Home /News /auto /

दिल्ली में पुराने वाहन मालिकों को बड़ा झटका, 10 साल पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द; जानें क्या है विकल्प?

दिल्ली में पुराने वाहन मालिकों को बड़ा झटका, 10 साल पुराने वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द; जानें क्या है विकल्प?

जिन वाहनों के रजिस्ट्रेशन रद्द हुए हैं, उनमें लगभग 87,000 कारें शामिल हैं- (फाइल फोटो)

जिन वाहनों के रजिस्ट्रेशन रद्द हुए हैं, उनमें लगभग 87,000 कारें शामिल हैं- (फाइल फोटो)

दिल्ली सरकार ने एक लाख से ज्यादा 10 साल पुराने डीजल वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया है. अब इन वाहनों के मालिकों के पास वाहनों में इलेक्ट्रिक किट लगवाने या अन्य राज्य में बेचने का विकल्प रह गया है.

    नई दिल्ली. दिल्ली सरकार ने राज्य में चलने वाले एक लाख से ज्यादा 10 साल पुराने डीजल वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया है. अब इन वाहनों के मालिकों के पास वाहनों में इलेक्ट्रिक किट लगवाने या अन्य राज्य में बेचने का विकल्प रह गया है. दिल्ली परिवहन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आने वाले दिनों में 15 साल से पुराने पेट्रोल वाहनों का भी रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा. राज्य में ऐसे पेट्रोल वाहनों की संख्या 43 लाख से ज्यादा है. इनमें 32 लाख 2-व्हीलर और 11 लाख 4-व्हीलर शामिल हैं.

    दिल्ली परिवहन विभाग ने चेतावनी दी है कि अगर कोई 10 साल पुराना डीजल या 15 साल से पुराना पेट्रोल वाहन सड़कों पर चलाता हुआ पाया गया तो उसे जब्त कर स्क्रैपिंग के लिए भेजा जाएगा. 10 साल पुराने डीजल वाहनों के मालिक परिवहन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC) लेकर इलेक्ट्रिक किट लगवा सकते हैं या अन्य राज्यों में बेच सकते हैं. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के निर्देश के मुताबिक, दिल्ली सरकार ने 1 जनवरी 2022 से 10 साल पूरे करने वाले 1,01,247 डीजल वाहनों के रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिए हैं.  जिन वाहनों के रजिस्ट्रेशन रद्द हुए हैं, उनमें लगभग 87,000 कारें शामिल हैं, जबकि बाकी माल वाहक, बस और ट्रैक्टर हैं.

    ये भी पढ़ें- इलेक्ट्रिक कार खरीदनी चाहिए या पेट्रोल-डीजल कार? यहां जानिए दोनों के फायदे और नुकसान

    कार के लिए 3 से 5 लाख रुपए आएगा खर्च
    अधिकारियों ने कहा कि वाहनों में इलेक्ट्रिक किट लगवाने के लिए आठ इलेक्ट्रिक किट निर्माताओं को लिस्टेड किया है. विभाग अन्य निर्माताओं के साथ भी बातचीत कर रहा है. आने वाले दिनों में और अधिक पैनल बनाए जाएंगे. ऑटोमोबाइल विशेषज्ञों ने कहा कि पुरानी डीजल और पेट्रोल कारों और चार पहिया वाहनों की रेट्रोफिटिंग में बैटरी क्षमता और रेंज के आधार पर 3-5 लाख रुपये खर्च होंगे. उन्होंने कहा कि बैटरी और निर्माताओं के प्रकार के आधार पर दोपहिया और तीन पहिया वाहनों की रेट्रोफिटिंग की लागत कम होगी.

    इलेक्ट्रिक किट में मिलेगी 106 किमी की रेंज
    Etrio Automobile के पैनल में शामिल इलेक्ट्रिक किट का इस्तेमाल पेट्रोल और डीजल दोनों तरह के चार पहिया वाहनों के लिए किया जा सकता है. इसमें 106 किमी से अधिक की रेंज वाली 17.3 kW की बैटरी शामिल है. अन्य पैनल में शामिल निर्माता 3EV इंडस्ट्रीज, बूमा इनोवेटिव ट्रांसपोर्ट सॉल्यूशंस रिन्यूएबल, जीरो 21 रिन्यूएबल एनर्जी सॉल्यूशंस, VELEV मोटर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड हैं. इन सभी निर्माताओं के पास दो, तीन और चार पहिया वाहनों के लिए अलग-अलग बैटरी क्षमता वाले इलेक्ट्रिक किट हैं,  बूमा द्वारा निर्मित पेट्रोल दोपहिया वाहनों के लिए किट 2.016 kW की बैटरी क्षमता और 65.86 किमी की सीमा के साथ आती है.

    ये भी पढ़ें- इस राज्य में इलेक्ट्रिक कार खरीदने पर मिल रही 2.5 लाख रुपए की छूट, 31 मार्च तक ऑफर

    150 सीसी की बाइक में लगवा सकेंगे इलेक्ट्रिक किट
    गोगो ए 1 मोटर्स के सीईओ श्रीकांत शिंदे ने कहा कि इलेक्ट्रिक किट की कीमत रेंज पर निर्भर करती है. वर्तमान में हम दोपहिया वाहनों के कुछ मॉडल के लिए किट उपलब्ध करा रहे हैं. आगे 100 सीसी से 150 सीसी की सभी मोटरसाइकिलों के लिए किट जारी की जाएंगी. इसमें 100 किमी रेंज वाली किट की कीमत लगभग 90,000 रुपये है. परिवहन विभाग ने सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों और केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के स्वायत्त निकायों को उनके स्वामित्व वाले अपंजीकृत वाहनों को स्क्रैप या रेट्रोफिटिंग करने की सलाह दी है.

    Tags: Air pollution delhi, Air pollution in Delhi, Arvind Kejriwal led Delhi government, Auto News, Autofocus, Electric Car, Electric Scooter, Electric Vehicles

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर