Mahindra करेगी इंडियन आर्मी को 1,300 स्पेशल व्हीकल सप्लाई, रणक्षेत्र में आएंगे काम

महिंद्रा आर्मी को करेगा स्पेशल व्हीकल्स सप्लाई.

महिंद्रा आर्मी को करेगा स्पेशल व्हीकल्स सप्लाई.

Mahindra Defense Systems Limited द्वारा निर्मित ये वाहन पूरी तरह से 'मेड-इन-इंडिया' होंगे और ये वाहन लाइट कॉम्बैट वाहन है, और छोटे हथियारों के हमले से बचाव के लिए पूरी तरह से कारगर होंगे. साइज में छोटी ये गाड़िया ऑपरेशन एरिया में आसानी से मूवमेंट कर सकते है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 4:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की जानी मानी व्हीकल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी Mahindra की ही अलग विंग महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स लिमिटेड(MDSL) ने रक्षा मंत्रालय के साथ इस हफ्ते की शुरुआत में, भारतीय सेना के लिए 1,300 लाइट स्पेशलिस्ट वाहनों की आपूर्ति के लिए एक करार किया है. इनकी डिलीवरी की समय सीमा 4 साल है और वाहनों की कीमत 1,056 करोड़ रुपये आंकी गई है.

महिंद्रा डिफेंस सिस्टम लिमिटेड द्वारा निर्मित ये वाहन पूरी तरह से 'मेड-इन-इंडिया' होंगे और ये वाहन लाइट कॉम्बैट वाहन है, और छोटे हथियारों के हमले से बचाव के लिए पूरी तरह से कारगर होंगे. साइज में छोटी ये गाड़िया ऑपरेशन एरिया में आसानी से मूवमेंट कर सकते है.

यह भी पढ़ें: Maruti, Hyundai और Renault की हैचबैक कारों पर मिल रहा है शानदार डिस्काउंट, यहां देखें पूरा ऑफर

रक्षा मंत्रालय ने बयान देते हुए कहा की "ये वाहन कॉम्बैट स्पेशल होंगे, और इन वाहनों का प्रयोग एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, लाइट मशीनगन, ऑटोमैटिक ग्रेनेड लांचर आदि की ट्रांसपोर्टेशन के लिए विभिन्न इन्फेंट्री यूनिट्स के बीच प्रयोग में लाया जायेगा". महिंद्रा का ये प्रोजेक्ट भारत के आत्मनिर्भर भारत और 'मेक इन इंडिया' अभियान के लिए मील का पत्थर साबित होगा. महिंद्रा डिफेंस के अध्यक्ष एसपी शुक्ला ने ट्विटर पर लिखा, ''हमें भारतीय सेना के स्टैंडर्ड के अनुसार भारत में पहले ऐसे स्वदेशी वाहन के विकास और निर्माण पर गर्व है".
यह भी पढ़ें: पूरी तरह भरोसा न करें हाई-सिक्योरिटी से लैस कारों पर, होगा बड़ा नुकसान

इससे पहले भी महिंद्रा काफी समय से भारतीय सेना के लिए डिफेन्स व्हीकल की आपूर्ति कर रहा है. भारतीय सेना भी डिफेन्स व्हीकल्स के लिए स्वदेशी निर्माताओं को पसंद करते है, जिससे की वाहन निर्माता भी इलाके की स्थिति और भौगोलिक जटिलता को ध्यान  में रखकर डिफेन्स व्हीकल को तैयार किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज