Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri में पढ़ीं- हई देखीं तस्करी-तस्करी

Bhojpuri में पढ़ीं- हई देखीं तस्करी-तस्करी

.

.

आईं कुछ रोचक आ चौंका देबे वाला तथ्य के जानकारी लिहीं जा. आधा रात के अन्हार भइल रहे. जगह रहे पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिला के सीमा जहां बांग्लादेश के बार्डर बा. बीएसएफ (बार्डर सिक्यूरिटी फोर्स) के जवान दू गो मेहरारुन के ध के ले आइल लोग. बीएसएफ के जवान कहल लोग कि अन्हार के फायदा उठा के ई दूनो मेहरारू बांग्लादेश से हमनी का देश में अबे ढुकली ह सन.

अधिक पढ़ें ...

तस्कर एकनी के बार्डर पार करा देले बाड़े सन, काहे से कि हर जगह तार से बार्डर के नइखे घेरल गइल. कुछ जगह अभी घेरल बाकी बा. अब ए दूनो मेहरारुन के तलाशी भइल. एकनी के कच्छा आ जांघ में सोना के बिस्कुट बन्हले रहली सन. एक बेर खूब भारी घास के बोझा के बीच में भारी मात्रा में गांजा मिलल रहे. अब बीएसएफ के जवान सीमा पर कौनो मेहरारू देखते चौकस हो जाले सन. ओकनी के दिमाग में खतरा के घंटी बाजे लागेला.

पश्चिम बंगाल में पशु तस्करी के गाय- गोरू के तस्करी कहल जाला. गांजा तस्करी के नांव बांग्ला में जस के तस बा. अभी हफ्ता भर पहिले मालदा जिला में बांग्लादेश बार्डर पर पशु तस्करन से अकेले एगो बीएसएफ के जवान लड़ि के शहीद हो गइल. एगो अउरी घटना सुनीं- पेट्रापोल, पश्चिम बंगाल के बांग्लादेश बार्डर ह. त पेट्रापोल में बीएसएफ 50 किलो गांजा का साथे दू गो तस्करन के पकड़ लिहुअन स. ई दूनो घटना के कोलकाता के अखबार प्रमुखता से छपुअन स. पशु आ गांजा तस्करी बीएसएफ खातिर कड़ा चुनौती बनि गइल बा. एकर कारन ई बा कि भारत आ बांग्लादेश के सीमा 2, 216 किलोमीटर लंबा बा. हर जगह कंटीला तार लागलो बा त रात खान तस्कर ओ तार के काटि देले सन. बांग्लादेश में कुछ संवेदनशील जगहन पर ऊंचा कंटीला तार लगावल गइल बा. त पशु तस्कर तार के बिना कटले लीवर प्रणाली से पशु के ओ पार से ए पार क देले सन. ई लीवर प्रणाली का ह? लीवर प्रणाली माने एगो क्रेन नियर मशीन जौना से पशु के ओ पार से ऊंचाई तक टांगि के तार के ऊपरे ऊपर ए पार उतार दिहल जाला.

एकरे के लीवर प्रणाली कहल जाला. एकरा के झूला प्रणाली भी कहल जाला. रात का अन्हारा में ई काम खूब होला. अब रउरा मन में सवाल उठत होई कि ई पशु तस्करी होला काहें? त रउरा जानते बानी कि हमनी का देश में पशु तस्करी गैर कानूनी बा. बाकिर बांग्लादेश में पशु तस्करी वैध बा. बांग्लादेश में मांसाहार के खूब प्रचलन बा. हमनियो का देश में मांसाहार कम नइखे. बकरा का अलावा भी कई गो जानवरन के मांस कतने लोग चाव से खाता. हम- रउरा नइखीं जा खात त ओसे ओह लोगन पर कौनो असर पड़े के नइखे. त मान ली ए पार (भारत) से गाइ- गोरू ओ पार (बांग्लादेश) गइल. त ओ पार जाते टैक्स वगैरह देके ई तस्करी वैध हो जाई. काहें से कि ओइजा पशु के कहीं से ले आवल मना नइखे. बांग्लादेश में बीफ खाए वाला लोगन के संख्या ज्यादा बा. तस्करन से बीएसएफ के जवानन के मुठभेड़ के घटना बीच- बीच में आवत रहेला. एने केंद्र सरकार बार्डर पर बहुत कड़ाई कइले बिया. एसे तस्कर बौखला के हमला करे लागल बाड़े सन. ओकरो दवाई होता.

एने सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) पिछला साल एही जनवरी में ई कहि के सबका के चौंका दिहलस कि हमनी का देश के गाय के कई गो खेप अवैध रूप से बांग्लादेश में पहुंचावल जा रहल बा. आरोप लागल कि एह तस्करी में कुछ बीएसएफ आ कस्टम के भी लोग शामिल बाड़े. आरोप त बा कि कुछ कथित नेता लोग भी एकरा के संरक्षण दे रहल बा आ खूब कमाई क रहल बा. बाकिर काम करेके तरीका अइसन बा कि कौनो प्रमाणे ना मिली. अउरी तेज कड़ाई भइल. अब बीएसएफ वाला लोग ढेर चौकस हो गइल बा. अब कहल जा रहल बा कि बार्डर पर जतना पशु आ गांजा तस्करी होता ओमें से खाली पांचे प्रतिशत तस्करी बीएसएफ वाला रोक पावता, बाकी पंचानबे प्रतिशत तस्करी धड़ल्ले से चालू बा. सीबीआई एह तस्करी के पीछे काम करे वाला गिरोह के तह तक पहुंचे के कोशिश में बिया. सीबीआई जानतिया कि मालदा, मुर्शिदाबाद जइसन जिला बांग्लादेश के बार्डर पर बाड़न स आ एही रास्ता से लगभग रोज गाय- गोरू के तस्करी होता.

एमें हरियाणा आ उत्तर प्रदेश के पशु ढेर दाम में बेचाले सन काहें से कि ओकनी के ऊंचाई ढेर होला आ मांस अधिका होला. बाकी नस्ल कम ऊंचाई वाली होली सन आ ओकनी में कम मांस होला. हमनी के देश में गोमांस के तस्करी पूरी तरह बैन बा. गोमांस के प्रति हमनी के सरकार बहुते सख्त बिया. बाकिर अवैध काम करे वाला चैन से कइसे रहि सकेले सन. सन 2016 में सीबीआई अनुमान लगवले रहे कि खाली गोमांस के अवैध तस्करी से पश्चिम बंगाल के तस्करन के 15 हजार करोड़ के फायदा होता. ढेर ना, आठ साल पहिले वाला आंकड़ा पर नजर डालीं. सन 2014 में तस्करी कके ले जात करीबन एक लाख दस हज़ार पशुअन के बीएसएफ ज़ब्त कइले रहे. सन 2016 तक सीमा पर ज़ब्त पशुअन के संख्या एक लाख 69 हज़ार तक पहुंच गइल. बांग्लादेश से गाय- गोरू के ओह देशन में तस्करी कइल जाला जहां गोमांस ज्यादा प्रचलित बा. भारत से कम दाम में पशु खरीद के ओह धनी देशन में तीन से चार गुना ज्यादा दाम पर बेचल जाला जहां गोमांस भोजन के रूप में कइल जाला.

बांग्लादेश के तस्कर माल ओ पार से ए पार ले आवे खातिर मेहरारू आ छोट लइकन के भी इस्तेमाल करेले सन. पहिले त मेहरारू आ लइकन पर शक ना भइल. बाकिर जब मेहरारुन आ लइकन का लग से सोना आ गांजा मिले लागल त बीएसएफ के अफसरन के माथा ठनकल. अब त एतना कड़ा पहरा हो गइल बा कि मेहरारू आइए ना सकेली सन. बाकिर आरोप बा कि दू हजार से ज्यादा किलोमीटर लंबा बार्डर में, जहां बीएसएफ के तैनाती नइखे, ओइजा से मेहरारू आ जाली सन आ कोलकाता आ दिल्ली में नौकरानी के काम करेली सन. एही से भारत के जनसंख्या लगातार बढ़ि रहल बा.

एही बीच एगो अउरी घटना सामने आइल. पिछला चार  जनवरी के बीएसएफ के जवान  तीन गो तस्करन से 3147.51 ग्राम सोना के 17 गो बिस्कुट आ एगो सोना के बार (छड़) के साथे पकड़लल लोग. जब्त सोना के बिस्कुट के अनुमानित कीमत 1,55,58,167.35/- रुपया बा. तस्कर सोना के बिस्किट के उत्तर 24 परगना जिला के सीमावर्ती इलाका से तस्करी के माध्यम से बांग्लादेश से भारत ले आवे के कोशिश करत रहुअन स. गिरफ्तार भइल तस्कर आ जब्त सोना के बिस्कुट के आगे के कार्रवाई खातिर कस्टम कार्यालय को सौंप दिहल गउवे. अतना कड़ा चौकसी के बाद भी तस्कर जान पर खेलि के अवैध काम कर रहल बाड़े सन. कई बार त तस्कर बीएसएफ के जवानन पर हमला क देले सन. एगो बीएसएफ के जवान के मृत्यु के बात ऊपर बतावल गइल बा. बीस गो तस्करन के गिरोह एक साथे बार्डर पार क लेले रहुअन स. पुलिस कहेले कि जेकर अवैध कमाई के चस्का परि जाई ओकरा ईमानदारी वाला काम नीके ना लागी. अइसन लोग अवैध काम करे खातिर आपन जान भी दे सकेला. मरे- मारे पर उतारू हो सकेला.

सीबीआई के बीच में अइला का बाद स्थिति बदलि गइल बा. चौकसी खूब गहिर भइले बा, जासूसी तंत्र भी विस्तारित आ सिस्टमेटिक भइल बा. केंद्र सरकार बहुत गंभीरता से एह मामला के ले रहल बिया. त अब पहिले जइसन मनमाना मामला नइखे. बांग्लादेश के तस्कर लोग मराता. तस्करन में भय के संचार हो गइल बा. जौन ढीठ तस्कर बाड़न स, ओकनियो के दवाई खोजाइले होई. सीबीआई केहू के कइसे छोड़ि दी. त राडार पर ऊहो लोग बा, जे एह तस्करन के ए पार भा ओ पार मदद कर रहल बा.

(विनय बिहारी सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Bhojpuri Articles, Bhojpuri News

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर