Bhojpuri: 'खाए गोरी के यार बलम तरसे’ से लेके ‘जोगी जी धीरे धीरे’, खूब पसंद होला फगुआ गीत

होली अल्हड़पन आ मर्यादा में रही के कायदा से बेकायदा होखे वाला त्योहार ह. एही कारण इ बड़ा लोग के पसंदों ह. लोग साल भर सामाजिक नियम-कानून, रूढ़िवाद, विचारवाद आदि में बन्हाइल रहेला आ होली के दिने खुल के आनंद मनावेला. दोसरा शब्द में कहल जाव त इंसान के इंसान बन के आजाद होखे के त्योहार ह होली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 4:02 PM IST
  • Share this:
का ह होली ? मर्यादा में रह के संयम तूड़ दिहल. सरहद तूड़ दिहल. कथी के सरहद? कइसन सरहद? आदमी के बनावल सरहद. जाति-पात, धर्म-संप्रदाय, अमीर-गरीब, छोट-बड़ आ ऊँच-नीच के सरहद. मतलब होली के मतलब ह भेद मिटावल. एक्के रंग में रंग गइल.

हमरा गाँव के चनेसर चाचा कहेलें कि होली के माने होला खूबे ढेर रंग, चाल ढाल बेढंग, अलर बलर बोली, हंसी ठिठोली, बूढ़ से जवान ले चढ़ल खुमारी, रसभरल गारी, पुआ आ कटहर के तरकारी, पवडुकिया आ पकवान, गड़ी-छुहाड़ा संगे भउजी के स्नेह आ साली के कनखी, ठूंठों में पनखी, रंग में सनाइल घर-दुआर-बथान आ रंगा के एक्के भइल राम आ रहमान, चौबे आ चौहान.

कुल मिला के एह हर्षोल्लास के त्यौहार के माने-मतलब बा- मन के विष ग्रंथि के ख़तम खइल. गाँठ के ख़तम कइल. तन के रंगल आ मन के साफ़ कइल. फगुआ पर केन्द्रित हमार (मनोज भावुक ) कुछ दोहा बा-

कींचड़-कांदों गाँव के सब फागुन में साफ।
मिटे हिया के मैल भी, ना पूरा त हाफ॥

के बाटे अनुकूल आ के बाटे प्रतिकूल।

ई कहवाँ सोचे कबो उड़त फागुनी धूल॥



ठूठों में फूटे कली, अइसन आइल जोश ।

अब एह आलम में भला, केकरा होई होश ॥

महुआ चुअत पेड़ बा अउर नशीला गंध ।

भावुक अब टुटबे करी, संयम के अनुबंध ॥

माने साफ बा कि होली अल्हड़पन आ मर्यादा में रही के कायदा से बेकायदा होखे वाला त्योहार ह. एही कारण इ बड़ा लोग के पसंदों ह. लोग साल भर सामाजिक नियम-कानून, रूढ़िवाद, विचारवाद आदि में बन्हाइल रहेला आ होली के दिने खुल के आनंद मनावेला. दोसरा शब्द में कहल जाव त इंसान के इंसान बन के आजाद होखे के त्योहार ह होली. हालांकि इ त भारी भरकम बात हो गइल होली के लेके, हलुक-फुलुक बात कइल जाव; होली मनावे में जेतना मजा आवेला ओतने मजा ओकर बात करे में आवेला. इहे कारण बा कि होली से जुड़ल हर चिजवे में एगो उत्सव लुकाइल बा, उ पुआ पकवान होखे, होली खेले के तौर तरीका होखे, होली के गीत गवनई होखे भा होली के दिन लोगन के मिजाज होखे। सब में उत्साह बा, उत्सव बा, उत्सर्ग बा भावना के, प्रेम के, भाईचारा के, मानव होखला के आत्मबोध के। दरअसल होली भारत के पहचान ह. प्राण ह.

होली होखे आ होली के गीत ना होखे त होली होली लगबे ना करी. भोजपुरी में त फगुआ गायन के एगो विधा बा. खैर, आज त हम भारत के सबसे बड़ फिल्म उद्योग हिन्दी सिनेमा में होली पर बनल भा होली के दृश्य पर फिल्मावल कुछ उत्साह आ उत्सव से भरल गीतन के चर्चा करsतानी.

हिन्दी फिल्मन में होली गीतन के इतिहास 1940 से ही मिलेला. महबूब खान के फिल्म औरत में होली के दू गो गीत रहे. एह फिल्म में अभिनय कइल लोग, सरदार अख्तर, सुरेन्द्र आ अरुण कुमार आहुआ जे सुपरस्टार गोविंदा के पिता रहलें. फिल्म के गाना अनिल बिस्वास कम्पोज कइले रहलें. पहिला गाना जमुना तट पर श्याम खेलें होरी आ दुसरा गाना आज होली खेलेंगे साजन के संग रहे.

Youtube Video


Youtube Video


1950 में दिलीप कुमार - नरगिस के फिल्म जोगन आइल. फिल्म सालों साल तक मीरा के भजन के फिल्मांकन खातिर जानल गइल. एह फिल्म में होली गीत डारो रे रंग डारो रे रसिया गीता दत्त गवले रहली आ उ तब अपना किशोरावस्था में रहली. लेकिन गाना में जवन अल्हड़पन आ मस्ती बा ओकरा के सुन के रउआ लागी ना कि एगो किशोरी इ गाना गावतिया-

Youtube Video


एकरा बाद के साल में भी कई गो होली के गीत आइल जवन ओ दौर में काफी लोकप्रिय भी भइल. एगो होली गीत 1956 में आइल फिल्म दुर्गेश नंदिनी में जे में हेमंत कुमार के कंपोजिशन रहे. फिल्म में बीना राय आ प्रदीप कुमार मुख्य भूमिका में रहे लोग. गाना ‘मत मारो श्याम पिचकारी’ कान के सुकून पहुंचावे के साथे ठिठोली करेला, एके जरूर सुनीं-

Youtube Video


1959 मे रिलीज भइल फिल्म 'नवरंग' के ओइसे त सब गीत एक से बढ़के एक रहे बाकिर ओकर होली गीत ‘अरे जा रे हट नटखट’ आजुओ लोग के जुबान पर बा. एह बेरा नू रैप सॉन्ग के बड़ा ट्रेंड आइल बा बाकिर समय से बहुत पहिले एह गाना में रैप कइलें रहलें चितलकर जी. हालांकि एकर दूसर नाम बा जेके जोगीरा कहल जाला. एह गाना के आवाज देहले रहे लोग महेंद्र कपूर आ आशा भोसले जी. गाना के पिक्चराइजेशन भी कमाल के भइल रहे-

Youtube Video


1958 में आइल हिन्दी सिनेमा के एगो माइलस्टोन फिल्म ‘मदर इंडिया’ में होली के गीत रहे जवन अभियो लोग चव से सुनेला. इ गाना के लिखलें शकील बुदायूंनी, शमशाद बेगम के खनखत आवाज से सजल आ संगीत दिहलें मशहूर संगीतकार नौशाद जी. फिल्म के डायरेक्टर रहलें महबूब खान जे 1940 में औरत बनवले रहलें जेकर जिक्र हम शुरुए में कइले बानी. फिल्म के कहानी औरत से ही प्रेरित रहे. गाना खूबसूरत हिरोइन नरगिस, राजकुमार, सुनील दत्त आ राजेन्द्र कुमार पर फिल्मावल गइल रहे-

Youtube Video


साल 1970 में आइल फिल्म कटी पतंग में एगो गाना रहे ‘आज ना छोड़ेंगे तुम्हें’. इ गाना के अलगे फैन बेस बा. लोग अभियो पुराना गाना पर नाचे के मन करेला त इ गाना बजावेला. एकरा बिना होली के प्लेलिस्ट अधूरा बा. ई गाना राजेश खन्ना आ आशा पारेख पर फिल्मावल गइल आ एकरा से गावल लोग किशोर कुमार अउरी लता मंगेशकर-

Youtube Video


जय वीर आ बसंती के केहु नइखे भुला सकत आ ना केहु गब्बर सिंह के भुला सकत बा. 1975 के फिल्म शोले में होली गीत ‘होली के दिन दिल खिल जाते हैं' पर नाचे के मन सभके करेला. इ फिल्म के साथे इ गाना भी खूबे पसंद कइल गइल-

Youtube Video


होली के गीतन के चर्चा होता आ सबसे लोकप्रिय आ आइकॉनिक गीत के बात ना होखे इ कइसे हो सकेला. फिल्म ‘सिलसिला’ के गीत ‘रंग बरसे भीगे चुनर वाली’ अभी भी हर साल होली के सबसे ढेर बाजे वाला गीत हवे. इ गीत संजीव कुमार, अमिताभ बच्चन आ जया भादुडी (बच्चन), रेखा पर फिल्मावल गइल आ एकरा के लिखले रहलें अमिताभ के पिता आ मशहूर हिन्दी कवि हरिवंश राय बच्चन जी. इ गीत खुद अमिताभ अपना आवाज में रिकॉर्ड कइले रहलें. इ गाना त बुझीं हर केहु के नाचे पर मजबूर कर देला-

Youtube Video


हालांकि पुरनका फिल्मन में जेतना होली गीत बनल बा ओतना त नयका दौर में नइखे बनल. एगो गाना जवन बूढ़ से जवान लेके पसंद आवेला उ बा ‘जोगी जी धीरे धीरे’. सचिन पिलगांवकर आ हेमलता पर फिल्मावल इ गाना अउरी इ फिल्म दूनू हिन्दी सिनेमा में कीर्तिमान गढ़लस. फिल्म के गवले, लिखलें आ संगीत दिहले रहलें महान संगीतकार रविंद्र जैन. इ गाना त हर होली में जरूर बाजेला-

Youtube Video


ई सब त पुरनका फिलिम के होली गीतन के बात भइल. नयको फिलिम पर बात करेम बाकिर अभी हमार मन होलियाना होता. त एगो बात कह के जात बानी. बुरा मत मानेम होली ह. बात ई बा कि होली मुंह रंग के बानर बने वाला त्योहार ना ह, आदमी के आदमी बनावे वाला त्योहार ह. ई त्योहार बतावेला कि केहू के आपन कवनो रंग नइखे, आपन कवनो जात नइखे, आपन कवनो सम्प्रदाय नइखे, दरअसल ई सब आदमी के बनावल खोल ह, जवना में घुस के उभ-चुभ करsता. हैप्पी होली.

( लेखक मनोज भावुक सिनेमा और संगीत के मर्मज्ञ हैं. )
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज