लाइव टीवी
Elec-widget

ऑटो सेक्टर के लिए बड़ा झटका! अमेरिका लगा सकता है गाड़ियों के इम्पोर्ट पर 25% टैरिफ

भाषा
Updated: November 14, 2019, 3:02 PM IST
ऑटो सेक्टर के लिए बड़ा झटका! अमेरिका लगा सकता है गाड़ियों के इम्पोर्ट पर 25% टैरिफ
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

वाणिज्य विभाग ने फरवरी में ट्रंप को एक रिपोर्ट दी थी, जिसमें अमेरिकी वाहन कंपनियों के लिए खतरों को उजागर किया था और राष्ट्रीय सुधार के आधार पर अतिरिक्त शुल्क लगाने की सिफारिश की गई थी

  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आयातित (इम्पोर्ट) वाहनों पर शुल्क लगाने के अपने फैसले की घोषणा 'बहुत जल्द' करेंगे. ट्रंप ने इस बात को कोई संकेत नहीं दिया है कि उनका फैसला क्या होगा. हालांकि इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों ने बताया कि शुल्क को अगले छह महीने के लिए टाला जा सकता है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने बुधवार को व्हाइट हाउस में संवाददाताओं को बताया , 'मैं जल्द ही एक निष्पक्ष निर्णय लूंगा. मुझे पूरी जानकारी दी गई है.'

ऑटो कंपनियां परेशान
ट्रंप पिछले साल से वाहनों के आयात (इम्पोर्ट) पर 25 प्रतिशत का शुल्क लगाने की बात कह रहे हैं. वाहनों पर शुल्क लगाने की बात से जर्मनी की वाहन निर्माता कंपनियां परेशान हैं. हालांकि जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि ट्रंप ने जापान के निर्यात को कुछ राहत देने का वादा किया है. वाणिज्य विभाग ने फरवरी में ट्रंप को एक रिपोर्ट दी थी, जिसमें अमेरिकी वाहन कंपनियों के लिए खतरों को उजागर किया था और राष्ट्रीय सुधार के आधार पर अतिरिक्त शुल्क लगाने की सिफारिश की गई थी. हालांकि , ट्रंप ने इस कदम को 180 दिनों के लिए टाल दिया था. यह अवधि बुधवार को समाप्त हो गई.

अमेरिका में बढ़ेगा निवेश

वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि यूरोपीय संघ, जापान और अन्य देशों के वाहन निर्माताओं के साथ सार्थक बातचीत के बाद शुल्क लगाना जरूरी नहीं है. सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएफपी से मंगलवार को कहा कि ट्रंप सरकार शुल्क से बचने के लिए संभावित समझौते के हिस्से के रूप में रियायत पर जोर दे रहा है. इससे अमेरिका में निवेश बढ़ाने में मदद मिलेगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऑटो से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 3:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...