• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • गर्मियों में CNG Car चलाने पर हो सकती है परेशानी, ये टिप्स करेंगे फॉलो, तो नहीं होगा नुकसान

गर्मियों में CNG Car चलाने पर हो सकती है परेशानी, ये टिप्स करेंगे फॉलो, तो नहीं होगा नुकसान

सीएनजी कार ड्राइव करते समय यूज करें ये टिप्स.

सीएनजी कार ड्राइव करते समय यूज करें ये टिप्स.

पेट्रोल और डीजल कारों की तरह ही सीएनजी कार को भी पार्किंग करते वक़्त किसी छाया वाली जगह पर पार्क करें. इससे अपकी कार अंदर से गर्म नहीं होगी और अचानक यूज करने पर आपको कोई परेशानी नहीं होगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में पेट्रोल और डीजल के दाम दिन ब दिन आसमान छू रहे हैं. ऐसी स्थिति में लोग सीएनजी कारों का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं, जिससे ईंधन की खपत कम की जा सके. सीएनजी वाहन न केवल चलाने के लिए सस्ते हैं बल्कि नई तकनीकों ने इन्हें पहले से कहीं अधिक सुरक्षित बना दिया है. हालांकि सीएनजी कार में ना के बराबर बूटस्पेस और प्रदर्शन में मामूली गिरावट जैसे कुछ डाउनसाइड्स हैं, लेकिन अगर बचत और अच्छी माइलेज की बात की जाये तो सीएनजी कारें बेहतर साबित होती हैं. आपको बताते हैं कि अपनी सीएनजी कार को इस झुलसा देने वाली गर्मी में कैसे बचा कर रखें.

    1 - पेट्रोल और डीजल कारों की तरह ही सीएनजी कार को भी पार्किंग करते वक़्त किसी छाया वाली जगह पर पार्क करें. देश में इस समय तापमान लगभग 40 के आस पास है, जिससे धूप में खड़ी आपकी सीएनजी कार का केबिन कुछ ही समय में बहुत गरम हो जायेगा. इसलिए लम्बे समय के लिए पार्किंग करते वक़्त कार को छाया वाली जगह पर पार्क करें.

    यह भी पढ़ें: इस राज्य में हैंड्स फ्री डिवाइस से फोन पर की बात, तो होगी कार्रवाई, जानिए सबकुछ

    2 - कोशिश करें कि कार में लगे सिलेंडर की अधिकतम सीमा तक सीएनजी न भरें क्यूंकि गर्मियों में थर्मल एक्सपैंड हो जाता है. उदाहरण के लिए, यदि इन्सटाल्ड सिलेंडर की रिफिल क्षमता आठ लीटर है, तो परिचारक को केवल सात लीटर भरने के लिए कहें. चिंता न करें यदि आपकी सीएनजी खत्म हो गई है, तो हमेशा पेट्रोल पर स्विच करने का विकल्प होता है.

    3 - सीएनजी सिलेंडर पर एक्सपायरी डेट जरूर चेक कर लें. आमतौर पर एक सीएनजी सिलिंडर की उम्र लगभग 15 साल होती है, जो कार की उम्र के साथ साथ खत्म होती जाती है.

    यह भी पढ़ें: Maruti, Hyundai और Toyota की सेकंड हैंड कार खरीदनें पर होगा बड़ा फायदा, मिलेगी 1 साल की वारंटी और 7 दिन का फ्री ट्रांयल

    4 - एक सीएनजी सिलेंडर को हर तीन साल में हाइड्रो-टेस्टिंग की जरूरत होती है. इस टेस्टिंग से यह पता चल जाता है कि कहीं सिलिंडर में कोई लीक या डेंट तो नहीं है. इस टेस्टिंग में कार का सिलिंडर कितनी पावर दे रहा है यह भी पता लगाया जा सकता है.

    5 - यदि आपने लोकल मैकेनिक से सीएनजी किट लगवाई है, तो इसकी ऑथेंटिसिटी और सर्टिफिकेशन के लिए जांच करवाना हमेशा सबसे अच्छा होता है. अब सीएनजी किट कार कंपनियों द्वारा भी लगाए जाते है, जो कि लम्बे समय की वारंटी और ज्यादा बेहतर सुरक्षा के साथ आते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज