पहली कार लेते समय ध्‍यान रखें कुछ खास बातें, 10 प्‍वाइंट समझकर बनें स्‍मार्ट खरीदार

पहली कार लेते समय ध्‍यान रखें कुछ खास बातें, 10 प्‍वाइंट समझकर बनें स्‍मार्ट खरीदार
अपनी पहली कार खरीदने से पहले पूरी तैयारी करना बेहतर रहेगा.

त्‍योहारी सीजन (Festive Season) में अगर आप अपनी पहली कार (First Car) खरीदने की योजना बना रहे हैं तो कुछ खास बातों का विशेष ध्‍यान रखें. इससे आपको बेस्‍ट डील (Best Deal) हासिल करने में काफी मदद मिलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 2, 2020, 8:39 pm IST
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. त्‍योहरी सीजन (Festive Season) में काफी लोग अपनी पहली कार (First Car) खरीदने की योजना बना रहे होंगे. अगर आप भी ऐसा ही प्‍लान बना रहे हैं तो कुछ खास बातों का ख्‍याल रखकर कई तरह की परेशानियों से बच सकते हैं. कुछ प्‍वाइंट्स को समझकर आप अपनी कार पर शानदार डील (Best Deal) ले सकते हैं. साथ ही आप अपनी ड्रीम कार के साथ कई दूसरे ऑफर्स या छूट (Offers and Discounts) का फायदा भी उठा सकते हैं. आइए जानते हैं वो 10 तरीके, जिनसे आप भी स्‍मार्ट खरीदार (Smart Buyer) बन सकते हैं.

    अपने बजट और कार लोन का पहले करें आकलन
    आप जब कार खरीदने के लिए घर से निकलते हैं तो सबसे पहली बात बजट ही दिमाग में होती है. आप अपने तय बजट को बहुत ज्‍यादा नहीं बढ़ा सकते हैं. इसलिए घर से निकलने से पहले ही अपने बजट के अंदर या थोड़ा ज्‍यादा कीमत वाली कारों की एक लिस्‍ट बना लें. कार खरीदने में सबसे बेहतर होता है कि आप नकद भुगतान करें, लेकिन आजकल ज्‍यादातर लोगों के ये संभव नहीं हो पा रहा है. इसलिए कार लोन की जरूरत होती है. इसमें कई बैंकों की कार लोन पर ब्‍याज दरों का आकलन करें और हर महीने की अपनी जरूरतों को ध्‍यान में रखकर कम से कम ईएमआई वाले ऑप्‍शन का चुनाव करें. बेहतर होगा डाउन पेमेंट में ज्‍यादा से ज्‍यादा भुगतान करें.

    ये भी पढ़ें- क्रेडिट कार्ड से बैंक अकाउंट में करना है फंड ट्रांसफर तो पहले जान लें इससे जुड़ी सभी शर्तें वरना हो सकता है नुकसान



    अपनी रोज के सफर की पहले ही कर लें पहचान
    कार खरीदने से पहले अपनी रोज की यात्रा का आकलन करें. इससे आपको पेट्रोल, डीजल या सीएनजी में से अपने लिए बेहतर विकल्‍प को चुनने में आसानी होगी. साथ ही इसे आपको अपनी जरूरत के मुताबिक कार का मॉडल चुनने में भी मदद मिलेगी.

    पसंदीदा कार के बारे में जानकारी जुटाना बेहतर
    बजट का अनुमान लगाने के बाद आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से अपनी पसंदीदा कार के बारे में सभी जरूरी जानकारी जुटा लें. यह देखें कि किस मॉडल के कितने प्राइस हैं और उसके क्या फायदे हैं. ऑनलाइन रिसर्च में डीलर्स के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी. इसके अलावा आपके पसंदीदा मॉडल को पहले से इस्‍तेमाल कर रहे लोगों के फीडबैक से भी आपको काफी मदद मिल सकती है.

    फाइनेंस कराने से पहले कई एजेंसियों से लें कोट्स
    अगर आपके पास पर्याप्‍त बचत नहीं है तो आपको ऑटो लोन पर ही निर्भर होना पड़ेगा. ऐसे में बेहतर होगा कि आप कई बैंकों और थर्ड पार्टी क्रकडिट एजेंसियों से कोट्स मंगा लें. इसके बाद उनका तुलनात्‍मक अध्‍ययन करें. इससे आपको अपने बजट और भविष्‍य की आय के मुताबिक निर्णय लेने में मदद होगी.

    ये भी पढ़ें- इंडियन रेलवे ने बनाया नया रिकॉर्ड! इस फैक्ट्री में हर दिन बनाए जा रहे हैं 6 कोच

    क्रेडिट स्कोर खराब है तो पहले कर लें सुधार
    अगर आप बैंक से ज्‍यादा लोन लेना चाहते हैं तो आपका क्रेडिट स्कोर भी बेहतर होना जरूरी है. इससे एक तो आपको ज्‍यादा अमाउंट का लोन मिल जाएगा और ब्याज दरों में भी फायदा मिल सकता है. अगर क्रेडिट स्कोर खराब तो फिलहाल ऑटो लोन लेने से बचें. पहले क्रेडिट स्कोर में सुधार पर काम करें.

    सेकंड हैंड कार का विकल्प भी रहता है बेहतर
    पहली बार कार खरीदने वालों के लिए सेकेंड हैंड कार बेहतरीन विकल्प है. कार डीलर्स आपको तीन साल से पांच साल तक पुरानी कारों के अच्छे मॉडल उपलब्ध करा सकता है, जिनमें आपकी जरूरत की अधिकतर सुविधाएं मौजूद रहती हैं. इसके लिए आपको कम कीमत चुकानी पड़ेगी. अब सेकेंड हैंड कार पर भी लोन की सुविधा आसानी से मिल जाती है.

    डील फाइनल करने से पहले टेस्ट ड्राइव जरूर लें
    कुछ विकल्पों की पहचान के बाद आपके बजट के मुताबिक कार को फाइनल करने से पहले टेस्ट ड्राइव जरूर लें. आप टेस्ट ड्राइव के लिए ऑनलाइन बुकिंग भी करा सकते हैं. टेस्‍ट ड्राइव से आपको कार के फीचर्स का अंदाजा लग जाएगा.

    ये भी पढ़ें- Gold Price Today: सोने के भाव बढ़े, चांदी भी 1600 रुपये से ज्‍यादा हुई महंगी, देखें नए दाम

    कार खरीदते वक्‍त मोलभाव करने से ना हिचकिचाएं
    अमूमन लोग कार खरीदते समय मोलभाव करने में हिचकिचाते हैं. ये सही रणनीति नहीं है. आपको डीलर से कार पर ज्‍रूादा से ज्‍यादा छूट और दूसरे ऑफर्स के लिए मोलभाव करना चाहिए. वहीं, फाइनेंस और वारंटी समझौतों के बारे में नियमों व शर्तों को अच्‍छी तरह समझ लें.

    सेकेंड हैंड कार लेते समय कार की टेस्टिंग कराएं
    अगर आप किसी मित्र या रिश्तेदार या डीलरशिप से सेकेंड हैंड कार खरीद रहें हैं तो किसी विश्वसनीय स्रोत से टेस्टिंग जरूर करवाएं. इसके लिए आप अपने परिचित मैकेनिक की सेवाएं भी ले सकते हैं.

    कार फाइनल करने में ना करें जल्‍दबाजी, लें पूरा समय
    अपनी जरूरत के हिसाब से कार पर निर्णय लेने के लिए पूरा समय लें. जल्‍दबाजी करने से लंबे समय में परेशानी हो सकती है. समय लेकर फैसला लेने से आपका तनाव कम होगा.