सालाना 1.8 लाख यूनिट ट्रैक्टर उत्पादन करेगा Escorts

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

एस्कॉर्ट लिमिटेड (Escorts Limited) मौजूदा मजबूत मांग को पूरा करने के लिए अपनी ट्रैक्टर उत्पादन क्षमता (Tractor Production Capacity) को बढ़ाकर वार्षिक 1.8 लाख यूनिट करने की योजना बना रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कृषि उपकरण और इंजीनियरिंग क्षेत्र की प्रमुख कंपनी एस्कॉर्ट लिमिटेड (Escorts Limited) मौजूदा मजबूत मांग को पूरा करने के लिए अपनी ट्रैक्टर उत्पादन क्षमता (Tractor Production Capacity) को बढ़ाकर वार्षिक 1.8 लाख यूनिट करने की योजना बना रही है. कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि इसके लिए वित्त वर्ष के बाकी हिस्से में 100 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा.

फिलहाल वार्षिक उत्पादन क्षमता 1.2 लाख यूनिट
कंपनी की वार्षिक उत्पादन क्षमता इस समय 1.2 लाख इकाई है और उसे उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष में ट्रैक्टर उद्योग कम से कम दो अंकों में बढ़ेगा, जबकि पहले एक अंकों में वृद्धि का अनुमान था. एस्कॉर्ट समूह के सीएफओ भारत मदान ने बताया, ''हम पहले ही कोविड-19 से पहले के स्तर से आगे बढ़ रहे हैं. क्षमता उपयोग और बिक्री, दोनों में हम कोविड-19 से पहले के स्तर से ऊपर हैं. हमारी घोषित क्षमता प्रति माह लगभग 10,000 ट्रैक्टर है, लेकिन हम क्षमता से आगे जा रहे हैं और जितना संभव हो सके उतना इसे बढ़ाने की कोशिश करेंगे, क्योंकि मांग इतनी अधिक है कि हम इसे पूरा करने में असमर्थ हैं.''

जनवरी-मार्च में मजबूत मांग की उम्मीद
उन्होंने कहा कि मौजूदा फेस्टिव और बुवाई का मौसम खत्म होने पर कंपनी क्षमता बढ़ाने की कोशिश करेगी और उसे जनवरी-मार्च की अवधि में एक बार फिर मजबूत मांग की उम्मीद है. उन्होंने कहा, ''अगले दो महीनों में हम कंपनी और आपूर्ति श्रृंखला के स्तर पर इन्वेंट्री बनाने की कोशिश करेंगे. हम उम्मीद करते हैं कि जनवरी से मार्च के बीच बेहद मजबूत मांग होगी. हम इस बार बहुत अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे हैं और इससे आगे बहुत अच्छी मांग (ट्रैक्टर की) आ सकती है.''



यह पूछे जाने पर कि कंपनी किस तरह से मांग को पूरा करने की योजना बना रही है, उन्होंने कहा कि एस्कॉर्ट ने कंपनी के साथ ही आपूर्ति श्रृंखला के स्तर पर भी उत्पादन क्षमता बढ़ाना शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा, ''छह से नौ महीनों में हम ऐसा करेंगे. हम कंपनी स्तर पर और आपूर्ति श्रृंखला के स्तर पर उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए आगे 100 करोड़ रुपये का निवेश करेंगे. निश्चित रूप से यह निवेश चालू वर्ष में होगा, लेकिन नकदी प्रवाद अगले वित्त वर्ष में 60:40 के अनुपात में जा सकता है.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज