एक्सपर्ट्स ने की New Motor Vehicle Act की तारीफ, ये है वजह

एक्सपर्ट्स ने की New Motor Vehicle Act की तारीफ, ये है वजह
New Motor Vehicle Act 2019 सितंबर की पहली तारीख से लागू हुआ है.

पिछले पांच सालों में 7,33,000 लोगों की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. भारी जुर्माने के प्रति लोगों के नज़रिए को बदलना होगा और रोड सेफ्टी से जुड़े मुद्दों को ठीक से देखना होगा.

  • News18.com
  • Last Updated: September 26, 2019, 12:59 PM IST
  • Share this:
आजकल New Motor Vehicle Act काफी चर्चा में है. चालान को लेकर कुछ लोग पक्ष में हैं तो कुछ लोग इस नियम की आलोचना करते हैं. लेकिन एक्सपर्ट्स ने इस कानून की तारीफ की है और कहा कि इससे सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में कमी आएगी. वर्ल्ड हेल्थ ऑरगेनाइज़ेशन का हवाला देते हुए रोड सेफ्टी एक्सपर्ट्स और सिविल सोसायटी ऑर्गेनाइज़ेशन ने एक कॉन्फेरेंस में कहा कि पिछले पांच सालों में 7,33,000 लोगों की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. बता दें कि मोटर वाहन (संशोधन) ऐक्ट 2019 सितंबर की पहली तारीख से लागू हुआ है.

पिछले हफ्ते केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि पिछले साल ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के चलते करीब 5 लाख मौतें हुई हैं. एक्सपर्ट्स ने कहा कि इस नए मोटर वाहन ऐक्ट नियम के बाद सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी. राज्यसभा सांसद और मोटर वाहन ऐक्ट के लिए बने सेलेक्ट कमेटी के चेयरमैन रहे विनय पी सहस्रबुद्धे ने राज्यों से अपील की कि इस नियम को पूरी तरह से लागू करें.

राजस्थान सरकार के ट्रांसपोर्ट कमिश्नर राजेश यादव ने कहा कि बजाय इस कानून की अच्छी बातों को प्रमोट करने के कुछ लोग इसका मज़ाक बना रहे हैं. रोड सेफ्टी काफी बड़ा मुद्दा है. सबसे ज्यादा मौतें घर में कमाने वाले सदस्य की होती हैं. उन्होंने कहा, 'केंद्र और राज्य सरकार के स्तर पर इसके लिए काफी जागरुकता की ज़रूरत है ताकि इसके प्रोविज़न को ज्यादा लोगों तक पहुंचाया जा सके.'



कंज़्यूमर यूनिटी एंड ट्रस्ट सोसायटी (CUTS) के निदेशक जॉर्ज चेरियान ने कहा, 'नए मोटर वाहन ऐक्ट में तमाम अच्छे प्रोविज़न्स हैं जिनको हाइलाइट नहीं किया जाता. CUTS के महासचिव प्रदीप एस मेहता ने कहा, 'हमें भारी जुर्माने के प्रति लोगों के नज़रिए को बदलना होगा और रोड सेफ्टी से जुड़े मुद्दों को ठीक से देखना होगा. चूंकि लोगों में अब धैर्य की कमी दिखती है और वे सड़क के नियमों का पालन नहीं करना चाहते जिससे और ज्यादा दुर्घटनाएं होती हैं.' उन्होंने कहा कि फिल्म मेकर्स और ऐक्टर्स को भी इसके लिए आगे आना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज