लाइव टीवी

35 लाख की ये कार 7 करोड़ रुपये में हुई नीलाम, जानें क्या थी वजह

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 9:54 PM IST
35 लाख की ये कार 7 करोड़ रुपये में हुई नीलाम, जानें क्या थी वजह
पॉर्श 914/GT

1970 दशक में बनाई गई पॉर्श 914/GT को स्कॉट्सडेल की एक नीलामी में 7 करोड़ रुपये में बेचा जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 9:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एरिजोना के स्कॉट्सडेल में लग्जरी कारों की नीलामी ने एक बार फिर लोगों का ध्यान खींचा है. पिछले महीने हुई इस नीलामी में 1970 के दशक की एक पीले रंग की कार खूब चर्चा में रही. इसकी सबसे बड़ी वजह इस कार के लिए चुकाई गई कीमत है. दरअसल, पॉर्श 914/GT के लिए एक शख्स ने करीब 10 लाख डॉलर खर्च किया. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 1970 के दशक की पॉर्श 914/GT की कीमत करीब 5 हजार डॉलर (करीब 35.5 लाख रुपये) से भी कम थी. 2-सीटर वाली इस कार को पॉर्श और फॉक्सवैगन ने साथ मिलकर बनाया था.

अब तक की सबसे महंगी पॉर्श 914 कार
1.7 से 2 - लीटर्स इंजन वाली ये कार 125 हॉर्सपावर की पावर जेनरेट करती है. इसकी पावर को लेकर इस कार की तुलना एक जमाने में घास काटने वाली मशीन से भी की जा चुकी है. कहा जाता है कि इस कार को लगातार एक घंटे तक भी ड्राइव करना मुश्किल है, क्योंकि कंफर्ट के मामले में ये बिल्कुल भी आरामदायक नहीं है. लेकिन, इस सबके बावजूद भी पीले रंग की पॉर्श 914/GT को गुडिंग एंड कंपनी के 2020 स्कॉट्सडेल नीलामी में 9,95,000 डॉलर (करीब 7.08 करोड़ रुपये) की कीमत पर बेचा गया. हालांकि, उम्मीद की जा रही थी कि इस कार को 1 से 1.3 मिलियन डॉलर में बेचा जाएगा. ऐसा नहीं होने के बाद भी किसी भी नीलामी में बिकने वाली ये अब तक की सबसे महंगी पॉर्श 914 बन गई है.

यह भी पढ़ें: Auto Expo के पहले जारी हुआ हुंडई क्रेटा का टीज़र, देखें वीडियो



दो कंपनियों ने मिलकर बनाई थी ये कार
साल 1969 में फ्रैंकफर्ट के आटो शो में दुनिया ने पहली बार इस कार की झलकी देखी थी. इस कार का प्रोडक्शन 1970 से 1976 तक ही किया गया. पॉर्श और फॉक्सवैगन ने इस कार को एक साथ मिलकर बनाया ताकि उन्हें फायदा हो सके. पॉर्श ने इस दौरान फॉक्सवैगन की उत्पादन फैसिलिटी का लाभ लिया, वहीं फॉक्सवैगन के पास मौका था कि वो पॉर्श के साथ काम कर उसकी इंजीनियरिंग के बारे में समझ बना सके.क्यों मिली इतनी कीमत
मल्टीपल इंजन वैरिएंट में आने वाली की हाईएंड मॉडल की रफ्तार 13 सेकेंड में 60 मील प्रति घंटे तक भी नहीं पहुंच सकती थी. लेकिन, इसके बावजूद भी इस कार की इतनी महंगी कीमत होने के कई कारण है. इस मॉडल की केवल 16 कारे ही बनाई गई थी. साथ ही, ये एक रेसिंग कार भी थी. इस कार के इंजन और मॉडल को भी खास तरह से डिजाइन किया गया था. इस कार इतनी महंगी कीमत 914 सी​रीज और अपने इतिहास की वजह से है.

यह भी पढ़ें: ये है मॉडीफाइड Royal Enfield, सिर्फ 5 सेकेंड में पकड़ लेती है 100 की स्पीड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 9:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर