Bhojpuri Spl: खूबसूरत हीरोइन हई अक्षरा सिंह, पर उनकर मम्मी-पापा ह लोग फिलिम के खतरनाक विलेन

भोजपुरी सिनेमा के खूबसूरत अभिनेत्री अक्षरा सिंह (Actress Akshara Singh) फिलिम में लीड एक्ट्रेस के रोल निभावेली, लेकिन उनकर मम्मी (Neelima Singh) अउर पापा विपिन सिंह (Vipin Singh) खतरनाक विलेन ह लोग...फिलिम में. रियल जिंदगी में त बहुत मिलनसार, हंसमुख आ नेक दिल इंसान ह लोग.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 11, 2021, 3:53 PM IST
  • Share this:
मॉडर्न भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) में अवधेश मिश्रा, संजय पाण्डेय, सुशील सिंह आ अनूप अरोड़ा हीं ना भोजपुरी के चर्चित अभिनेत्री अक्षरा सिंह के पापा विपिन सिंह (Vipin Singh) आ मम्मी नीलिमा सिंह भी अपना सशक्त अभिनय से खलनायिकी के दुनिया में इतिहास रचले बा लोग. रउरा सब त जानते बानी कि आधुनिक भोजपुरी सिनेमा के सबसे चर्चित अभिनेत्री के नाम ह अक्षरा सिंह. अक्षरा अलग-अलग हीरो के साथ जोड़ी बनवला के बावजूद आपन स्वतंत्र अस्तित्व बनावे मे भी सफल भइल बाड़ी.

भोजपुरी सिनेमा हमेशा से हीरो-केन्द्रित फिल्म उद्योग रहल बा लेकिन कुछ दमदार हीरोइन बाड़ी जे अकेले भी असरदार बाड़ी. अक्षरा सिंह के शुरुआत भोजपुरी में रवि किशन के फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ से भइल. उनके माता-पिता नीलिमा सिंह आ विपिन सिंह पहिलहीसे अभिनय से जुड़ल बा लोग त 30 अगस्त 1993 के मुंबई में जनमल अक्षरा के घर में ही अभिनय के चस्का लागल. उ ज़ी टीवी के शो काला टीका भी कइली जवन बहुत लोकप्रिय भइल. उ साल 2011 से लगातार भोजपुरी फिल्म में काम कर रहल बाड़ी. पहिले उनकर खेसारी लाल के साथे जोड़ी बनल आ फिल्म आइल ए बलमा बिहार वाला, जो जीता वही सिकंदर, साथिया, मै हूँ हीरो न 1, दिलवाला आदि. ओकरा बाद पवन सिंह के साथे जोड़ी बनल आ फिल्म आइल प्रतिज्ञा 2, करेला कमाल धरती के लाल, सरकार राज, सत्या, धड़कन, पवन राजा आ सइयां सुपरस्टार. रितेश पांडेय के साथे उनकर फिल्म आइल डोली, दबंग दामाद आदि. लेकिन एह सब के बावजूद स्टेज शो आ अल्बम में बतौर गायिका उ आपन एगो अलग पहचान आ स्वतंत्र अस्तित्व बनवले बाड़ी.

अक्षरा अपना अभिनय, नृत्य अउर भाव-भंगिमा से करेजा में उतर जाली. उनकर आपन एगो फैन फॉलोविंग बा. उनकर गीत डिजिटल प्लेटफोर्म पर भी खूब सुनल जाला. पवन सिंह के साथ विवाद के वजह से उ भारतीय टेलीविजन पर काफी सुर्खी में रहली. फेर निर्देशक अनुभव सिन्हा के टिप्पड़ी पर भी उ भोजपुरी सिनेमा के पक्ष से काउंटर टिप्पणी खातिर टीवी पर सुर्खी बटोरली. कहे के मतलब कि सोशल मिडिया होखे भा फ़िल्मी पर्दा, न्यूज चैनल होखे भा स्टेज शो ...हर जगह अक्षरा के जोरदार उपस्थिति बा. प्राण जाई पर वचन ना जाई, ए बलमा बिहार वाला, दिलवाला, सत्या, निरहुआ रिक्शावाला 2, सत्या, माँ तुझे सलाम, धड़कन, साथिया जइसन अनेक फिलिमन में अपना सशक्त अभिनय से दर्शक के दिल में जगह बनवले बाड़ी, से अलग. अभिनय अक्षरा के डीएनए में बा काहे कि उनकर माता-पिता जबरदस्त कलाकार बाड़न.

रवि किशन के फिल्म ‘बिहारी माफिया’ से भोजपुरी सिनेमा में उतरलें विपिन सिंह
लगभग 25 साल तक थिएटर से जुड़ल विपिन सिंह भोजपुरी से पहिले हिंदी में अच्छा काम कइलें बाड़ें. जवना में ‘मुंबई शूटर’, श्रेयस तलपडे के फिलिम ‘आगे से राईट’ आदि कइगो फिलिम शामिल बा. टीवी सीरियल ‘जय श्री कृष्णा’ में भामासुर के नेगेटिव रोल में भी उनका के नोटिस कइल गइल. पटना के रहे वाला विपिन सिंह भोजपुरी में रविकिशन के फिल्म ‘बिहारी माफिया’ से शुरुआत कइलें. ओकरा बाद उनकरा के कई गो फिलिम ऑफर होखे लागल. बकौल विपिन सिंह, ‘मसीहा बाबू’ में नेगेटिव दरोगा के रोल उनकर पसंदीदा रोल ह. पवन सिंह के फिलिम ‘सत्या’ में लल्लन तिवारी के रोल कइलें, जे एगो दबंग शख्सियत रहल अउर ओकर पूरा बिहार में एगो साम्राज्य रहल. पवन सिंह के फिलिम ‘वान्टेड’ में उ एगो मुस्लिम नेता के भूमिका में रहलन, जे नकारात्मक चरित्र के रहे. कुछ अइसन ही रोल फिलिम ‘इंडियन’ में भी उ निभवले जेकर जादातर संवाद हिंदी में रहल. ई सब किरदार विपिन सिंह के उल्लेखनीय किरदारन में से बा. अभी ले उ भोजपुरी में लगभग 138 गो फिलिम कइलें बाड़े.

निमकी मुखिया सिरियल से त घर-घर मे पहुंच गइली नीलिमा सिंह

भोजपुरी सिनेमा के आधुनिक दौर में भी स्त्री के खल-पात्र खूब लउकेला जइसे क्रूर सास, सौतेली माँ, बिगड़ैल अमीर मालकिन आदि. एह सब पात्रन के निभावे वाला कलाकारन में नीलिमा सिंह के नाम प्रमुख बा. नीलिमा सिंह हिन्दी टीवी सीरियल से लेके भोजपुरी सिनेमा में कई गो यादगार भूमिका निभवले बाड़ी. यथा, असलम शेख के निर्देशन में बनल फिलिम ‘बिदाई’ जेकरा में उ रिंकू घोष के क्रूर सास के रोल कइले रहली, ई फिलिम अउर रोल दूनो काफी सराहनीय रहे. ‘पायल’, ‘कर्ज़ विरासत के’, ‘दरिया दिल’, ‘देस परदेस’ में नीलिमा सिंह नकारात्मक किरदार कइलें बाड़ी. फिलिम ‘ठोक देब’ में उनका लीड विलेन के रोल मिलल जवन भोजपुरी में नया प्रयोग रहे, एगो महिला मुख्य खलनायक के भूमिका में रहे. ‘प्यार बिना चैन कहाँ रे’ अउर ‘कईसन पियवा के चरित्तर बा’ में उ क्रूर सास के भूमिका निभवले रहली. निमकी मुखिया सिरियल से त उ घर-घर मे पहुंच गइली. विपिन सिंह आ नीलिमा सिंह से अभिनय के जवन संस्कार मिलल, ओकरा के लेके बहुत आगे निकल गइल बाड़ी अक्षरा अउर अपना ना खाली अपना मम्मी-पापा के नाम रोशन कर रहल बाड़ी बल्कि उनकर सपना भी साकार कर रहल बाड़ी.



(लेखक मनोज भावुक भोजपुरी सिनेमा के जानकार हैं. )
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज