ऐसे जानिए कि आपके नाम का भी चालान कटा है या नहीं...

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 6:35 PM IST
ऐसे जानिए कि आपके नाम का भी चालान कटा है या नहीं...
क्या ऐसा संभव है कि आपके नाम पर पहले से ही चालान कटा हुआ हो और आपको उसका आभास भी नहीं? हम आपको बताना चाहते हैं कि ऐसा बिल्कुल संभव है

क्या ऐसा संभव है कि आपके नाम पर पहले से ही चालान कटा हुआ हो और आपको उसका आभास भी नहीं? हम आपको बताना चाहते हैं कि ऐसा बिल्कुल संभव है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2019, 6:35 PM IST
  • Share this:
बढ़ते ऑनलाइन लेन-देन के इस दौर में अब यातायात नियमों (New Traffic Rules) के उल्लंघन का चालान भी इंटरनेट के माध्यम से लिया जा रहा है. लेकिन क्या ऐसा संभव है कि आपके नाम पर पहले से ही चालान कटा हुआ हो और आपको उसका पता ही नहीं हो? हम आपको बताना चाहते हैं कि ऐसा बिल्कुल संभव है. केंद्र (Modi Government) और राज्य सरकारें, काफी तेजी से सरकारी सिस्टम स्कोर ऑनलाइन करती जा रही है और अपना ट्रांसपोर्ट सिस्टम (Transport System) भी इससे अछूता नहीं है.

नई गाड़ियों फास्ट टैग से लैस
फास्ट टैग पहले से ही काफी चर्चा का बिंदु बना हुआ है. हर व्यावसायिक वाहन को दिल्ली में एंट्री करने के लिए अब फास्ट टैग लगाना अनिवार्य है और जल्द ही सरकार इसको सभी प्राइवेट गाड़ियों पर भी अनिवार्य करने की तैयारी में है. आज की तारीख में सभी नई गाड़ियां पहले से ही फास्ट टैग RFID से लैस आ रही है. यह वो टेक्नोलॉजी है, जिससे बिना रुके वाहन चालक फास्ट टैग के जरिए टोल अदा कर सकता है.



कैसे करें पता कि चालान कटा हुआ है
कानून का स्वेच्छा से पालन करने वाले नागरिक के तौर पर, आप यह मानते हैं कि आपने किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं किया या आपको कभी किसी ट्रैफिक पुलिस वाले ने नहीं रोका तो आपका कोई चालान नहीं कटा होगा. लेकिन नहीं, ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं, ऐसा मुमकिन है कि आपका चालान तकनीक के इस्तेमाल से पहले ही कट चुका होगा जिसका आपको आभास भी नहीं. लेकिन यह कैसे पता लगाया जाए कि आपने किसी नियम का उल्लंघन किया है और आपका कोई चालान लंबित है? और अगर है तो उसका क्या समाधान है आएए जानते हैं.

ट्रैफिक पुलिस
ट्रैफिक पुलिस

Loading...

हाल फिलहाल में दिल्ली और एनसीआर के कुछ नागरिकों को एक एसएमएस मिला, जिसमें उनको यह जानकारी दी गई थी कि कि उनके वाहन का चालान काटा जा चुका है और उसकी अधिक सूचना वह SMS पर दिए गए लिंक पर जाकर देख सकते हैं. दिए गए लिंक पर जाकर देखने पर उन्होंने पाया कि उनकी गाड़ी की फोटो के साथ साथ उल्लंघन का समय और तारीख भी लिखी थी. पूर्वी दिल्ली के निवासी नवीन बंसल को भी ऐसा ही एक SMS प्राप्त हुआ. पूरी तरह से इससे अनजान, उन्होंने SMS के लिंक से चेक किया तो पाया कि उनके ऑफिस के बाहर की ही जगह पर पार्क की गई उनकी गाड़ी का चालान कर दिया गया था. इसी जगह पर वो कई सालों से अपनी गाड़ी लगाते आ रहे हैं.



नोएडा के निवासी राहुल मल्होत्रा को कोई भी SMS प्राप्त नहीं हुआ, लेकिन उत्सुकता वश उन्होंने भी ऑनलाइन चेक किया तो पाया कि उनके भी 2 चालान हो चुके हैं. चालान में उनका फोन नंबर नहीं दर्शा रहा था जिससे यह स्पष्ट हुआ कि इसी वजह से उनको एसएमएस नहीं आया होगा. इसी तरह नोएडा के एक निवासी राजू खत्री को भी कोई एसएमएस प्राप्त नहीं हुआ लेकिन जब उन्होंने ऑनलाइन चेक किया तो उनका Yamuna expressway पर ओवरस्पीडिंग का चालान हो चुका था. इन सभी e-challan पर मोटर व्हीकल एक्ट के अंतर्गत धाराओं के अनुसार उल्लंघन के बारे में लिखा था। चालान में पेमेंट करने के लिंक के साथ साथ यह भी लिखा है कि सुरक्षित वाहन चलाना एक विकल्प नहीं आवश्यकता है.



हमने SP ट्रेफिक ए के झा से बात करी, और उन्होंने बताया कि लगभग 60% मोबाइल नंबर पहले से ही उनके रिकॉर्ड्स में अपडेटेड हैं. अप्रैल 2018 से हर नए वाहन की खरीद पर मोबाईल नंबर देना अनिवार्य कर दिया गया है जो वाहन उससे पहले खरीदे गए उनके मोबाइल नंबर लगातार अपडेट किए जा रहे हैं. अगर किसी को अपना मोबाइल नंबर अपडेट करना है तो वह परिवहन पोर्टल के इस लिंक पर जाकर अपडेट कर सकते हैं.
https://parivahan.gov.in/parivahan//node/1978

इस लिंक पर जाकर वाहन से संबंधित जानकारी डालकर आप अपना मोबाइल नंबर OTP द्वारा वेरिफाई कर सकते हैं. अगर किसी व्यक्ति का मोबाइल नंबर अपडेटेड नहीं भी है तब भी ऐसे चालान पोस्टल डाक के जरिए लोगों को भेजे जाते हैं. अगर चालान की रकम 6 महीने तक जमा नहीं करी गई तो फिर केस कोर्ट में रेफर कर दिया जाता है. अगर आपने चालान की रकम नहीं चुकाई है तो जब भी आपको किसी भी RTO से संबंधित काम के लिए, जैसे कि वाहन बेचते समय, वाहन का फिटनेस कराते समय, लोन खत्म करने पर या अन्य और किसी कार्य के लिए RTO जाते हैं, तो पहले आपको अपनी बकाया चालान राशि के साथ साथ पेनाल्टी की रकम भी अदा करनी पड़ेगी.



अगर आपको भी ऐसा लगता है कि आपने कभी किसी ट्राफिक नियम का उल्लंघन नहीं किया है तो एक बार इस वेबसाइट पर जाकर जरूर चेक कर ले- https://echallan.parivahan.gov.in/index/accused-challan

अगर आपको "no challan found" संदेश मिलता है, तो आप वास्तव में नियमों का पालन करने वाले एक सुरक्षित तरीके से वाहन चलाने वाले ड्राइवर हैं.

(News18.com के लिए अर्पित सेठ की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 6:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...