• Home
  • »
  • News
  • »
  • auto
  • »
  • Tesla ने इंडिया में लॉन्च होने वाली Model 3 कार की 3 लाख यूनिट इस देश से रिकॉल की, जानिए वजह

Tesla ने इंडिया में लॉन्च होने वाली Model 3 कार की 3 लाख यूनिट इस देश से रिकॉल की, जानिए वजह

टेस्ला ने मॉडल 3 और मॉडल Y कार की 3 लाख यूनिट रिकॉल की.

टेस्ला ने मॉडल 3 और मॉडल Y कार की 3 लाख यूनिट रिकॉल की.

Model 3 और Model Y कार की 3 लाख यूनिट तकनीकी खामी की वजह से रिकॉल की है. जिस वजह से इस कार की इंडिया में लॉन्चिंग में शायद थोड़ी देरी हो और लोगों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ें.

  • Share this:
    नई दिल्ली. Tesla की इंडिया में Model 3 इलेक्ट्रिक कार की लॉन्चिंग का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है. लेकिन टेस्ला को पसंद करने वालों के लिए एक बुरी खबर है. दरअसल टेस्ला ने अपनी Model 3 और Model Y कार की 3 लाख यूनिट तकनीकी खामी की वजह से रिकॉल की है. जिस वजह से इस कार की इंडिया में लॉन्चिंग में शायद थोड़ी देरी हो और लोगों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ें. आइए जानते है आखिर किस वजह से टेस्ला ने अपनी मॉडल 3 और मॉडल Y इलेक्ट्रिक कार को रिकॉल किया है.

    इस देश से रिकॉल की Model 3 और Model Y -  चीन की रेगुलेटरी ने कहा कि टेस्ला कंपनी चीन मेड और इम्पोर्टेड कार मॉडल Y और मॉडल 3 EVs को ड्राइविंग रिलेटेड सॉफ्टवेयर अपडेट के लिए वापस बुलाएगी. स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फॉर मार्केट रेगुलेशन ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि यह कदम इलेक्ट्रिक कारों में एक सहायक ड्राइविंग फ़ंक्शन से जुड़ा है, जिसे वर्तमान में ड्राइवरों द्वारा गलती से ऑन किया जा सकता है, जिससे अचानक दुर्घटना होने का खतरा बन सकता है. रिमोट ऑनलाइन सॉफ्टवेयर 'रिकॉल' के द्वारा चीन में बनी 249,855 मॉडल Y और मॉडल EVs कारें और 35,665 इम्पोर्टेड मॉडल 3 कारों को वापस बुलाया जायेगा.

    यह भी पढ़ें: इन बातों का रखेंगे ध्यान पेट्रोल की बढ़ती कीमत के बीच कार देंगी ज्यादा माइलेज, जानिए सबकुछ

    चीन में होता है Model 3 का निर्माण - कार निर्माण के आंकड़ों के अनुसार, टेस्ला, जो अब शंघाई में मॉडल 3 सेडान और मॉडल वाई स्पोर्ट-यूटिलिटी वाहन बनाती है. टेस्ला ने मई में चीन में निर्मित 33,463 इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री की है. इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला ने अपना पहला चार्जिंग स्टेशन चीन में खोला था, जिसमे टेस्ला ने अपना सोलर और एनर्जी प्लांट लगाया था. कंपनी ने एक पोस्ट में कहा कि, ल्हासा शहर में चार्जिंग स्टेशन सूरज की रोशनी से बिजली पैदा करेगा और इसे इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए ऊर्जा भंडारण सुविधाओं में स्टोर करेगा. टेस्ला ने 2016 में कैलिफ़ोर्निया स्थित सोलरसिटी को 2.6 बिलियन डॉलर की खरीद के साथ सोलर बिज़नेस में कदम रखा था और कहा था कि वह अपने सोलर बिज़नेस को और आगे बढ़ाने में इच्छुक है.

    यह भी पढ़ें: TVS अपाचे RTR 160 4V नो-कॉस्ट EMI पर घर लेकर आए, जानें पूरा ऑफर

    कंपनी की सोलर सेवाओं में सोलर रूफ, सामान्य रूफ टाइल्स की तरह दिखने वाली बिजली उत्पादन सिस्टम और पावरवॉल शामिल हैं, जो सोलर पैनलों द्वारा उत्पन्न बिजली को स्टोर कर सकते हैं.अमेरिकी इलेक्ट्रिक वाहन और दुनिया की सबसे मूल्यवान वाहन निर्माता कंपनी टेस्ला जल्द ही भारत में अपनी कारों की शुरुआत करेगी. ईवी निर्माता टेस्ला ने हाल ही में मुंबई के लोअर परेल-वर्ली बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में अपना पहला शोरूम कम ऑफिस स्पेस खोला है. टेस्ला कंपनी की नज़र काफी समय से भारतीय बाज़ारों की तरफ भी थी, जिसके लिए कंपनी ने अपनी 3 एंट्री लेवल सेडान कारों को होमोलॉगेशन और टेस्टिंग के लिए भारत में पेश किया है. इसमें से एक कार को हाल ही में भारत में टेस्टिंग के दौरान स्पॉट किया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज