ही है. लेकिन क्या आपको पता है ऐसा करना खतरनाक भी हो सकता है. यू तो कार में सैनिटाइजर को रखने को लेकर कई बार कहा गया है यह सही नहीं है खासतौर से गर्मी के मौसम में और कुछ गलतियों के साथ. यूएस (US) में ऐसा ही वाक्या हुआ जब एक कार में आग लग गई जिसके पीछे वजह थी ड्राइवर ने स्मोकिंग करते हुए हाथ को सैनिटाइज करने की कोशिश की. तो आखिर वो कौन सी चीजें है जिन्हें ध्यान में रखना बेहद जरूरी है जिससे कार में रखा सैनिटाइजर आग लगने की वजह ना बन जाए. चलिए जानते है आपके सारे सवालों के जवाब


    क्या सैनिटाइजर आग पकड़ सकता है ?


    जवाब, हां पकड़ सकता है ऐसा इसलिए क्योंकि हैंड सैनिटाइजर में 90 फीसदी अल्कोहल होता है. हालांकि यह निर्भर करता है कई कंपनियां 70 से 80 प्रतिशत भी रहता है. यह इथाइल एल्कोहल होता है जिसके अपने आप आग लगने की स्थिति सिर्फ उस स्थिति में रहती है जब तापमान 363 डिग्री सेल्सियस हो जाए. इसलिए सिर्फ धूप में रखने या कार के उच्च तापमान में होने के बाद भी इसमें अपने आप आग नहीं लग सकती. 


    ये भी पढ़ें - Twitter ने लॉन्चिंग के कुछ हफ्तों में ही बंद किया वेरिफिकेशन प्रोग्राम! जानें वजह





    तो फिर कार में इसमें आग लगने की आशंका कितनी है?


    जानकार बताते हैं कि आग लगने की आशंका 100 प्रतिशत है. लेकिन वो तब है जब आप लापरवाही करेंगे. मसलन इसकी बॉक्सिंग एयर टाइट होती है. तो हमेशा ध्यान रखे कि इसे कभी भी लूज ना रखे. क्योंकि यदि यह लूज है या कार में रखी बोतल खुली है खतरा तब है. ऐसा इसलिए क्योंकि सैनिटाइजर में जो इथाइल एल्कोहल होता है उसका फ्लैश पाइंट 21 डिग्री सेल्सियस होता है. इस तापमान में यदि सैनिटाइजर खुला है या उसका ढक्कन ढीला है तो वह भाप बनकर उड़ने लगेगा. यदि यह स्थिति में कार में हो तो निश्चित ही खुला वातावरण नहीं मिलने के कारण वो अंदर ही रहेगा और कार एक गैस चेंबर के तौर पर हो जाएगी जिसमें जरा सी चिंगारी मिलने पर आग लग जाएगी. 


    ये भी रखे ध्यान 


    सैनिटाइजर का इस्तेमाल के तुरंत बाद किसी भी ज्वलनशील चीज को ना जलाए. यहां तक कार की चाबी को भी सैनिटाइज करने के तुरंत बाद इंजन में लगाए कार चालू करने के लिए. कम से दस सेंकड तक रूके या जब तक वह सूख ना जाए तब तक. घर में आने वाले मेड को भी कहे कि हाथ सैनिटाइज करने के तुरंत बाद गैस शुरू ना करे.