Home /News /auto /

world most expensive car suv mercedes benz most valuable car best car auction mbh

ये है दुनिया की सबसे महंगी कार, क्या आप लगा सकते हैं इसकी कीमत का अंदाजा?

इस कार को हाल ही में एक नीलामी के दौरान बेचा गया है. (फोटा साभार: RM Sotheby's)

इस कार को हाल ही में एक नीलामी के दौरान बेचा गया है. (फोटा साभार: RM Sotheby's)

अगर महंगी कार सुनकर आपके मन में बेंटले और बुगाटी जैसी कारों का नाम आ रहा है तो इन्हें भूल जाइए. क्योंकि दुनिया की सबसे महंगी कार नई नहीं बल्कि 27 साल पुरानी है. हम जिस कार की बात कर रहे हैं वो मर्सिडीज-बेंज 300 एसएलआर उहलेनहॉट कूप है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. क्या आप जानते हैं, दुनिया की सबसे महंगी कार कौन सी है? अगर महंगी कार सुनकर आपके मन में बेंटले और बुगाटी जैसी कारों का नाम आ रहा है तो इन्हें भूल जाइए. क्योंकि दुनिया की सबसे महंगी कार नई नहीं बल्कि 27 साल पुरानी है. हम जिस कार की बात कर रहे हैं वो मर्सिडीज-बेंज 300 एसएलआर उहलेनहॉट कूप है.

दरअसल, 1955 मॉडल मर्सिडीज-बेंज 300 को हाल ही में एक नीलामी के दौरान 1,105 करोड़ रुपये में बेचा गया है. इस कार ने 1962 के फेरारी 250 जीटीओ के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ दिया, जिसे 2018 में 48.4 मिलियन डॉलर (करीब ₹375 करोड़ ) में बेचा गया था. तो चलिए जानते हैं आखिर इस कार में ऐसी क्या खास बात है?

ये भी पढ़ें- फॉर्च्यूनर को टक्कर देने आ गई ये सस्ती एसयूवी, कई लग्जरी फीचर्स और दमदार इंजन से है लैस

मर्सिडीज की शुरुआत से जुड़ा है इस कार का महत्व
मर्सिडीज एसएलआर उहलेनहॉट कूप का महत्व मर्सिडीज ब्रांड की शुरुआत से जुड़ा है. यह कार 1954 और 1955 में फॉर्मूला वन वर्ल्ड चैंपियनशिप में अर्जेंटीना के स्टार जुआन मैनुअल फैंगियो द्वारा इस्तेमाल की गई 8-सिलेंडर मर्सिडीज-बेंज W196 फॉर्मूला वन कार पर बेस्ड है. इस कार को कारों की मोना लिसा के रूप में जाना जाता है. इसे सिल्वर एरो कारों का वंशज माना जाता है, जिनका 1930 के दशक में कार रेसिंग में जलबा हुआ करता था. बाद में इसे 3.0-लीटर इंजन और उपनाम ‘एसएलआर’ के साथ अपग्रेड किया गया, जिसका अर्थ जर्मन में स्पोर्ट लाइट रेसिंग है.

स्कॉलरशिप के लिए होगा इस फंड का इस्तेमाल
मर्सिडीज ने अब तक 300 एसएलआर कारों में से केवल ऐसी 9 कारें बनाई हैं. मर्सिडीज के टेस्टिंग विभाग के प्रमुख रुडोल्फ उहलेनहॉट के नाम पर केवल दो स्पेशल एसएलआर उहलेनहॉट कूप प्रोटोटाइप थे, जिन्होंने एक को कंपनी कार के रूप में चलाया. मर्सिडीज-बेंज नीलामी में मिले इस फंड का उपयोग सस्टेनेबिलिटी, इंजीनियरिंग, मैथ और साइंस से संबंधित क्षेत्रों में छात्रों को स्कॉलरशिप देने के लिए करेगी.

नया मालिक नहीं चला पाएगा कार
खास बात यह है कि नीलाम करने वाली ब्रोकरेज फर्म ने कार के नए मालिक के नाम का खुलासा नहीं किया है. इसके अलावा नया इस कार को न ही अपने गैरेज में रख सकेगा और न ही इसे रोजाना चला सकेगा. कार निर्माता के साथ किए गए सौदे के हिस्से के रूप में स्टटगार्ट में मर्सिडीज संग्रहालय में कार दूसरे एसएलआर कूप के साथ रखा जाएगा. नया मालिक इसे सिर्फ कभी-कभार चला पाएगा.

Tags: Auto News, Autofocus, Car, Car Bike News, Mercedes Benz India

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर