कार खरीदने का है प्लान, तो ये बातें मॉडल और कंपनी सिलेक्ट करने में करेंगी मदद

कार खरीदते समय कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है.
कार खरीदते समय कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

कोविड-19 की वजह से लोग कार से यात्रा (Travel by car) करना सेफ ऑप्शन (Safe option) मान रहे है. इसी वजह से पिछले कुछ महीनों में कार सेलिंग का ग्राफ (Car sailing graph) तेजी से ऊपर की ओर गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2020, 5:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कार खरीदना सबका सपना होता है, लेकिन कोविड-19 की वजह से लोग कार से यात्रा करना सेफ ऑप्शन मान रहे है. ऐसे में अपनी कार से यात्रा करना और भी सुरक्षित हो जाता है. शायद इसी वजह से पिछले कुछ महीनों में कार सेलिंग का ग्राफ तेजी से ऊपर की ओर गया है. यदि आप भी कार खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो हम अपको मॉडल और कंपनी सिलेक्ट करने के लिए कुछ टिप्स दे सकते है. जो आपके कार खरीदते समय काफी काम आ सकते हैं.

कार कंपनी का चुनाव कैसे करें- पहली कार का अनुभव लोगों को हमेशा याद रहता है. यदि किसी का अपनी कार के साथ पहला अनुभव ठीक नहीं रहा है तो उनके लिए हमारी यह सलाह जरूर काम आएगी. भारतीय बाजार में मारुति सुजुकी, हुंडई, टाटा, महिंद्रा, फोर्ड, किआ, फॉक्सवैगन, टोयोटा, होंडा, निसान, रेनो समेत कई कार कंपनियां मौजूद हैं. लेकिन इनमें मारुति सबसे ज्यादा कार बेचने वाली कंपनी है. वहीं, दूसरे नंबर पर हुंडई फिर टाटा का नाम आता है. ऐसे में जरूरी नहीं है कि जो कार सबसे ज्यादा बिक रही है वह कार बेहतर है और जो सबसे कम बिक रही है उसका परफॉर्मेंस अच्छा नहीं है. ऐसे में आप अपनी पसंद की कंपनी का चुनाव करें. आपके आसपास जो लोग कार चला रहे हैं, उनकी सलाह लें साथ ही, कार से जुड़े एक्सपीरियंस को भी जानें.

यह भी पढ़ें: कार में अब नहीं पड़ेगी ड्राइवर की जरुरत! Tesla ने रोल आउट किया Full Self-Driving सॉफ्टवेयर



कार खरीदते समय जरूरत का ध्यान रखें- कार कंपनी के सिलेक्शन के बाद आपकों देखना होगा कि आप कितने सीटर कार खरीदना चाहते है. यदि आपका परिवार छोटा है तो आपके लिए हैचबैक सही ऑप्शन होगी. यदि आपके परिवार में 5 से ज्यादा लोग है तो आपको 7 सीटर कार खरीदनी चाहिए. वहीं दूसरी यदि आपके शहर की सड़के खराब है तो आप एसयूवी खरीद सकते है. यदि आप ज्यादा लगेज लेकर चलते हैं तब आपके लिए सेडान ठीक है.
यह भी पढ़ें: 5 लाख के अंदर खरीदें ये हाई माइलेज वाली 5 शानदार कार! जानिए गाड़ियों की कीमत और पूरी डिटेल
कार का माइलेज और मेंटेनेंस खर्च समझना जरूरी- कार खरीदने से पहले आप उसका माइलेज जरूर जान लें. क्योंकि पेट्रोल की तुलना में डीजल और सीएनजी कारों का माइलेज ज्यादा होता है. लेकिन अब पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई खासा अंतर नहीं बचा है. ऐसे में डीजल कार खरीदना समझादारी की बात नहीं है. क्योंकि डीजल कार का मेंटनेंस खर्च पेट्रोल कार की तुलना में कही ज्यादा होता है. दूसरी ओर सीएनजी कार तरफ जाते हैं तब उसका माइलेज बढ जाता है. लेकिन सीएनजी किट की वजह से कार में स्पेस की कमी जरूर हो जाती है.
इंश्योरेंस और दूसरे पेपर- कार खरीदते वक्त इंश्योरेंस सबसे जरूरी होता है. लगभग सभी कंपनियां कार इंश्योरेंस अपने डीलर से करके देती हैं, ऐसे में यदि आपको बाहर से इंश्योरेंस कम कीमत में मिल रहा है तब आप बाहर से ही इंश्योरेंस लें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज