Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri Special: जवन काशी म स्वीकार भइल, उ जगत क भइले... संगे पढ़ीं का होला बनारसी ठसक!

Bhojpuri Special: जवन काशी म स्वीकार भइल, उ जगत क भइले... संगे पढ़ीं का होला बनारसी ठसक!

.

.

श्रुति-स्मृति क बिसय में बतियावै लागि तो काशी अर्थात बनारस से बड़का अनुभव अऊर अस्तित्व त नईखे बानी. बनारस जवन एक ठो बार जइहें, ऊ एकरा भली-भांति अनुभव कर सकेला.

श्रुति-स्मृति क बिसय में बतियावै लागि तो काशी अर्थात बनारस से बड़का अनुभव अऊर अस्तित्व त नईखे बानी. बनारस जवन एक ठो बार जइहें, ऊ एकरा भली-भांति अनुभव कर सकेला. काशी बिस्व की सबसे पुरातन नगरी तो बटबै करी, किन्तु बनारस क अनुभव हृदय क बिसय बा, मस्तिष्क क नाहीं. दिल म आ सकेला, समझ म नाहीं. जइसन गंगाजल; जेतना चाहे अंजुलि में भर लिहअ, लेकिन अंजुलिए भर क मिली. बनारस धार्मिक अऊर आध्यात्मिक नगरी बा. इहां जीवन अऊर मृत्यु साथ चलत हईं. “उठा हो भोले. इतना भोर हो गईल, अबहीं तक सुतले हउअ” के भोर-निनाद क साथ त्रिलोक के नाथ बाबा विश्वनाथ के जगावे की परम्परा त बनारसै म दिखाई-सुनाई पड़ेला.

बनारस अउर बनारसी सीधे और सहज होत बानी, परन्तु ठसक भरपूर बा. सन्तोषी जीव देखे क चाही त बनारसी मनुष्य देखल जाई. बनारस क सम्मान करअ त आप राजा, लेकिन नखरे दिखइब त आपन अस्तित्वे समाप्त. अब जवन जीव बाबा के साध लिहेन, उ काहे जग की चिन्ता करै लगिहैं! बनारस में सब गुरु, केहू नाहीं चेला. दुकान के बाहर डंटे साण्ड देखल जाई, यातायात के चौचक जाम से निकले बदे जनसमुदाय म बहस करेवाला अउर घाट पर मालिसिये से सेवा करवावत बनारसी देखअ. जवन बतियन के साधारण समझे जात हौव्वअ, ऊमन बनारसी जीवन का मर्म निहित बा. आपन अकड़ धरा क धरा रह जाई. “जा बेटा, तोहरे जइसन छप्पन ठे के रोज चराइला” बनारसी स्वाभिमान अउर व्यवहार क प्रतीक बानी.

ठेठ बनरसीपने से तनिक अलगहु बिस्लेसण किहल जाई त पइहैं कि जुगीन बिस्व साहित्य अ वर्णनहु म बनारस की महिमा उन्नईस नईखे. प्रसिद्ध अमेरिकी लेखक, व्यंग्यकार अउर वक्ता मार्क ट्वेन, जिनकर “अमेरिकी साहित्य क पिता” कहल जात हईं, बनारस क “इतिहासहु से प्राचीन, परम्परौ से प्राचीन, किंवदन्त्यौ से प्राचीन” बतवलस. दूसर पाश्चात्य इतिहासविद अ पुरातत्वविद काशी की प्राचीनता “बैबीलॉन, एथेन्स, रॉम, दमिश्क, काहिरा अऊर अन्य प्राचीन क संयुक्त कालखण्डौ से अधिक”, बल्कि “काशी कालौ से प्राचीन बा” बतावत हईं. शाश्वत नगर त काशी बटबै करी. बनारस और बनारसी कवनौ परिभाषा से परे हईं.

प्रगति अउर प्रौद्योगिकी क प्रभावो बनारस पर पड़ेला. सिगरा, महमूरगंज जईसन इलाका म बहुमंजिला इमारत अ दिल्ली, लखनऊ क कल्चर देखल जा सकत हईं. पर बनारस देखे क ह तो घाट पर आवा नाहीं त ठेठ बाबाजी क दर्सन कियल जाई. गाइड संगे घूमेवाला शहर त बनारस नईखे. बनारस की वास्तविक यात्रा खातिर त एक जन्मौ कम बा! बनारस क आपन विशिष्ट परिचय बटबै करी, किन्तु ई नगर बड़ा ग्रहणशील बा. प्रत्येक प्रदेश अ इहाँ तक कि दूसर देश की बोली-भासौ से कुछ न कुछ सीखत किन्तु आपन फक्कड़पन और मस्ती क रंग न भूलिहैं. ऊसे त कवनो समझौता त नइखे हो सकेला. जाति-धर्म क भाव त बनारस म भरपूर बा लेकिन पूरे आनन्द अउर गूढ़ता संगे.

स्वाभिमान अउर वैशिष्ट्य बनारस की बोली म भरपूर झलकत-छलकत बा. बनारसी साहित्य सर्जन पर तनिक नजर डाल लिह. भारतेन्दु हरिश्चन्द्र “सेवक गुनीजन के, नगद दामाद अभिमानी के...” में मान-स्वाभिमान साफ दिखाई पड़त हईं. बनारस आवे क पश्चात गोस्वामी तुलसीदासौ एकर रंग स अप्रभावित न रहलन; लांछन अउर टीका-टिप्पणी पर कवितावली में उनकर पंक्ति पढ़े क चाही “धूत कहौ, अवधूत कहौ, रजपूत कहौ, जोलहा कहौ कोउ. काहु की बेटी से बेटा न ब्याहब, काहु की जात बिगाड़बै न कोउ. मांगि के खइबो, मसीति में सोउबो, लेइबेको एक न देइबे को कोउ....” प्रसाद, प्रेमचंद, धूमिल...साहित्य में परम्परा क इतिहास काशी म सुदीर्घ बा. आधुनिक हिन्दी गद्य का स्वरूपौ बनारसे म अस्तित्व म अइलन, ई कहे में कवनो अतिसयोक्ति नइखे. हिन्दी गद्य क गाम्भीर्य अउर सुदृढ़ता क निर्माता आचार्य रामचन्द्र शुक्ल हईं. आचार्य शुक्ल आलोचक, निबन्धकार, साहित्येतिहासकार, कोशकार, अनुवादक, कथाकार और कवि रहेन. हिन्दी साहित्य का इतिहास उनकर अतिविशिष्ट रचना बा. साहित्य कालखण्ड क निर्धारक, हिन्दी निबन्ध क बिस्वस्तरीय बानवे म अउर भासा की गद्यशक्ति की प्रस्थापना म शुक्लजी अनन्य बाटे. वइसे शुक्लजी क जन्म बस्ती में भईल रहा और प्रारम्भिक जीवन मिर्जापुर में बीतलस, किन्तु साहित्य कर्तृत्व त बनारसे म रहा. नागरी प्रचारिणी सभा म हिन्दी शब्दसागर क सहायक सम्पादक अउर प्रचारिणी की पत्रिका के सम्पादक रहेन. काशी हिन्दू विश्वविद्यालय म विभागाध्यक्षौ रहेन.

बोलियों का इतिहास हजार वर्ष से अधिक क नाहीं. बनारस में ही बनारसी भोजपुरी क आपन वैशिष्ट्य त बटबै करे, पर नगर क विभिन्न भागौ म जइसन गोदौलिया, कबीरचौरा, गायघाट, बड़ी बाजार और लंका में ओकर अलग-अलग पुट बा. जॉर्ज एब्राहम ग्रियर्सन, जेकर आग्रह पर जनगणना भईल रहल, लिंग्विस्टिक सर्वे ऑफ इण्डिया के प्रणेता रहलेन. उनकर कार्यकाल के दौरान बोलियों पर भी कार्य भइले रहा. ई सोध म बनारसी सहित अन्य बोलियों का स्वरूप प्रकट भईल.
गमछा उठाए, लंगोट पहने और अखाड़े म जाए बदे, यानी पहलवानी करै बदे बनारसी जीवन. लंगोट की मजबूती इहाँ क बिसेश मुहावरा प्रसिद्ध बा. पहलवानी काशी की प्रतिष्ठा क प्रतीक पहिले खूब रहली, अबहुं तनिक तनिक बा. पहिले त काव्य-संगीत संगे पहलवानी की गणना प्रतिष्ठित म होत रहल. अखाड़ों की संख्या ओकर प्रमाण बा, लोकप्रियता त आजौ बा. पहिले हर मोहल्ले में अखाड़े रहेन, आज अधिकतर के नाम शेस बाटे, जैसे, पण्डाजी क अखाड़ा, राज मन्दिर अखाड़ा, अधीन सिंह अखाड़ा, स्वामीनाथ अखाड़ा आदि.

हर युग म काशी अध्यात्म, संस्कृति और शिक्षा का केन्द्र रहीन ह. धर्म रक्षण म आद्य वेदान्त के सबसे महान प्रवर्तक दक्षिण से आवेवाले शंकराचार्य क कर्मभूमि अउर विजय-भूमि बनारस रही, जिनकर माध्यम से आपन मत क प्रवर्तन अउर विमत क खण्डन भईल रहा. सब काशिये म आकर होत रहल. बनारस प्रयोग भूमि प्रतिष्ठित अउर बिस्वविख्यात बा. गौतम बुद्ध ज्ञानबोध गया म प्राप्त कइलस किन्तु धर्म चक्र प्रवर्तन बदे ऋषि पत्तन यानी सारनाथ, वाराणसी आए. ऋषि-मुनि, साधु सन्त त पुण्यसलिला गंगा क सान्निध्य में तप करे बदे मोक्षदायनी काशी अवते बाटे. सगुण क सौष्ठव अथवा निर्गुण क नाद, सब काशी म विद्यमान हईं. छत्रपति शिवाजी महाराज क राज्याभिषेक बदे गागाभट्ट काशी से पुणे गईलेन. महान विचारक, स्वतन्त्रता सेनानी, कर्मयोगी भारतरत्न पण्डित मदन मोहन मालवीय क अनन्य योगदान काशी हिन्दू विश्वविद्यालय त प्रसिद्ध बाटे. जवन काशी म स्वीकार भए, उ जग क भइलन.
(लेखक दक्षिण भारत मूल के हैं लेकिन वाराणसी में निवास करने के कारण भोजपुरी प्रेमी हैं. ये उनके निजी विचार हैं.)

आपके शहर से (लखनऊ)

Tags: Banaras, Bhojpuri, Bhojpuri News, Kashi, News in Bhojpuri, उत्तर प्रदेश, भोजपुरी, वाराणसी

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर