होम /न्यूज /ऑटो /Hybrid कारों की कीमत पर फिर उठी चर्चा, जल्द ही होने जा रहा है बड़ा फैसला

Hybrid कारों की कीमत पर फिर उठी चर्चा, जल्द ही होने जा रहा है बड़ा फैसला

हाईब्रिड कारों को लेकर सरकार जल्द ही बड़ा फैसला करने वाली है.

हाईब्रिड कारों को लेकर सरकार जल्द ही बड़ा फैसला करने वाली है.

हाईब्रिड कारों पर लगने वाले टैक्स की दर 43 प्रतिशत तक है. सरकार अब इसको कम करने पर विचार कर रही है जिससे लोग एक ऐसी गाड ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

हाईब्रिड कारों पर लगने वाले टैक्स को कम करने पर विचार किया जा रहा है.
सरकार जल्द ही इसको लेकर बड़ा फैसला कर सकती है.
ऐसा होने से कारों की कीमतों में काफी फर्क दिखेगा.ऐसा होने से कारों की कीमतों में काफी फर्क दिखेगा.

नई ‌दिल्ली. इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को लेकर सरकार की गंभीरता का फोकस अब कुछ कुछ हाईब्रिड कारों की तरफ भी जा रहा है. कम पॉल्यूशन और बेस्ट परफॉर्मेंस से लैस इन कारों पर लगने वाला टैक्स इनको महंगा कर रहा है और इसी के चलते लोग इन कारों से दूर होते जा रहे हैं. हालांकि ये उन लोगों के लिए बेहतर विकल्प है जिन्हें ईवी की जगह एक ट्रेडिशनल फ्यूल व्हीकल चाहिए और वे बेस्ट टेक्नोलॉजी भी चाहते हैं लेकिन फिर भी आम गाड़ियों की तुलना में हाईब्रिड मॉडल्स की दो गुनी कीमत लोगों को इस तरफ से मोड़ देती है.

हालांकि एक बार फिर हाईब्रिड कारों पर लगने वाले टैक्स को लेकर चर्चा उठी है. सरकार के सूत्रों के अनुसार प्रदूषण की कमी के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार के पास केवल ईवी का ही सहारा काम नहीं करेगा. बल्कि उन्हें हाईब्रिड को भी एक विकल्प के तौर पर देखना होगा. सरकार और वित्त मंत्रालय में इसे लेकर चर्चा हो रही है, जल्द ही कोई न कोई निर्णय सामने आएगा. यदि ऐसा कोई प्लान पास है तो उसे जीएसटी काउंसिल के सामने प्रस्ताव के तौर पर रखा जा सकता है.

इससे कुछ समय पहले ही भारी उद्योग मंत्रालय के सचिव अरुण गोयल ने कि इंडस्ट्री की तरफ से मिल रहे फीडबैक पर काम किया जा रहा है और टैक्स रेट्स को एमिशन नॉर्म्स के अनुसार बनाया जा रहा है. अब एक्सपर्ट्स ग्लोबल के साथ ही घरेलू डाटा का एनालिसिस कर रही है, इसके साथ ही डिमांड को भी समझने की कोशिश की जा रही है.

किस पर कितना टैक्स
फिलहाल ईवी पर केवल 5 प्रतिशत टैक्स लगाता है. माइल्‍ड हाईब्रिड कारों पर 29 प्रतिशत और स्ट्रॉन्‍ग हाईब्रिड कार पर ये टैक्स 43 प्रतिशत तक है. वहीं इंटरनल कंबशन इंजन (सब 4 मीटर 1200 सीसी इंजन के साथ) पर 29 प्रतिशत, वहीं इसी सेगमेंट में 1.5 लीटर इंजन होने पर 31 प्रतिशत और 4 मीटर से लंबी कारों पर 45 प्रतिशत टैक्स लगता है.

क्यों बेहतर है हाईबिड कार
ईवी के बाद यदि कोई बेहतर टेक्नोलॉजी है तो वो हाईब्रिड कंबशन इंजन है. इसमें दो तरह से पावर जनरेशन होती है. पेट्रोल इंजन के साथ ही इलेक्ट्रिक मोटर भी पावर जनरेट करती है. दोनों की कंबाइंड पावर से व्हीकल मूवमेंट होता है. ऐसे में माइलेज काफी अच्छा आता है. साथ ही ये कार पॉल्यूशन भी काफी कम करती है.

Tags: Auto News, Car Bike News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें