लाइव टीवी

गाड़ी से होने वाले पॉल्यूशन को कैसे करें कम, अपनाएं ये टिप्स

News18Hindi
Updated: June 24, 2019, 1:36 PM IST
गाड़ी से होने वाले पॉल्यूशन को कैसे करें कम, अपनाएं ये टिप्स
गाड़ी से होने वाले पॉल्यूशन को कैसे करें कम, अपनाएं ये टिप्स

आज हम आपको गाड़ियों से होनेवाले पॉल्यूशन को कम करने के लिए कुछ उपाय बताये जा रहे हैं.

  • Share this:
आज शहर हो या गांव, सभी जगह गाड़ी से होनेवाला पॉल्यूशन एक आम समस्या बन चुकी है. गाड़ी चलायेंगे तो पॉल्यूशन होना ही है फिर भी गाड़ी से होने वाले पॉल्यूशन को कम करने के लिए तमाम इंतजामात किये जा रहे हैं ताकि लोगों के स्वास्थ्य पर पॉल्यूशन से होनेवाला खतरा कम हो. आज हम आपको गाड़ियों से होनेवाले पॉल्यूशन को कम करने के लिए कुछ उपाय बताये जा रहे हैं.

गाड़ी की समय पर सर्विस करवाएं
गाड़ी की ट्यूनिंग सही नहीं होने या इंजन में खराबी आने से परफॉर्मेंस के साथ माइलेज पर भी असर पड़ता है. जब आपकी गाड़ी माइलेज कम देने लगे तो आप समझ लें की गाड़ी पॉल्यूशन ज्यादा कर रही है. इसलिए गाड़ी की तय समय पर सर्विस करावएं और जैसे ही माइलेज में गिरावट आए तुरंत उसकी जांच करवाएं.





सही इंजन ऑयल डलवाएं
गाड़ी के इंजन की परफॉर्मेंस, इंजन की लाइफ और पॉल्यूशन इंजन ऑयल पर निर्भर करती है. कई बार इंजन में बार-बार ऑयल लेवल कम होने लगता है क्योंकि सही इंजन ऑयल का इस्तेमाल नहीं होता. इसलिए जरूरी है कि कार कंपनी जो रिकमेंड करे वही इंजन ऑयल डलवाएं. आज कल सभी ऑटो कंपनियां गाड़ी की इंजन क्षमता के हिसाब से इंजन ऑयल तय करती हैं. जैसे पेट्रोल इंजन के लिए अलग और डीजल इंजन के लिए अलग.



साइलेंसर से छेड़छाड़ ना करें
आजकल सभी गाड़ियों के साइलेंसर में कैटलिटिक कन्वर्टर (Catalytic Converter) लगे होते हैं. कैटलिटिक कन्वर्टर में पॉल्यूशन को रोकने के लिए सिलिकॉन रॉड्स होती हैं. इनके खराब हो जाने से भी गाड़ी का पॉल्यूशन का लेवल बढ़ जाता है क्योंकि साइलेंसर की भी लाइफ होती है. साथ ही कई बार कुछ लोग लाउड आवाज के लिए बाहर से साइलेंसर लगवाते हैं उससे भी पॉल्यूशन बढ़ता है. इसलिए ये जरूरी हो जाता है कि तय समय पर साइलेंसर बदलवा दें और साइलेंसर से छेड़-छाड़ ना करें.



गाड़ी का वक्त पर पॉल्यूशन चेक करवाएं
आपकी गाड़ी पॉल्यूशन कितना दे रही है इसके लिए समय-समय पर पॉल्यूशन चेक करवाएं. वैसे नियम के मुताबिक हर तीन महीने में पीयूसी चेक करना अनिवार्य है. गाड़ी का पॉल्यूशन लेवल तय सीमा से ज्यादा हो तो सर्विस सेंटर में इसकी जांच करवा लें. इससे गाड़ी की परफॉर्मेंस पर भी असर पड़ता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 24, 2019, 1:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर