• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • Tesla Model 3 इंडिया में हुई लॉन्च! तो स्पीड-ब्रेकर बनेंगे सिरदर्द, ITIADA ने दी कार में बदलाव की सलाह

Tesla Model 3 इंडिया में हुई लॉन्च! तो स्पीड-ब्रेकर बनेंगे सिरदर्द, ITIADA ने दी कार में बदलाव की सलाह

टेस्ला मॉडल 3 के लिए सिरदर्द बनेंगे इंडियन स्पीड-ब्रेकर.

टेस्ला मॉडल 3 के लिए सिरदर्द बनेंगे इंडियन स्पीड-ब्रेकर.

Tesla Model 3 : इंडिया में रोड़ पर बने स्पीड ब्रेकर के हिसाब से किसी भी सेडान कार का ग्राउंड क्लीयरेंस कम से कम 165mm होना चाहिए. ऐसे में टेस्ला का मॉडल 3 सेडान कार के ग्राउंड क्लीयरेंस में 25mm की बढ़ोत्तरी करनी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. इलेक्ट्रिक कार के दीवाने काफी समय से एलन मस्क की कंपनी Tesla की कारों का इंडिया में लॉन्च होने का इंतजार कर रहे हैं. हाल ही में कंपनी का इंपोर्ट ड्यूटी का मसला सुलझा है. जिसके बाद Tesla Model 3 की लॉन्चिंग का रास्ता साफ हो गया था. लेकिन एक बार फिर टेस्ला के सामाने मुश्किल आ गई है. ये मुश्किल टैक्स या किसी परमिश्न से जुड़ी नहीं है. बल्कि ये सिर दर्द है भारतीय सड़क पर बने हुए स्पीड-ब्रेकर. दरअसल Tesla Model 3 का ग्राउंट क्लीयरेस इतना कम है कि, ये सेडान कार किसी स्पीड ब्रेकर को क्रॉस करेगी तो उसी पर टंग जाएगी. आइए जानते है Tesla आखिर इस परेशानी से कैसे बाहर निकल सकती है.

    Tesla Model 3 में है इतने mm का ग्राउंड क्लीयरेंस – कार की टेस्टिंग करने वाली IDIADA ऑटो मैटिव टेक्नोलॉजी की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार टेस्ला मॉडल 3 का ग्राउंड क्लीयरेंस 140mm है. जो कि बढ़ाया नहीं जा सकता. वहीं टेस्टिंग एजेंसी ने बताया कि, इंडिया में रोड़ पर टेस्टिंग के दौरान 200 स्पीड-ब्रेकर को क्रॉस किया गया. जिसमें टेस्ला मॉडल 3 160 बार स्पीड-ब्रेकर पर फस गई.

    यह भी पढ़ें: Mahindra XUV700 के टॉप वेरिएंट की कीमत लीक हुई, जानिए सबकुछ

    कम से कम सेडान कार का इतना होना चाहिए ग्राउंड क्लीयरेंस – इंडिया में रोड़ पर बने स्पीड ब्रेकर के हिसाब से किसी भी सेडान कार का ग्राउंड क्लीयरेंस कम से कम 165mm होना चाहिए. ऐसे में टेस्ला का मॉडल 3 सेडान कार के ग्राउंड क्लीयरेंस में 25mm की बढ़ोत्तरी करनी होगी.

    यह भी पढ़ें: इस राज्य में वाहनों पर जल्द लागू होगी HSRP नंबर प्लेट! जानिए सबकुछ

    कैसे होने चाहिए स्पीड-ब्रेकर – इंडिया में रोड के विकास और उससे जुडी इंजीयरिंग का काम इंडियन रोड़ कांग्रेस देखती है. इस संस्था को 1937 में रजिस्ट्रड कराया गया था. जो कि, सड़क की चौड़ाई और गुणवत्ता से जुड़ी गाइडलाइन्स जारी करती है. इंडियन रोड़ कांग्रेस के अनुसार किसी भी स्पीड-ब्रेकर का निर्माण कम चौड़ी सड़क पर स्कूल, अस्पताल, टोल नाका या फ्लाईओवर के शुरुआत का आखिर में करना चाहिए. इसके साथ ही स्पीड-ब्रेकर की चौड़ाई 3.7 मीटर और ऊंचाई 10 सेमी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. इसके साथ ही एक स्पीड-ब्रेकर से दूसरे स्पीड ब्रेकर के बीच की दूरी 100 मीटर से 130 मीटर के बीच होनी चाहिए. वहीं स्पीड ब्रेकर से गुजरने वाली गाड़ियों की स्पीड 25kmpl से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज