कार बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी पर दिखा कोरोना वायरस का असर, बंद होगा प्रोडक्शन

कोरोना वायरस का प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ रहा है, जिसकी वजह से तमाम कार निर्माता कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का निर्देश भी दे रही हैं.
कोरोना वायरस का प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ रहा है, जिसकी वजह से तमाम कार निर्माता कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का निर्देश भी दे रही हैं.

कोरोना वायरस का प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ रहा है, जिसकी वजह से तमाम कार निर्माता कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का निर्देश भी दे रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2020, 7:11 PM IST
  • Share this:
कार बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी फॉक्सवैगन (Volkswagen) ने कहा कि वह कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रभाव को कम करने के लिए दुनिया भर में अपने कई प्लांट बंद करना चाहती है. कंपनी ने कहा कि साल 2020 काफी मुश्किल साल है. कंपनी के चीफ एक्ज़ीक्यूटिव हर्बर्ट डेस ने मंगलवार को कहा कि इस समय कार की सेल की हालत को देखते हुए और कार के पार्ट्स की सप्लाई के मद्देनज़र आने वाले निकट भविष्य में इसकी सप्लाई को बंद किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि स्पेन के प्लांट्स, पुर्तगाल के सेतुबल, स्लोवाकिया के ब्रास्तिलावा और इटली के लैंबोर्गिनी व डुकाटी प्लांट में भी इस हफ्ते के पहले काम बंद किया जा सकता है. इसके अलावा दूसरे जर्मन और यूरोपियन प्लांट भी में भी आने वाले दो-तीन हफ्तों में काम बंद किया जा सकता है. हालांकि, इसके उलट चीन के कई फैक्टरियों में काम शुरू कर दिया गया है.

कंपनी के चीफ फाइनेंशियल अधिकारी फ्रैंक विटर ने कहा, 'साल 2020 काफी मुश्किल साल है. कोरोना वायरस की वजह से कंपनी के सामने काफी ऑपरेशनल और फाइनेंशियल चैलेंज है. इसी के साथ साथ कई आर्थिक चुनौतियां भी दुनिया के सामने खड़ी हो गई हैं.'



बता दें कि कोरोना वायरस का प्रभाव पूरी दुनिया पर पड़ रहा है, जिसकी वजह से तमाम कार निर्माता कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का निर्देश भी दे रही हैं. हाल ही में टाटा मोटर्स ने दो हफ्तों के लिए अपने कर्मचारियों को घर से काम करने का निर्देश दिया था. बाद में फोर्ड मोटर्स ने भी हज़ारों वर्कर्स को घर से काम करने के निर्देश दिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज