होम /न्यूज /ऑटो /आखिर कंपनियां क्यों करती हैं कारें रिकॉल, क्या होती है कंपनी पॉलिसी और कैसे होता है आपको फायदा, जानें सभी डिटेल

आखिर कंपनियां क्यों करती हैं कारें रिकॉल, क्या होती है कंपनी पॉलिसी और कैसे होता है आपको फायदा, जानें सभी डिटेल

किसी भी तरह के मैकेनिकल फॉल्ट के आने पर कंपनी गाड़ियों को रिकॉल करती है. (सांकेतिक फोटो)

किसी भी तरह के मैकेनिकल फॉल्ट के आने पर कंपनी गाड़ियों को रिकॉल करती है. (सांकेतिक फोटो)

कार कंपनियों कुछ खराबी आने पर अपनी उस लॉट की सभी गाड़ियों को रिकॉल कर लेती है. कार रिकॉल करने का एक प्रॉसेस है और इसका ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

हाल ही में महिंद्रा ने अपनी दो गाड़ियों को रिकॉल किया है.
कार रिकॉल में आपका सबसे बड़ा फायदा ये है कि आपकी गाड़ी बिना वारंटी खराब हुए ठीक होती है.
वहीं कंपनी ऐसा कर खुद पर किसी भी तरह का क्लेम लेने से बच जाती है.

नई दिल्‍ली. महिंद्रा ने हाल ही में अपनी दो सबसे ज्यादा बिकने वाली गाड़ियों को रिकॉल कर लिया है. ये गाड़ियां है XUV700 और थार. इन दोनों ही गाड़ियों के डीजल मॉडल में टर्बो चार्जर में प्रॉब्लम के बाद कंपनी ने ये फैसला किया है. इससे पहले भी 2022 में महिंद्रा एक्सयूवी 700 को रिकॉल कर चुकी है. ऐसा केवल महिंद्रा ने ही नहीं किया है हाल ही में जर्मन कंपनी बीएमडब्‍ल्यू ने भी अपनी गाड़ियों को रिकॉल किया था.

इससे पहले भी कई बार ऐसा देखने में आया है कि कंपनी अपनी गाड़ियों को रिकॉल करती है. आखिर ऐसा क्यों है कि कंपनी की नई गाड़ियों में समस्या आ जाती है. रिकॉल करने के पीछे कंपनी की क्या पॉलिसी होती है और इसके आपको क्‍या फायदे होते हैं, आइये डिटेल में जानते हैं.

ये भी पढ़ेंः XUV 700 और Thar में सामने आई बड़ी खराबी, महिंद्रा ने रिकॉल की गाड़ियां

रिकॉल करने के पीछे कारण

  • किसी न किसी मैकेनिकल फॉल्ट के बाद कंपनी अपनी गाड़ियों को रिकॉल करती हैं.
  • इसके पीछे कई बार फॉल्टी पार्ट्स या फिर मैन्यूफैक्चरिंग डिफेक्ट भी होता है.
  • कहीं न कहीं ऐसा कर कंपनियां खुद को बचाने की कोशिश करती हैं क्योंकि वारंटी या गारंटी में होने पर कंपनी पर क्लेम हो सकता है. ऐसे में कंपनियां उस पार्ट या फॉल्ट को सभी गाड़ियों में सही कर देती है.
  • रिकॉल करने के साथ ही कंपनी उस लॉट की सभी कार्स का पूरा चेकअप कर लेती है जिससे ये पता लग जाए कि कोई और फॉल्ट तो गाड़ी में नहीं है. कई बार आपको एक फॉल्ट की जानकारी देकर गाड़ी मंगवाई जाती है और उसके कुछ और पार्ट्स को भी बदल दिया जाता है.

कैसे पता चलता है

  • कंपनी अपनी गाड़ियों के मॉडल्स के हर लॉट की जानकारी रखती है.
  • ऐसे में जब एक ही लॉट की गाड़ियों मतलब एक ही समय में बनी हुई गाड़ियों में एक सी समस्या आने लगती है तो उसके किसी सप्लाइड पार्ट या फिर मैकेनिकल फॉल्ट के बारे में पता लगाया जाता है.
  • जैसे ही कंपनी को खराबी की जानकारी होती है, कंपनी उस लॉट के सभी खरीदारों से संपर्क कर गाड़ी को वर्कशॉप में कॉल करती है.
  • इसके बाद कंपनी उस फॉल्टी पार्ट या फिर मैकेनिकल खराबी को सही कर देती है.

ये भी पढ़ेंः कभी आपने देखा है चलता फिरता मैरिज हॉल, आनंद महिंद्रा ने Tweet किया अनोखी गाड़ी का Video

आपको क्या है फायदा

  • कार रिकॉल में आपको सबसे बड़ा फायदा ये है कि आपकी गाड़ी कंपनी अपने खर्च पर ठीक करती है और इसके लिए बिना वारंटी को नुकसान पहुंचाए गाड़ी के सभी खराब पार्ट्स को बदल दिया जाता है.
  • रिकॉल के दौरान आपकी गाड़ी की पूरी सर्विस फ्री ऑफ कॉस्ट होती है.
  • गाड़ी के नए पार्ट की वारंटी उस दिन से शुरू होती है जिस दिन वो गाड़ी में इंस्टॉल किया जाता है.
  • इससे आपकी गाड़ी का एक पूरा चेकअप हो जाता है, ऐसे में कोई और फॉल्ट आने पर कंपनी उसे उसी समय ठीक कर देती है.
  • ये आपकी गाड़ी की लंबी उम्र के लिए ही अच्छा होता है, ऐसे में आपकी गाड़ी में कोई भी खराब पार्ट या मैकेनिकल गलती की गुंजाइश न के बराबर बचती है.

Tags: Auto News, Car

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें