हल्के कमर्शियल व्हीकल खरीदना होगा आसान, Tata Motors ने एसबीआई से मिलाया हाथ

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

कंपनी ने शुक्रवार को बयान में कहा कि एसबीआई के साथ करार से टाटा मोटर्स के कमर्शियल व्हीकल खरीदारों को आसानी से लोन उपलब्ध हो सकेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू वाहन निर्माता कंपनी टाटा मोटर्स (Tata Motors) ने देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) के साथ तीन साल के एमओयू (MOU) पर हस्ताक्षर किए हैं. इस एमओयू के तहत एसबीआई कंपनी के छोटे और हल्के कमर्शियल व्हीकल की खरीद के लिए फाइनेंस उपलब्ध कराएगा.

कंपनी ने शुक्रवार को बयान में कहा कि एसबीआई के साथ करार से टाटा मोटर्स के कमर्शियल व्हीकल खरीदारों को आसानी से लोन उपलब्ध हो सकेगा. साथ ही उन्हें एसबीआई की विशिष्ट टेक्नोलॉजी आधारित पेशकश तक भी पहुंच मिलेगी.

आसानी से मिलेगा लोन

इसके अलावा बैंक ईजी लोन स्ट्रक्चर्ड स्कीम भी पेश करेगा. इससे BS-IV और BS-VI व्हीकल के बीच मूल्य अंतर को कम करने में मदद मिलेगी. दोनों कारोबारी यूनिट्स एसबीआई की कॉन्टैक्टलेस लेंडिंग प्लेटफॉर्म टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करेंगी जिससे एकरूपता और पारदर्शिता कायम की जा सकेगी.
ये भी पढ़ें- Uni Carbon Credit Card: यूनियन बैंक का हिंदुस्तान पेट्रोलियम के साथ नया क्रेडिट कार्ड, तेल भरवाने पर मिलेगा 4 फीसदी कैशबैक

अगले वित्त वर्ष में कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री में 30 फीसदी से अधिक वृद्धि का अनुमान

टाटा मोटर्स को अगले वित्त वर्ष में कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री में 30 फीसदी से अधिक वृद्धि की उम्मीद है. हाल ही में टाटा मोटर्स के प्रेसिडेंट (कमर्शियल व्हीमकल बिजनेस यूनिट) गिरीश वाघ ने कहा था, ''अब कह सकते हैं कि आर्थिक सुधार अच्छी तरह से और सही मायने में है. हम देख रहे हैं कि पिछली तिमाही की जीडीपी की वृद्धि सकारात्मक रही है इस साल भी यही उम्मीद है. अगले साल के लिए सरकार और आरबीआई दोनों ने अनुमान दिया है कि जीडीपी में 10 फीसदी से अधिक की दर से वृद्धि होनी चाहिए.''



उन्होंने कहा था, ''हम देख रहे हैं कि अगले साल कमर्शियल व्हीकल खंड को वृद्धि करना चाहिए. दो साल की गिरावट के बाद हम चक्रीय वृद्धि की राह पर लौट सकते हैं. अगले साल हम 30 फीसदी से ज्यादा की वृद्धि की उम्मीद कर रहे हैं. हम यह पूरे इंडस्ट्री के लिए उम्मीद कर रहे हैं.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज