जनवरी 2021 तक लॉन्च हो सकता है Ola का इलेक्ट्रिक स्कूटर

ओला कैब
ओला कैब

ऐप पर टैक्सी बुकिंग सेवा देने वाली घरेलू कंपनी ओला कैब्स (Ola Cabs) अब इलेक्ट्रिक स्कूटर (Electric Scooter) की मैन्युफैक्चरिंग में उतरने जा रही है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 19, 2020, 10:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ऑनलाइन कैब बुकिंग की सर्विस देने वाली घरेलू कंपनी ओला कैब्स (Ola Cabs) अब इलेक्ट्रिक स्कूटर (Electric Scooter) की मैन्युफैक्चरिंग में उतरने जा रही है. सूत्रों ने जानकारी दी कि कंपनी अपना पहला ई-स्कूटर (E-Scooter) अगले साल जनवरी तक बाजार में पेश कर सकती है.

इस घटनाक्रम से जुड़े करीबी सूत्र ने कहा आरंभ में इस इलेक्ट्रिक स्कूटर को नीदरलैंड स्थित संयंत्र में विनिर्मित किया जाएगा. फिर इसे भारत और यूरोप के बाजार में बेचा जाएगा. बाद में सरकार के 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' में भाग लेने और स्थानीय मांग को पूरा करने के लिए कंपनी देश में इसका संयंत्र लगाने पर विचार कर रही है. इस बारे में ओला को भेजे गए ई-मेल का जवाब नहीं मिला है.

यह भी पढ़ें: 3 साल में पहली बार उच्चतम स्तर पर पहुंचा Bitcoin, PayPal देगा वर्चुअल करंसी खरीदने का मौका



हाल ही में इटेर्गो बी वी का किया अधिग्रहण
इस साल मई में ओला इलेक्ट्रिक ने एम्सटर्डम स्थित एटेर्गो बीवी के अधिग्रहण की घोषणा की थी. तब कंपनी ने 2021 तक भारतीय बाजार में इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन पेश करने का लक्ष्य रखा था.

यह भी पढ़ें: सस्ता हो गया सोना-चांदी, जानिए 853 रुपये तक की गिरावट के बाद क्या है नया भाव

भारत और यूरोप के मार्केट में साथ-साथ लॉन्चिंग
सूत्रों ने कहा कि इन्हें भारतीय और यूरोपीय बाजार में साथ-साथ अगले साल जनवरी तक पेश करने की उम्मीद है. ई-स्कूटर की कीमत देश में मौजूद पेट्रोल स्कूटर से प्रतिस्पर्धी होने की उम्मीद है. कंपनी देश के दो करोड़ दोपहिया वाहन बिक्री बाजार में बड़ी हिस्सेदारी हासिल करने का लक्ष्य लेकर चल रही है.

भारत का सबसे बड़ा ई-स्कूटर मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाएगी OLA
हाल ही में खबर आई थी कि ओला कैब्स इलेक्ट्रिक स्कूटर मैन्युफैक्चरिंग में उतरने की योजना बना रही है. कंपनी ई-स्कूटर मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने के लिए विभिन्न राज्य सरकारों से बातचीत कर रही है. सूत्रों ने बताया था कि यह देश में सबसे बड़ा ई-स्कूटर कारखाना होगा. सूत्रों ने बताया था कि ओला इलेक्ट्रिक इस परियोजना को लेकर कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र सहित विभिन्न राज्य सरकारों से बात कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज