ड्रंक ड्राइविंग को रोकने के लिए इंडियन आर्मी ने निकाला नया तरीका

ड्रंक ड्राइविंग को रोकने के लिए इंडियन आर्मी ने निकाला नया तरीका
अगर कोई शराब पीकर गाड़ी चलाना चाहेगा या सीट बेल्ट नहीं पहनेगा तो वीकल स्टार्ट नहीं होगा.

अगर कोई शराब पीकर गाड़ी चलाना चाहेगा या सीट बेल्ट नहीं पहनेगा तो वीकल स्टार्ट नहीं होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 28, 2019, 2:30 PM IST
  • Share this:
कैप्टन ओंकार काले और उनकी टीम ने आर्मी ट्रकों में शराब पीकर ड्राइव (Drunk and Drive) करने आदत को रोकने के लिए एक नया तरीका निकाला है. अगर कोई शराब पीकर गाड़ी चलाना चाहेगा या सीट बेल्ट नहीं पहनेगा तो ट्रक स्टार्ट नहीं होगा. ऐसा इसलिए किया गया है ताकि सेना में होने वाली दुर्घटनाओं को रोका जा सके. इसके लिए सेना ने इंटीग्रेटेड वीकल सेफ्टी सिस्टम विकसित किया है.

हालांकि, पश्चिम में इस तरह का सिस्टम डेवलप किया जा चुका है लेकिन भारत में अभी भी इसकी कमी है. पिछले साल उत्तराखंड के एक रिसर्चर ने इस तरह की टेक्नॉलजी विकसित की थी. आरपी जोशी, आकाश पांडेय और कुलदीप पटेल ने इस तरह का प्रोटोटाइप डेवेलप किया था जो कि जंगली घास और वेस्ट प्रोडक्ट्स द्वारा उत्पन्न हुए ग्रैफीन से बना था.

ग्रैफीन का इसमें खास रोल होता है क्योंकि ग्रैफीन कोटेड इलेक्ट्रोड्स एथिल अल्कोहल के एसिटिक एसिड में ऑक्सीडेशन को बढ़ाते हैं. तो अल्कोहल ज्यादा होने पर यह डिवाइस को बंद कर देगा. ड्राइवर को वीकल को स्टार्ट करने के लिए ग्रैफीन सेंसर में पहले फूंकना होगा. इससे सेंसर ऐक्टिव हो जाएगा और यह ड्राइवर के ब्लड में मौजूद अल्कोहल की मात्रा का विश्लेषण करेगा. साथ ही मान लीजिए कि ड्राइवर गाड़ी चलाते वक्त नींद आ रही होगी तो वह आंखों की मूवमेंट को सेंस करके एलर्ट कर देगा. अगर ड्राइवर मोबाइल फोन पर बात कर रहा होगा तो भी यह एलर्ट भेज देगा.



इस आदमी ने गुस्से में हेलीकॉप्टर से गिरा दी 2 करोड़ की कार, देखें वीडियो
उबर से महिला कर रही थी कैब बुक, ऑप्शन में सबसे सस्ती मि्ली हेलीकॉप्टर राइड
2020 में SUV से लेकर इलेक्ट्रिक तक Volkswagen करेगा 34 गाड़ियां लॉन्च
Mahindra की गाड़ियों पर मिल रही 4 लाख तक की छूट, जानें कब तक है ऑफर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading