Home /News /auto /

हेलमेट खरीदते वक्त आप भी तो नहीं करते ये गलतियां! इन बातों का रखें ध्यान, हमेशा होगा फायदा

हेलमेट खरीदते वक्त आप भी तो नहीं करते ये गलतियां! इन बातों का रखें ध्यान, हमेशा होगा फायदा

राइडिंग के हिसाब से खरीदें हेलमेट (फाइल फोटो)

राइडिंग के हिसाब से खरीदें हेलमेट (फाइल फोटो)

कुछ लोगों को हेलमेट खरीदते वक्त ये परेशानी भी होती है कि किस तरह का हेलमेट लेना चाहिए. तो चलिए आज बताते हैं इसमें क्या-क्या खूबियां होनी चाहिए.

    नई दिल्ली. अगर आप भी 2-व्हीलर चलाते हैं तो सुरक्षा के लिए हेलमेट अनिवार्य है. लेकिन अक्सर लोग इसको लेकर काफी लापरवाही कर देते हैं. इसे खरीददे वक्त रुपए बचाने के चक्कर में सस्ता हेलमेंट खरीद लेते हैं, ये भी सोचे बिना कि किसी दुर्घटना के वक्त क्या ये हमारी सुरक्षा कर पाएगा. हालांकि, कुछ लोगों को हेलमेट खरीदते वक्त ये परेशानी भी होती है कि किस तरह का हेलमेट लेना चाहिए. तो चलिए आज बताते हैं इसमें क्या-क्या खूबियां होनी चाहिए.

    ट्रैक डे हेलमेट
    यदि आपके पास स्पोर्ट्स बाइक है तो आपको ट्रैक डे हेलमेट खरीदना चाहिए. ये फुल फेस हेलमेट हैं, जो आपके सिर को ज्यादा सुरक्षा देता है. इन हेलमेटों में विशेष रूप से ऊपरी सिर पर स्थित एयर वेंट भी होते हैं, जो हवा के पास होने की अनुमति देते हैं. इसकी कीमत थोड़ी अधिक है और जब आप इसकी तुलना किसी और चीज से करते हैं तो खरीदना महंगा हो सकता है, लेकिन सेफ्टी के मामले में यह सबसे बेस्ट है.

    ये भी पढ़ें-  भारत में इन 5 स्कूटरों की हो रही सबसे ज्यादा बिक्री, सस्ते के साथ-साथ एवरेज भी जबरदस्त

    एडीवी हेलमेट
    रेस हेलमेट के अलावा, एडवेंचर मोटरसाइकलिस्टों के लिए एडीवी हेलमेट, मॉड्यूलर हेलमेट हैं. क्रूजर की सवारी करने के लिए खुले चेहरे वाले हेलमेट और मोटोक्रॉस हेलमेट हैं. ये सभी हेलमेट अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं, इन सभी में सबसे सुरक्षित फुल फेस हेलमेट हैं.

    सेफ्टी रेटिंग का रखें खास ध्यान
    सेफ्टी रेटिंग वाला हेलमेट कई सुरक्षा स्तरों पर जांच होने के बाद तैयार होता है. यह आम हेलमेट की तुलना में थोड़े महंगे हो सकते हैं, लेकिन जरूरत के समय अपको पूरा कवरेज देते हैं. भारत में हेलमेट के लिए ISI मानक है. इसके अलावा स्नेल मेमोरियल फाउंडेशन (SNELL), एकोनॉमिक कमिशन ऑफ यूरोप (ECE), सेफ्टी हेलमेट असेसमेंट एंड रेटिंग प्रोग्राम (SHARP) और परिवहन विभाग (DOT) के सुरक्षा मानक भी हैं.

    ये भी पढ़ें- Bajaj लॉन्च करेगी दो-सिलेंडर वाली ये धांसू Pulsar! कंपनी ने ट्रेडमार्क कराया नाम, जानें डिटेल्स  

    डबल-डी लॉक हैं जरूरी
    आप जब भी हेलमेट लें ये सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा चुने गए हेलमेट में डबल-डी लॉक हो. डबल-डी लॉक वाले हेलमेट फास्टनर के एक तरफ दो धातु डी-रिंग से जुड़ा होता है. हेलमेट पहनने पर यह रिंग के चारों ओर एक तंग गांठ बनाता है, जिससे झटका पड़ने पर यह आसानी से नहीं खुलता. इस तरह दुर्घटना के दौरान यह राइडर के सिर से नहीं निकलता है और गंभीर चोट से बचाता है.

    Tags: Auto News, Autofocus, Car Bike News, Helmet

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर