होम /न्यूज /ऑटो /VIDEO: लॉन्च हुई पहली 'मेड इन इंडिया' हाइड्रोजन फ्यूल बस, पुणे की सड़कों पर भरेगी फर्राटे

VIDEO: लॉन्च हुई पहली 'मेड इन इंडिया' हाइड्रोजन फ्यूल बस, पुणे की सड़कों पर भरेगी फर्राटे

पुणे में इंडिया की पहली हाइड्रोजन बस लॉन्च हुई.

पुणे में इंडिया की पहली हाइड्रोजन बस लॉन्च हुई.

हाइड्रोजन विजन भारत के लिए महत्वपूर्ण है ताकि आत्मनिर्भर और सुलभ स्वच्छ ऊर्जा सुनिश्चित की जा सके साथ ही जलवायु परिवर्त ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

हाइड्रोजन फ्यूल वाली यह बस भारत में विकसित की गई है.
रविवार को पुणे में इसका शुभारंभ किया गया.
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने इस बस सर्विस की शुरुआत की.

नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने रविवार को ‘भारत की पहली स्वदेशी रूप से विकसित हाइड्रोजन ईंधन सेल बस’ की शुरुआत की. इस बस को वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) और निजी फर्म केपीआईटी लिमिटेड ने डिवेलप किया है और इसे पुणे में प्रदर्शित किया गया.

मोदी का हाइड्रोजन विजन
केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री का कहना है कि प्रधान मंत्री मोदी का हाइड्रोजन विजन भारत के लिए महत्वपूर्ण है ताकि आत्मनिर्भर और सुलभ स्वच्छ ऊर्जा सुनिश्चित की जा सके साथ ही जलवायु परिवर्तन के लक्ष्यों को पूरा किया जा सके साथ ही नए बिजनेस और नौकरियां पैदा की जा सकें. उन्होंने कहा, ग्रीन हाइड्रोजन एक उत्कृष्ट स्वच्छ ऊर्जा वेक्टर है जो रिफाइनिंग उद्योग, उर्वरक उद्योग, इस्पात उद्योग, सीमेंट उद्योग और भारी वाणिज्यिक परिवहन क्षेत्र को डीकार्बोनाइज बनाने में पूरी तरह सक्षम है.

यह भी पढ़ें : बस थोड़ा इंतजार ! अगले महीने भारत में होगी 5 धांसू कारों की एंट्री


CO2 उत्सर्जन पर रोक
सिंह के हवाले से कहा गया है कि बस को चलाने के लिए ईंधन सेल हाइड्रोजन और वायु का उपयोग करके बिजली बनाता है और बस से सिर्फ पानी निकलता है. इसलिए यह संभवतः परिवहन का सबसे ज्यादा पर्यावरण के अनुकूल साधन है. प्रेस रीलीज के मुताबिक, लंबी दूरी के मार्गों पर चलने वाली एक डीजल बस आमतौर पर सालाना 100 टन CO2 का उत्सर्जन करती है और भारत में ऐसी दस लाख से अधिक बसें हैं.

यह भी पढ़ें : नेक्सॉन ईवी की टेंशन बढ़ाने आ रही हुंडई की इलेक्ट्रिक कार, लॉन्च से पहले जाने लें फीचर्स

उन्होंने कहा कि हाइड्रोजन ईंधन सेल ट्रकों की परिचालन लागत डीजल पर चलने वाले ट्रकों की तुलना में कम है और इससे देश में माल ढुलाई में क्रांति आ सकती है. जितेन्द्र सिंह का कहना है, लगभग 12-14 प्रतिशत CO2 उत्सर्जन डीजल से चलने वाले भारी वाहनों से होता है. हाइड्रोजन ईंधन सेल वाहन इस क्षेत्र में ऑन-रोड उत्त्सर्जन को खत्म करने के लिए उत्कृष्ट साधन प्रदान करते हैं.

Tags: Air pollution, Auto News, Car Bike News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें