Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    अक्टूबर में M&M की बिक्री 14 फीसदी गिरी, ट्रैक्टर की बिक्री में वृद्धि

    महिंद्रा एंड महिंद्रा
    महिंद्रा एंड महिंद्रा

    दिग्गज वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra and Mahindra) की कुल बिक्री अक्टूबर महीने में 14.52 फीसदी कम होकर 44,359 यूनिट्स पर आ गई.

    • Share this:
    नई दिल्ली. दिग्गज वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahindra and Mahindra) की कुल बिक्री अक्टूबर महीने में 14.52 फीसदी कम होकर 44,359 यूनिट्स पर आ गई. कंपनी की ओर से जारी एक बयान में बताया गया कि उसने साल भर पहले के समान महीने में 51,896 वाहनों की बिक्री की थी.

    यात्री वाहनों की बिक्री बढ़ी
    कंपनी की घरेलू बाजार में यात्री वाहनों की बिक्री एक प्रतिशत बढ़कर 18,622 यूनिट्स पर पहुंच गई. साल भर पहले इसी महीने कंपनी ने 18,460 वाहनों की बिक्री की थी. कमर्शियल व्हीकल के खंड में कंपनी ने अक्टूबर में 3,118 इकाइयों की बिक्री की. यह अक्टूबर 2019 के 7,151 वाहनों की तुलना में 56 प्रतिशत कम है. इस दौरान कंपनी का निर्यात 25 प्रतिशत कम होकर 2,021 वाहनों पर आ गया. कंपनी ने साल भर पहले अक्टूबर में 2,703 वाहनों का निर्यात किया था.

    महिंद्रा एंड महिंद्रा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (वाहन खंड) विजय राम नाकरा ने कहा, ''हम आपूर्ति की कुछ बाधाओं के बाद भी यूटिलिटी वाहनों में चार प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कर उत्साहित हैं. स्कॉर्पियो, बोलेरो और एक्सयूवी 300 जैसे ब्रांड ने अच्छा प्रदर्शन जारी रखा है. हाल ही में पेश थार ने एक महीने के भीतर बुकिंग का रिकॉर्ड बनाया है.''
    महिंद्रा ट्रैक्टर की बिक्री अक्टूबर में दो फीसदी बढ़ी


    महिंद्रा एंड महिंद्रा की कुल ट्रैक्टर बिक्री अक्टूबर में दो प्रतिशत बढ़कर 46,558 इकाई रही। पिछले साल इसी माह में कंपनी ने 45,433 ट्रैक्टर बेचे थे. कंपनी ने रविवार को एक बयान में कहा कि समीक्षावधि में उसकी घरेलू बिक्री दो प्रतिशत बढ़कर 45,588 ट्रैक्टर रही जो पिछले साल इसी माह में 44,646 ट्रैक्टर थी. इस दौरान कंपनी का निर्यात 970 यूनिट्स रहा जो पिछले साल अक्टूबर की 787 यूनिट्स के मुकाबले 23 प्रतिशत अधिक है.

    कंपनी के कृषि उपकरण विभाग के अध्यक्ष हेमंत सिक्का ने कहा कि इस बार हमने अभूतपूर्व खुदरा मांग देखी है. यह थोक मांग से ज्यादा है. इसकी वजह खरीफ की फसल का अच्छा रहना और बाजार में नकदी उपलब्ध होना है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज