होम /न्यूज /ऑटो /आपकी कार के टायर की भी होती है एक्सपायरी डेट, जानें कैसे कर सकते हैं चेक

आपकी कार के टायर की भी होती है एक्सपायरी डेट, जानें कैसे कर सकते हैं चेक

टायर खरीदते समय एक्सपायरी डेट की जांच जरूर करें.image-canva

टायर खरीदते समय एक्सपायरी डेट की जांच जरूर करें.image-canva

गाड़ियों में टायर्स का इस्तेमाल कुछ लोग तब तक करते हैं जब तक कि यह पूरी तरह घिस ना जाए. लेकिन इसकी एक्सपायरी डेट भी होत ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गाड़ी लगभग 40000 किलोमीटर तक चलाने के बाद टायर्स को बदलें.
इसके अलावा टायर्स पर लिखे नंबर को देखने के बाद एक्सपायरी डेट चेक करें.
इसे घिस जाने के बाद गाड़ी चलाने पर कई बार दुर्घटनाएं भी हो जाती है.

किसी भी वाहन को चलाने के लिए टायर्स की बहुत बड़ी भूमिका होती है. भले ही इंजन दमदार हो लेकिन इसके बिना गाड़ी को चला पाना नामुमकिन है. कई बार लोग गाड़ी खरीदने के बाद टायर्स जब पूरी तरह से घिस जाती है तब इसे  बदलने की सोचते हैं. इस बीच कई बार गाड़ी फिसलने की वजह से ऐक्सिडेंट भी हो जाती है. लेकिन लोगों का ध्यान इस ओर बहुत कम ही जाता है. क्या आपको पता है कि टायर की भी एक्सपायरी डेट होती है. वैसे आप इसे आसानी से  चेक कर सकते हैं.
टायर की एक्सपायरी डेट आने से पहले इसे बदल कर कई तरह की दुर्घटनाएं होने से बच सकते हैं. इसके अलावा गाड़ी में ग्रिप बनाने के लिए नए टायर्स जरूर लगवाएं. इससे थोड़ी सी माइलेज भी बढ़ जाती है.

यह भी पढ़ें पावर में किसी कार से कम नहीं है इस बाइक का इंजन, अगले महीने भारत में हो रही लॉन्च, देखें Photos

यहां देखें टायर्स की एक्सपायरी डेट
जब भी हम नई गाड़ियां खरीदते हैं तो इसके टायर्स बहुत ही साफ और इस पर मोटे अक्षरों से नंबर्स लिखे होते हैं. भले ही नई गाड़ी खरीदने के बाद इस पर कोई ध्यान ना दे. लेकिन टायर्स घिस जाने के बाद इस नंबर को देखकर एक्सपायरी डेट के बारे में जानकारी ले सकते हैं. दरअसल गाड़ियों के टायर पर माइलेज बैलेंस कंट्रोल और हैंडलिंग के साथ ही कई चीजें निर्भर करती है. अगर टायर की स्थिति सही हो तो बहुत तरह की परेशानियों से बच सकते हैं.

टायर के किनारों पर देखें कोड
आमतौर पर आपने देखा होगा कि टायर के चारों तरफ किनारों पर मोटे अक्षरों से कोड लिखा होता है. इसे देखने के बाद ही मैकेनिक एक्सपायरी डेट चेक करते हैं. सिर्फ इतना ही नहीं अगर टायर खराब हो जाए तो ऐसी स्थिति में भी आप इन नंबर को देखकर नए टायर्स लगवा सकते हैं. इस पर वजन उठाने की क्षमता टायर की चौड़ाई लंबाई और अधिकतम स्पीड लिखी होती है.

यह भी पढ़ें: पहली बार सामने आया रॉयल एनफील्ड की इलेक्ट्रिक बाइक का लुक, लॉन्च से पहले जानें डिटेल

40000 किलोमीटर के बाद बदले टायर
आमतौर पर मैकेनिक यह सलाह देते हैं कि जब भी गाड़ी 40000 या इससे अधिक किलोमीटर चल जाए, तो इसके बाद टायर्स को बदल देना चाहिए. अगर आप गाड़ी का रेगुलर इस्तेमाल करते हैं तो इसकी ग्रिप खत्म होने के बाद खुद से ही आपको यह महसूस कर पायेंगे की गाड़ी की टायर खराब हो गई है. इसके अलावा अगर आप गाड़ी रेगुलर नहीं चलाते हैं तो प्रत्येक 5 वर्ष के बाद इसकी जांच करवाने पर टायर चेंज कर सकते हैं. यह ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही मोड में उपलब्ध है. कभी भी टायर बदलने से पहले एक बार प्रशिक्षित मैकेनिक से इसकी सलाह जरूर लें.

Tags: Auto News, Bike news, Car Bike News

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें