नितिन गडकरी का बड़ा ऐलान: फ्री होगा टोल प्लाजा! देश के सभी जगहों से कर दिए जाएंगे खत्म, जानें पूरा प्लान..

Toll Plaza

Toll Plaza

केद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Road Transport and Highways Minister) ने गुरुवार टोल प्लाजा (Toll palza) को लेकर बड़ा ऐलान किया. लोकसभा में नितिन गडकरी (Nitin gadkari)ने कहा कि अगले एक साल में देश से सभी टोल प्लाजा खत्म कर दिया जाएगा. अब गाड़ियों में जीपीएस सिस्टम (Gps system) लगाया जाएगा जिसकी मदद से टोल शुल्क (Free toll) का भुगतान हो सकेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 3:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Road Transport and Highways Minister) ने गुरुवार टोल प्लाजा (Toll palza) को लेकर बड़ा ऐलान किया. लोकसभा में नितिन गडकरी (Nitin gadkari)ने कहा कि अगले एक साल में देश से सभी टोल प्लाजा खत्म कर दिया जाएगा. हालांकि इसका यह मतलब नहीं होगा कि टोल देना ही नहीं पड़ेगा. अब गाड़ियों में जीपीएस सिस्टम (Gps system) लगाया जाएगा जिसकी मदद से टोल शुल्क (Free toll) का भुगतान हो सकेगा.

क्या कहा नितिन गडकरी ने?

गुरुवार नितिन गडकरी ने कहा कि पिछली सरकारों के दौरान कई स्थानों पर शहरी इलाकों के भीतर टोल बनाए गए जो गलत और अन्यायपूर्ण है. इन्हें हटाने का कार्य एक साल में पूरा हो जायेगा. लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान सदन के सदस्यों गुरजीत औजला, दीपक बैज और कुंवर दानिश अली ने पूरक प्रश्नों के उत्तर में यह जानकारी उनकी ओर से दी गई. उन्होंने कहा कि शहरों के भीतर टोल पहले बनाए गए. यह गलत है और अन्यायपूर्ण है. एक साल में ये टोल भी खत्म हो जाएगा. इस तरह के टोल में चोरियां बहुत होती थीं. टोल प्लाजा खत्म होगा लेकिन टोल देना होगा. गडकरी ने बताया कि 93 फीसदी गाड़ियां FASTag का उपयोग कर टोल का भुगतान करती हैं.

ये भी पढ़ें- Samsung की चेतावनी: अर्थव्यवस्था की रफ्तार पड़ सकती है सुस्त! ये है बड़ी वजह
गाड़ियों में GPS सिस्टम लगाया जाएगा

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब गाड़ियों में GPS सिस्टम लगाया जाएगा, जिसकी मदद से टोल शुल्क का भुगतान हो सकेगा और इसके बाद शहर के अंदर इस तरह के टोल की जरूरत नहीं होगी. एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि 90 फीसदी जमीन अधिग्रहण किए बिना हम परियोजना अवार्ड नहीं करते. जमीन का अधिग्रहण करने के बाद विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज