जरूरी खबर! पेट्रोल-डीजल की पुरानी गाड़ी चलाने पर देना होगा 10 हजार का जुर्माना, जानें क्यों?

Scrap old diesel and petrol cars

15 साल पुराने पेट्रोल और 10 साल पुराने डीजल (Scrap old diesel and petrol cars) वाहनों के मालिकों पर 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली: दिल्ली परिवहन विभाग (Delhi government) द्वारा हाल ही में शुरू की गई व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी (Scrap policy) में घोषित नए नियमों के मुताबिक, 15 साल पुराने पेट्रोल और 10 साल पुराने डीजल (Scrap old diesel and petrol cars) वाहनों के मालिकों पर 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. राज्य सरकार ने कहा कि अगर कोई भी वाहन मालिक अपने पुराने वाहनों को चलाएगा तो उनको ये जुर्माना भरना पड़ेगा.

    जुर्माने के अलावा, दिल्ली परिवहन विभाग ने यह भी घोषणा की है कि सड़कों पर पाए जाने पर इन वाहनों को जब्त कर लिया जाएगा. ऐसा करने से 10 साल पुराने डीजल और 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों को बंद करना अनिवार्य हो गया है.

    यह भी पढ़ें: ये है देश की सबसे सस्ती कार वेरिएंट, शानदार फीचर्स के साथ मिलता है 22 किमी तक का माइलेज

    प्रदूषण में आएगी कमी
    व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी भारत सरकार द्वारा पेश की गई थी. इस पॉलिसी के आने के बाद दिल्ली सरकार यह उम्मीद कर रही है है कि गाड़ियों के धुएं से होने वाले प्रदूषण में कमी देखने को मिल सकती है. भारत के सर्वोच्च न्यायालय के एक फैसले के अनुसार, परिवहन विभाग अब सड़कों पर पाए जाने पर दशकों पुराने प्रदूषण फ़ैलाने वाले वाहनों को जब्त या नष्ट करने का आदेश दे सकता है.

    दिल्ली सरकार ने लगाई थी रोक
    आपको बता दें 29 अक्टूबर 2018 को, सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 10 साल पुराने पेट्रोल और 15 साल पुराने डीजल वाहनों के चलने पर रोक लगा दी थी. मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार ₹10,000 का जुर्माना ₹5,000 तक संयोजित करने योग्य है.

    यह भी पढ़ें: Royal Enfiled क्लासिक 350 लेकर आएं घर, सिर्फ 20 हजार रुपये का देना होगा डाउनपेमेंट, जानें पूरा ऑफर

    2,831 वाहनों को किया स्क्रैप
    इस बीच, व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी के तहत पुराने प्रदूषण फ़ैलाने वाले वाहनों के कबाड़ को बढ़ावा देने के लिए, दिल्ली सरकार ने चार वाहन स्क्रैपिंग सेंटर की सूची जारी की है. जिसमे और अधिक स्क्रैपिंग सेंटर को जल्द ही जोड़े जाने की उम्मीद है. दिल्ली-एनसीआर में चलने वाले लगभग 3.5 लाख वाहन ऐसे हैं, जो स्क्रैपिंग के योग्य हैं. इस साल 30 मई तक, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 2,831 वाहनों को स्क्रैप कर दिया गया था, जो कि स्क्रैपिंग किये जाने वाले पुराने वाहनों के कुल 1 प्रतिशत से भी कम है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.