टाटा मोटर्स ने दिए संकेत, 2020 में बंद हो जाएगी रतन टाटा की ड्रीम कार Nano

नैनो कारों की श्रंखला में शुरुआती स्तर की कार है. यह रतन टाटा के दिमाग की उपज थी. उन्होंने दोपहिया वाहनों पर सवारी करने वाले परिवारों को नैनो के रूप में एक सुरक्षित और किफायती विकल्प देने की परिकल्पना की थी.

भाषा
Updated: January 24, 2019, 10:19 PM IST
टाटा मोटर्स ने दिए संकेत, 2020 में बंद हो जाएगी रतन टाटा की ड्रीम कार Nano
टाटा नैनो
भाषा
Updated: January 24, 2019, 10:19 PM IST
टाटा की नैनो को अगले साल अप्रैल में अलविदा कहा जा सकता है. रतन टाटा की इस ड्रीम कार को भारत BS-VI Standards मानकों के अनुरूप उन्नत बनाने की टाटा मोटर्स की कोई योजना नहीं है. कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को इस बात का संकेत दिया कि अप्रैल 2020 से छोटी कार की उत्पादन और बिक्री बंद कर दी जाएगी. नैनो का उत्पादन साणंद संयंत्र (गुजरात) में किया जाता है.

टाटा मोटर्स के यात्री वाहन व्यवसाय इकाई के अध्यक्ष मयंक पारीख ने कहा, ‘‘जनवरी में नए सुरक्षा मानदंड आए हैं, अप्रैल में कुछ और नए मानदंड आएंगे और अक्टूबर में नए सुरक्षा मानदंड आ जाएंगे तथा एक अप्रैल 2020 से BS-VI लागू होने जा रहा है, इसलिए सभी उत्पाद BS-VI मानदंड को पूरा नहीं कर पाएंगे और हम सभी उत्पादों का उन्नयन करने में निवेश नहीं कर सकते हैं. नैनो उन उत्पादों में एक है.’’

रतन टाटा का आइडिया



नैनो कारों की श्रंखला में शुरुआती स्तर की कार है. यह रतन टाटा के दिमाग की उपज थी. उन्होंने दोपहिया वाहनों पर सवारी करने वाले परिवारों को नैनो के रूप में एक सुरक्षित और किफायती विकल्प देने की परिकल्पना की थी, लेकिन भारतीय उपभोक्ता की ओर से इस पर उपयुक्त प्रतिक्रिया नहीं मिली.

2009 में लॉन्च हुई थी कार

नैनो कार को 2009 में लगभग एक लाख रुपये की कीमत पर बाजार में उतारा गया था. पारीक ने यह भी संकेत दिया कि टाटा मोटर्स के कुछ मौजूदा उत्पादों को भी बीएस-छह मानदंडों के कारण बंद कर दिया जाएगा. हालांकि उन्होंने बंद किये जाने वाले अन्य यात्री वाहनों के नाम स्पष्ट नहीं किये.

ये भी पढ़ें: टाटा नैनो का एक्‍सपोर्ट हुआ जीरो, क्‍या बंद हो जाएगी यह कार?
Loading...

कंपनी मार्केट में उतारेगी नए वाहन

तीन साल पहले टाटा मोटर्स की यात्री कार सेगमेंट में बाजार हिस्सेदारी 2.8 प्रतिशत थी. कंपनी की वर्ष 2021-22 तक नए वाहन उतारकर बाजार में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने का लक्ष्य है. उनके अनुसार  देश में कार की बिक्री के संदर्भ में पिछले त्यौहारी सत्र अच्छा नहीं रहा क्योंकि बाजार में नकदी का संकट था जिसके परिणामस्वरूप ऋण मिलना कुछ कठिन रहा.

इलेक्ट्रिक वाहनों के बारे में, उन्होंने कहा कि हालांकि, उनके पास विद्युतचालित वाहनों को विकसित करने की तकनीक है, लेकिन देश में पर्याप्त चार्जिंग (बैटरी चार्ज स्थल) बुनियादी ढांचा उपलब्ध नहीं है. पारीक ने गुरुवार को तेलंगाना के बाजार में टाटा मोटर्स की नई एसयूवी "हैरियर" को पेश किया. एक प्रश्न के जबाव में उन्होंने कहा कि इस नए वाहन की प्रतीक्षा अवधि लगभग तीन महीने है.

ये भी पढ़ें: बंद होने के कगार पर टाटा की सबसे सस्ती कार, ये हैं कारण

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...