E-Vehicle पर सरकार का फोकस! अगले साल तक स्पेशल कॉरिडोर पर दौड़ेंगे Electric वाहन, सफर होगा आसान

E-Vehicle पर सरकार का फोकस! अगले साल तक स्पेशल कॉरिडोर पर दौड़ेंगे Electric वाहन, सफर होगा आसान
इस योजना के तहत यमुना एक्सप्रेसवे के रास्ते दिल्ली से आगरा के बीच इलेक्ट्रिक बसें और टैक्सियां राह आसान बनाएंगी

केंद्र सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric vehicle) को बढ़ावा देने के लिए जयपुर-दिल्ली-आगरा पहला ई-हाईवे (Electric Highway) होगा जहां इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए विशेष कॉरिडोर तैयार करने जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 26, 2020, 10:01 am IST
  • Share this:

    नई दिल्ली. पेट्रोलियम पदार्थों के आयात पर निर्भरता और प्रदूषण को कम करने के लिए केंद्र सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric vehicle) को बढ़ावा दे रही है. इस कड़ी में दिल्ली से आगरा के बीच देश के पहले ई व्हीकल हाईवे का शुरुआती ट्रायल रन बुधवार से शुरू हो गया. मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के अनुसार, सरकार प्राइवेट प्लेयर के साथ मिलकर ई-हाईवे (Electric Highway) बनाने की तैयारी कर रही है. जयपुर-दिल्ली-आगरा पहला ई-हाईवे होगा जहां इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए विशेष कॉरिडोर तैयार किया जा रहा है. इस योजना के तहत यमुना एक्सप्रेसवे के रास्ते दिल्ली से आगरा के बीच इलेक्ट्रिक बसें और टैक्सियां राह आसान बनाएंगी. वहीं, अगले साल फरवरी से दिल्ली जयपुर के बीच ट्रायल रन शुरू होगा.

    ई-कॉरिडोर की खासियत
    दिल्ली आगरा और दिल्ली जयपुर के बीच करीब 500 किलोमीटर के दोनों ही हाईवे दुनिया के पहले सबसे लंबे ई व्हीकल हाइवे होंगे. 500 किमी लंबे इस जयपुर आगरा ई कॉरिडोर की खासियत यह है कि इसमें ना केवल इलेक्ट्रिक पब्लिक ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था होगी, साथ ही अगर आप ई व्हीकल ड्राइव कर रहे हैं तो आपको चार्जिंग स्टेशन से लेकर टेक्निकल हेल्प या बैकअप की भी सुविधा दी जाएगी. दिल्ली आगरा रूट पर ट्रायल रन कि शुरुआत हो गई है जबकि दिल्ली जयपुर रूट पर ई व्हीकल के साथ ट्रायल रन की शुरुआत फरवरी 2021 में होगी.

    ये भी पढ़ें : आज उत्‍तर प्रदेश को 16 नेशनल हाइवे प्रोजेक्‍ट्स का तोहफा देगा केंद्र, 7500 करोड़ रुपये होगी लागत, राज्‍य को होंगे ये फायदे



    बनाए जाएंगे 20 चार्जिंग स्टेशन
    बता दें कि ये ई कोरिडोर 200 करोड़ निवेश से बनकर तैयार होगा. दोनों ई व्हीकल हाईवे पर कुल 20 चार्जिंग स्टेशन बनाए जाएंगे. इनमें 18 ग्रिड आधारित और 2 सौर ऊर्जा आधारित होंगे. नोएडा से आगरा के बीच आठ चार्जिंग स्टेशन का प्रस्ताव मंजूर हो गया है. जबकि आठ और स्टेशन बनाने की जरूरत समझी जा रही है. हालांकि दिल्ली आगरा के बीच पहले चरण में सिर्फ इलेक्ट्रिक कारों को उतारा जाएगा, जबकि दिल्ली जयपुर हाईवे पर इलेक्ट्रिक बसें शुरुआत में चलाई जाएंगी.

    ये भी पढ़ें : Petrol Diesel Price Today: और तेजी से बढ़ सकते हैं पेट्रोल डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में आज के नए रेट्स

    हर पेट्रोल पंप पर ई व्हीकल चार्जिंग कियोस्क लगाने की योजना
    बता दें कि देश के हर पेट्रोल पंप पर इलेक्ट्रिक व्हीकल्स चार्जिंग कियोस्क लगाने की योजना है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि केंद्र सरकार चाहती है कि देश के 69,000 पेट्रोल पंप पर कम से कम एक इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग Kiosk लगे और इस योजना को अंजाम देने के लिए तेजी से काम किया जा रहा है. नितिन गडकरी ने कहा है कि सरकार अगले 5 साल में भारत को ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरिंग का प्रमुख केंद्र बनाने की दिशा में काम कर रही है.