लोन लेकर खरीदना चाहते हैं कार तो यहां पढ़ें कितना देना होगा इंटरेस्ट रेट और EMI, समझें फाइनेंस की लागत

car loan

car loan : भारत में कार मार्केट (Indian Car Market)की लोकप्रियता बढ़ रही है. खासकर कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic)के बाद निजी वाहनों की जरूरत और ज्यादा महसूस की गई.दूसरी तरफ इन दिनों कार निर्माता कंपनी एक से बढ़कर एक इलेक्ट्रिक गाड़ियों (Electric Electric Car) को मार्केट में लाॅन्च कर रही हैं, साथ ही उनपर शानदार ऑफर भी करती हैं. ऐसे में अगर आप लोन पर कार खरीदने की सोच रहे हैं तो आपको बहुत सी बातों को ध्यान रखना पड़ेगा.इनमें लोन की एलिजिबिलिटी, प्रोसेसिंग फीस, ब्याज दरें, EMI जैसी चीजों को ध्यान में रखना सबसे जरूरी है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत में कार मार्केट (Indian Car Market)की लोकप्रियता बढ़ रही है. खासकर कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic)के बाद निजी वाहनों की जरूरत और ज्यादा महसूस की गई. कई लोगों ने स्वास्थ्य जोखिम से बचने के लिए सार्वजनिक परिवहन (Public transportation) के बजाय निजी वाहनों को प्राथमिकता दी थी. यही वजह है कि अब देशभर में कार और अन्य यात्री वाहनों की बिक्री में बेतहाशा देखने को मिल रही है. वहीं, दूसरी तरफ इन दिनों कार निर्माता कंपनी एक से बढ़कर एक इलेक्ट्रिक गाड़ियों (Electric Electric Car) को मार्केट में लाॅन्च कर रही हैं, साथ ही उनपर शानदार ऑफर भी करती हैं. ऐसे में अगर आप लोन पर कार खरीदने की सोच रहे हैं तो आपको बहुत सी बातों को ध्यान रखना पड़ेगा.

    कार लोन लेने से पहले इन बातों का जरूर रखें ध्यान-

    बता दें कि कार लोन आमतौर पर तीन से पांच साल के होते हैं लेकिन कुछ बैंकों से सात साल तक के लिए भी लोन मिल जाता है. इनमें लोन की एलिजिबिलिटी, प्रोसेसिंग फीस, ब्याज दरें, EMI जैसी चीजों को ध्यान में रखना सबसे जरूरी है. इससे आपको सही निर्णय लेने में आसानी होगी. अधिक समय के लिए लोन का मतलब छोटे समान मासिक किस्तों (EMI) से हो सकता है, जिससे कार अधिक सस्ती लगती है, लेकिन कुल मिलाकर आप ब्याज के रूप में अधिक भुगतान करते हैं.

    ये भी पढ़ें-  Railtel IPO allotment: कैसे चेक करें अपना एलॉटमेंट स्टेटस? ये है सबसे आसान तरीका

    यह भूलना नहीं चाहिए कि कार एक ऐसी संपत्ति है, जिसकी वैल्यू समय के साथ गिरती है. इसलिए एक बड़ा लोन लेना गलत निर्णय हो सकता है. लेकिन अगर आप छोटी अवधि के लिए कार लोन लेते हैं, तो ईएमआई ज्यादा होगी और गैर-भुगतान का मतलब आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर दाग लगने जैसा होगा. लोन राशि पर भी शर्तें लागू होती हैं. उदाहरण के लिए, कुछ लेंडर कार की पूर्ण-शोरूम कीमत के लिए लोन देते हैं, जबकि अन्य 80% तक लोन की पेशकश कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- अच्छी खबर: अब डिजिटल पेमेंट में नहीं होगी कोई परेशानी! बैंकों ने मिलकर लिया ये बड़ा फैसला

    आइए जानते हैं कार लोन पर बैंकों की लेटेस्ट ब्याज दरें प्रोसेसिंग फी और अन्य शुल्कों के बारे में :- 

    सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया: ब्याज दर- 6.85 से 7.80%,  EMI- 1,973-2,018,  प्रोसेसिंग फीस- 500 रुपए तक प्रति प्रपोजल

    पंजाब एंड सिंध बैंक:  ब्याज दर-  7.10 से 7.90%, EMI- RS. 1,985-2,023, प्रोसेसिंग फीस- पूरी तरह छूट

    बैंक ऑफ बड़ौदा:  ब्याज दर-7.10 से 10.10%- EMI- RS. 1,987-2004- प्रोसेसिंग फीस- लोन राशि पर 0.50%

    यूनियन बैंक ऑफ इंडिया:  ब्याज दर-7.15 से 7.50%- EMI- RS 1,987-2,004- प्रोसेसिंग फीस- RS 1,000+ GST

    पंजाब नेशनल बैंक: ब्याज दर-7.30 से 7.80%- EMI- RS. 1,994-2,018- प्रोसेसिंग फीस- 31 मार्च 21 तक पूरी तरह छूट

    बैंक ऑफ महाराष्ट्र: ब्याज दर-7.30 से 8.80%- EMI- RS. 1,994-2,066- प्रोसेसिंग फीस- 28 फरवरी 21 तक पूरी तरह छूट

    केनरा बैंक:  ब्याज दर-7.30 से 9.90%- EMI- RS. 1,994-2,066- प्रोसेसिंग फीस- लोन राशि पर 0.25%

    नैनिताल बैंक:  ब्याज दर-7.40 से 9.50%--EMI- RS. 1,999-21,00- प्रोसेसिंग फीस- छूट

    UCO बैंक:  ब्याज दर- 7.45 से 7.70%-- EMI- RS. 2,001-2013- प्रोसेसिंग फीस- लोन राशि पर 1%

    बैंक ऑफ इंडिया- ब्याज दर-7.45 से 8.65%- EMI- RS. 2,001-2,059- प्रोसेसिंग फीस- 0.25% तक

    IDBI बैंक:   ब्याज दर-7.50से 8.10%-- EMI- RS. 2,004-2,032- 1500 रुपए कम से कम और अधिकतम RS. 3500

    इंडियन ओवरसीज बैंक:   ब्याज दर-7.55% - EMI- RS. 2,006- 0.60% तक

    इंडियन बैंक:   ब्याज दर-7.65 से 8.15%- EMI- RS. 2,011-2,035- लोन राशि पर 0.50% तक

    स्टेट बैंक ऑफ इंडिया:   ब्याज दर- 7.70 से 11,20%- EMI- RS. 2,013-2,184- 0.20-0.50% तक

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.