होम /न्यूज /ऑटो /मर्सिडीज की नई EV की लॉन्चिंग पर नितिन गडकरी बोले- मैं मिडिल क्लास से हूं, नहीं खरीद सकता आपकी कार

मर्सिडीज की नई EV की लॉन्चिंग पर नितिन गडकरी बोले- मैं मिडिल क्लास से हूं, नहीं खरीद सकता आपकी कार

नितिन गडकरी

नितिन गडकरी

मर्सिडीज-बेंज की नई इलेक्ट्रिक कार की कीमत 1.55 करोड़ रुपये है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कंपनी से भारत में कारों ...अधिक पढ़ें

पुणे. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने शुक्रवार को जर्मन प्रीमियम कार निर्माता मर्सिडीज-बेंज (Mercedes-Benz) से भारत में अधिक से अधिक कारें प्रोडक्शन करने का आग्रह किया ताकि भारत में मिडिल क्लास लोग इसे खरीद सकें. दरअसल, मर्सिडीज-बेंज इंडिया ने शुक्रवार को पुणे के चाकन में स्थित अपने मैन्युफैक्चरिंग प्लांट से भारत में अपनी पहली असेंबल की गई कार EQS 580 4MATIC EV को लॉन्च किया. इस मौके पर गडकरी ने मजाक में कहा कि मौजूदा कीमत पर वह भी लक्जरी कार को अफोर्ड नहीं कर सकते.

गडकरी इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल थे. इस मौके पर उन्होंने कहा कि देश में इलेक्ट्रिक वाहनों का एक बड़ा बाजार है और यह हर दिन और बड़ा होता जा रहा है. उन्होंने कहा, “इन कारों की लागत तभी घटेगी, जब आप इसका उत्पादन बढ़ाएंगे. हम मिडिल क्लास के लोग हैं, यहां तक ​​कि मैं भी आपकी कार नहीं खरीद सकता.”

ये भी पढ़ें- महिंद्रा की कारों की इंडिया में बंपर डिमांड, 168 पर्सेंट तक बढ़ी सेल

EQS 580 4MATIC EV की कीमत 1.55 करोड़ रुपये
उल्लेखनीय है कि मर्सिडीज की नई इलेक्ट्रिक कार ‘EQS 580 4MATIC EV’ की कीमत 1.55 करोड़ रुपये है. मर्सिडीज-बेंज ने भारत में अपनी इलेक्ट्रिक कार ‘SUV EQC’ अक्टूबर 2020 में लॉन्च की थी. यह पूरी तरह से इंपोर्ट की गई कार है और इसकी कीमत 1.07 करोड़ है.

15 लाख करोड़ रुपये की भारतीय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री बनाना है सपना
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश में कुल 15.7 लाख रजिस्टर्ड इलेक्ट्रिक वाहन हैं. उन्होंने कहा कि भारतीय ऑटोमोबाइल का साइज इस समय करीब 7.8 लाख करोड़ रुपये है और मेरा सपना इसे 15 लाख करोड़ रुपये की इंडस्ट्री बनाना है.

" isDesktop="true" id="4678807" >
1.02 करोड़ वाहन स्क्रैपिंग के लिए तैयार
गडकरी ने कहा, “हमारे रिकॉर्ड के अनुसार, हमारे पास 1.02 करोड़ वाहन स्क्रैपिंग के लिए तैयार हैं जबकि हमारे पास केवल 40 स्क्रैपिंग यूनिट्स हैं. मेरा अनुमान है कि हम एक जिले में चार स्क्रैपिंग यूनिट खोल सकते हैं और बहुत आराम से हम ऐसी 2,000 यूनिट्स खोल सकते हैं.”

30 फीसदी तक कम हो सकती है कंपोनेंट लागत
केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, “मेरा सुझाव है कि आप कुछ ऐसी यूनिट्स स्थापित कर सकते हैं जो आपको रीसाइक्लिंग के लिए कच्चा माल देगी जिससे आपकी कंपोनेंट लागत 30 फीसदी तक कम हो जाएगी. सरकार ऐसी सुविधाओं को प्रोत्साहित कर रही है.”

Tags: Mercedes Benz India, Nitin gadkari

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें