अपनी गाड़ी के लिए कैसे चुने बेस्ट इंजन ऑयल, जानें यहां

अपनी गाड़ी के लिए कैसे चुने बेस्ट इंजन ऑयल, जानें यहां
कैसे चुने बेस्ट इंजन ऑयल?

गाड़ी के मॉडल के हिसाब से इंजन ऑयल का चुनाव करना चाहिए. गाड़ी के इंजन की परफॉर्मेंस, सुरक्षा और इंजन की लाइफ ऑयल पर निर्भर करती है. आइए जानते हैं आप अपनी गाड़ी के लिए कैसे चुन सकते हैं बेस्ट इंजन ऑयल.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2020, 7:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आपकी गाड़ी के लिए इंजन ऑयल (Engine Oil) बेहद जरूरी है. उतना ही जरूरी है बेस्ट इंजन ऑयल चुनना. इंजन ऑयल इंजन की लाइफ बढ़ाता है. साथ ही उच्च ताप पर इंजन के कंपोनेंट्स को लुब्रिकेशन के जरिये स्मूथ रखता है. यह इंजन को ठंडा भी रखने में मदद करता है, जिससे इंजन के कंपोनेंट में घर्षण कम होता है. साथ ही ऑयल इंजन में जमा कार्बन और गंदगी को भी साफ करता है. आज हम आपको बता हैं आप अपनी गाड़ी के लिए कैसे चुन सकते हैं बेस्ट इंजन ऑयल.

कैसे चुने बेस्ट इंजन ऑयल?
गाड़ी के मॉडल के हिसाब से इंजन ऑयल का चुनाव करना चाहिए. गाड़ी के इंजन की परफॉर्मेंस, सुरक्षा और इंजन की लाइफ ऑयल पर निर्भर करती है. समय के साथ इंजन की तकनीक में बदलाव आया है. अब सभी ऑटो कंपनियां कार की इंजन क्षमता के अनुसार इंजन ऑयल तय करती है. जैसे पेट्रोल इंजन के लिए अलग और डीजल इंजन के लिए अलग. इसलिए जरूरी है कि कार कंपनी जो रिकोमेंड करती है, वही इंजन ऑयल डलवाएं.

ये भी पढ़ें: 7 से 12 लाख रुपये बजट की बेस्ट कॉम्पैक्ट SUV, जानें आपके लिए कौन सा है बेहतर!
इंजन ऑयल की चिकनाहट का ध्यान रखें


कार के लिए इंजन ऑयल खरीदते वक्त ये जरूर ध्यान रखें कि उसमें विस्कोसिटी यानी चिकनाहट कितनी है. ऑयल में विस्कोसिटी जितना ज्यादा होता है, चिकनाहट भी उतनी ज्यादा होगी. अधिक तापमान होने की वजह से समय के साथ-साथ ऑयल अपनी चिकनाहट खो देता है. वहीं जलने के कारण ऑयल कम भी हो जाता है. इसके साथ लगातार इंजन के कई कंपार्टमेंट में घर्षण होने से ऑयल गंदा भी होता है, जिससे चिकनाहट घट जाती है. इसलिए ऑयल की विस्कोसिटी को चेक कराते रहें.

पेट्रोल इंजन के लिए W5-30 ऑयल
आपकी गाड़ी कौन से फ्यूल पर चलती है. जैसे पेट्रोल, डीजल, सीएनजी या एलपीजी. फ्यूल के लिहाज से इंजन ऑयल डाला जाता है. पेट्रोल इंजन की आरपीएम ज्यादा होती है यानी उसकी स्पीड ज्यादा होती है. इसी वजह से पेट्रोल इंजन वाली कार के लिए कंपनियां W5-30 ऑयल रिकोमेंड करती है.

ये भी पढ़ें: 22 साल बाद फोर्ड ला रही है जबरदस्त SUV Ford Bronco, 18 मार्च को उठ सकता है इससे पर्दा

डीजल इंजन के लिए W15-40 ऑयल
डीजल इंजन का कम्बशन सिस्टम अलग होता है. इसमें एयर और फ्यूल का मिश्रण हाई प्रेशर से ब्लास्ट होता है. इस वजह से इंजन की परफॉर्मेंस बेहतर रहे और इंजन के कम्पोनेंट जल्दी घिसे नहीं, उसके लिए ऑयल में ज्यादा चिकनाहट होना बेहद जरूरी है. साथ ही डीजल इंजन में बहुत ज्यादा कार्बन भी जमा होता है. इसी वजह से W15-40 से ज्यादा विस्कोसिटी वाले इंजन ऑयल का इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़ें: इन प्रीमियम बाइक्स पर मिल रही 5.5 लाख रुपये की छूट, यहां जानें ऑफर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज