सरकार का बड़ा बयान, सभी व्हीकल BS 6 होने के बाद प्रदूषण काफी कम होगा

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर.
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर.

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा देश में अब बीएस-6 वाहनों (BS-6 vehicles) के रजिस्ट्रेशन हो रहा है. ऐसे में देश के अंदर एक निश्चित समय के बाद सभी वाहन BS6 हो जाएंगे. जिससे आने वाले समय में प्रदूषण (Pollution) काफी हद तक कम होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 4:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को 'इंडिया सीईओ फोरम ऑन क्लाइमेट चेंज' की बैठक में वर्चुअली हिस्सा लिया. इस दौरान उन्होंने कहा कि देश में 1 अप्रैल 2020 से बीएस-6 वाहनों के रजिस्ट्रेशन हो रहा है. ऐसे में देश के अंदर एक निश्चित समय के बाद सभी वाहन BS6 हो जाएंगे. जिससे आने वाले समय में प्रदूषण काफी हद तक कम होगा.

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपने संबोधन में कहा कि देश में पेरिस जलवायु समझौते का पालन करने के लिए BS 6 वाहनों की बिक्री पर जोर दिया है. उन्होंने कहा कि भारत ने पेरिस में घोषणा की थी हम कार्बन उत्सर्जन की तीव्रता को 35 प्रतिशत तक कम कर देंगे, उसी पर काम जारी है.






BS क्या है?- बीएस स्टैंडर्ड दरअसल भारत सरकार के जरिए वाहन उत्सर्जित प्रदूषण के लिए तय किए गए मानक हैं. इसका मकसद सिर्फ वाहनों से निकलने वाले धुएं को कंट्रोल करना है. ताकि पर्यावरण को बचाया जा सके. सुप्रीम कोर्ट ने पूरे देश में बीएस-4 वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी थी. जिसके बाद देश में अप्रैल 2020 से बीएस-6 मानक के ही वाहनों की बिक्री हो रही है.

यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले Tata Motors की इन कारों पर मिल रहा है 65 हजार तक का डिस्काउंट, जानिए सबकुछ



BS6 व्हीकल से ये होगा फायदा- बीएस-6 से वाहनों की इंजन की क्षमता बढ़ेगी और उत्सर्जन कम होगा. जिससे लोगों को अधिक एवरेज मिलेगा. वहीं परिवहन विशेषज्ञों का कहना है कि बीएस-6 वाहन से हवा में प्रदूषण के कण 0.05 से घटकर 0.01 रह जाएंगे. यानी बीएस-6 वाहन व बीएस-6 पेट्रोल-डीजल होने पर प्रदूषण 75%कम हो जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज