ड्रीम कार खरीद रहे हैं तो इन पांच बातों का जरूर ध्यान रखें, कीमतों में होगा फायदा

फैमिली में 4 से 5 लोग है और बजट कम है तो आप आल्टो, स्विफ्ट या टाटा टिआगो जैसी कारों का चुनाव कर सकते हैं.

नई कार की खरीदी करते वक्त कार की डाउनपेमेंट और ईएमआई को अपने बजट के अनुसार ध्यान में रखना चाहिए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. हमारे देश में हर आम व्यक्ति का एक सपना होता है कि उसके पास अपनीमनी खुद की कार हो. इसलिए जब कोई पहली कार खरीदता है तो इसे ड्रीम कार कहा जाता है. इस ड्रीम कार को खरीदने से पहले यदि पांच बातों को ध्यान रखा जाए तो कई फायदे मिल सकते हैं.
    वैसे, नई कार का चुनाव करते वक्त ग्राहक अपने बजट और कार के माइलेज की चिंता करते हैं. ऐसे में सवाल ये आ जाता है की नई कार कौन सी सही होगी और कौन सी नहीं. इसलिए आज हम आपको यहां 5 खास बातें बता रहे हैं जो आपको नई कार लेते वक्त ध्यान में रखनी हैं. इस बातों को ध्यान में रख कर आप अपने लिए अपनी ड्रीम कार ले सकते हैं.
    यह भी पढ़ें : दवा, दूध व सब्जी की तरह इस स्टेट में शराब आवश्यक वस्तु, लॉकडाउन में खुली रहेंगी लिकर शॉप्स

    भारत में अभी सबसे सस्ती कार मारुती आल्टो
    किसी भी नई कार को खरीदने से पहले ग्राहक को अपने बजट को धयान में रखना चाहिए. बजट ऐसा होना चाहिए की ग्राहक को कार लेने के बाद आम खर्चों में दिक्कत न हो. नई कार को लेते वक़्त कार की डाउनपेमेंट और EMI को भी अपने बजट के अनुसार धयान में रखना होता है. भारत में अभी सबसे सस्ती कार मारुती आल्टो है जिसके शुरुआती कीमत सिर्फ 2.99 लाख रुपए (एक्स-शोरूम दिल्ली) है.
    जरूरत को देखें और तब कार सेगमेंट का चुनाव करें
    बाजार में सभी सेग्मेंट्स की कारें मौजूद है. अपनी जरूरत को देखें और तब कार सेगमेंट का चुनाव करें. अगर आपकी फॅमिली ने 4 से 5 लोग है और बजट कम है तो आप आल्टो, स्विफ्ट या टाटा टिआगो जैसी कारों का चुनाव कर सकते हैं. अगर आपकी फॅमिली बड़ी है तो आप बजट को बढ़ा कर बाजार में मौजूद एसयूवी या एमपीवी जैसे मारुति अर्टिगा, टोयोटा इनोवा, ब्रेजा या हुंडई क्रेटा का चुनाव कर सकते हैं.
    यह भी पढ़ें : कोरोना की वजह से इस शेयर से निवेशक हुए मालामाल, एक साल की कमाई जानकार हैरान रह जाएंगे आप

    ऑनलाइन, परिचितों या डीलर से जानकारी हासिल करें
    किसी भी नई कार को खरीदते वक्त सिर्फ कार के लुक या डिज़ाइन को देख कर चुनाव न करें. कार को लेने से पहले उसके बारे में जानकारी ले लें. जो कार आप लेना चाहते है उसके बारे में ऑनलाइन, परिचितों या डीलर आदि से जानकारी ले सकते हैं. कार में मेंटनेंस के खर्चों, उसकी एक्सेसरीज और माइलेज के बारे में जानकारी प्राप्त करें.
    कार का इस्तेमाल बहुत कम हैं तो पेट्रोल कार सही चुनाव
    पेट्रोल कार का चुनाव करें की डीजल कार का? ये सवाल भी आपको कंफ्यूज कर सकता है. भारत में आज पेट्रोल और डीजल की कीमतों ज्यादा अंतर देखने को नहीं मिलता. जबकि कुछ साल पहले पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 25 से 30 रुपए तक का अंतर देखने को मिलता था. आपको कार खरीदते वक्त यह भी ध्यान में रखना होता है की डीजल कार के दाम पेट्रोल कार के मुकाबले ज्यादा होते हैं और इसमें मेंटेनेंस का खर्च भी ज्यादा आता है. अगर आपको लगता है कि आप कार का इस्तेमाल बहुत कम करने वाले हैं तो पेट्रोल कार सही चुनाव होगा. वहीं अगर आप डेली कार को 70 से 100 किलोमीटर तक चलाते हैं तो डीजल कार आपके लिए सही रहेगी. डीजल कारें व्यवसायिक इस्तेमाल के लिए बेहतर विकल्प होती हैं.
    यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

    टेस्ट ड्राइव में कार की हैंडलिंग, सस्पेंशन, स्टीयरिंग कमांड आदि को परखें
    टेस्ट ड्राइव लेते वक़्त आप अपने दिमाग में 2 से 3 कारों का चयन करें. टेस्ट ड्राइव करते वक्त कार की हैंडलिंग, सस्पेंशन, स्टीयरिंग कमांड, ब्रेकिंग कंट्रोल और माइलेज पर पूरा ध्यान रखें. कार को टेस्ट ड्राइव करते वक़्त आप कार को अच्छी और खराब सड़क दोनों पर टेस्ट करें. जब आपको टेस्ट ड्राइव से पूरी तसल्ली मिल जाये तब ही अपनी ड्रीम कार का चुनाव करें.