ड्रोन से होगी COVID-19 वैक्सीन की डिलीवरी! जानें क्या है प्लानिंग

ICMR को ड्रोन के जरिए वैक्सीन डिस्ट्रिब्यूशन के अध्ययन की अनुमति मिली. (सांकेतिक फोटो)

ICMR को ड्रोन के जरिए वैक्सीन डिस्ट्रिब्यूशन के अध्ययन की अनुमति मिली. (सांकेतिक फोटो)

Ministry of Civil Aviation ने IIT कानपुर के सहयोग से ड्रोन के जरिए कोविड-19 वैक्सीन के डिस्ट्रीब्यूशन के लिए ICMR को अध्ययन करने की अनुमति दे दी हैं. अगर सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले दिनों में देश के अंदर ड्रोन के जरिए जरूरतमंदों तक कोविड वैक्सीन ड्रोन के जरिए पहुंचाई जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 11:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है. ऐसे में कोविड-19 के खिलाफ वैक्सीनेशन को तेज करने के लिए Ministry of Civil Aviation और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने आईआईटी कानपुर के सहयोग से ड्रोन के जरिए कोविड-19 वैक्सीन के डिस्ट्रीब्यूशन के लिए ICMR को अध्ययन करने की अनुमति दे दी हैं. अगर सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले दिनों में देश के अंदर ड्रोन के जरिए जरूरतमंदों तक कोविड वैक्सीन ड्रोन के जरिए पहुंचाई जाएगी. बता दें Ministry of Civil Aviation ने ये अनुमति सशर्त दी है. जिसमें ICMR को एक साल की अवधि या अगले आदेश तक के लिए मान्य होगी.

ड्रोन के इस्तेमाल की इन्हें भी मिली है छूट - देहरादून, हल्द्वानी, हरिद्वार और रुद्रपुर के नगर निगम को भी सशर्त ड्रोन के इस्तेमाल की छूट मिली है. इसके लिए ये सभी GIS आधारित डेटाबेस और इलेक्ट्रॉनिक टैक्स रिसीप्ट का डाटा तैयार कर रहे हैं. वहीं वेदांत लिमिटेड को भी ड्रोन के जरिए मैप और डेटा इकट्ठा करने के लिए सशर्त अनुमति मिली हैं.

यह भी पढ़ें: यूपी में 23 अप्रैल से ड्राइविंग लाइसेंस बनना बंद, 15 मई के बाद नए सिरे से जारी होगा टाइम स्लॉट

चीन ने की मदद की पेशकश - भारत (India) में बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों पर चीन ने प्रतिक्रिया दी है. पड़ोसी मुल्क ने शुक्रवार को कहा है कि वे कोरोना वायरस का सामना करने के लिए भारत से बात करने के लिए तैयार है. खास बात है कि इससे एक दिन पहले चीन (China) ने भारत को मदद की पेशकश की थी. भारत में गुरुवार को संक्रमण के 3 लाख 14 हजार 835 नए मामले दर्ज किए गए हैं. यह दुनिया का एक दिन में सबसे बड़ा आंकड़ा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज