• Home
  • »
  • News
  • »
  • bhojpuri-news
  • »
  • Bhojpuri Spl: सुशील सिंह से लेके अनूप अरोड़ा तक, फिलिम में अपना खलनायकी से जीत लेलें दिल

Bhojpuri Spl: सुशील सिंह से लेके अनूप अरोड़ा तक, फिलिम में अपना खलनायकी से जीत लेलें दिल

.

भोजपुरी फिलिम में अवधेश मिश्रा (Awadhesh Mishra) आ संजय पाण्डेय (Sanjay Pandey) के अलावा अनूप (Anoop Arora) अरोड़ा अउर सुशील सिंह (Sushil Singh) भी अपना खलनायकी से दिल जीत लेलें. लोग इनका दमदार एक्टिंग के फैन हो जाला.

  • Share this:

भोजपुरी सिनेमा लगभग 60 साल के हो गइल. कहल जाला कि साठा प पाठा. फिलिम पाठा भइल चाहे ना, विलेन पाठा हो गइलें. दाम त ना लेकिन ट्रीटमेंट उनका हीरो के समानांतर मिलल शुरू भइल बा. शुरूआती 40 साल जवना में रामायण तिवारी, कुंदन, हरी शुक्ला, कन्हैया लाल, राम सिंह, ब्रजकिशोर, विजय खरे, गिरीश शर्मा आ उदय श्रीवास्तव आ महिला खलनायकन में लीला मिश्रा, शुभा खोटे आदि सक्रिय रहे लोग तब अइसन बात ना रहे. लेकिन आजकल त एंटी हीरो खातिर भी किरदार गढ़ल जाता. तब एंटी हीरो खाली नफ़रत के पात्र रहे. अब त समाज में एतना ना फ्रस्ट्रेशन आ डिप्रेशन बढ़ल बा कि ओकरा खातिर सहानुभूति भी पैदा कइल जाता. पुरनका दौर के विलेन के साथ हीं साथ हम नयका दौर के दू गो महाखलनायक अवधेश मिश्रा आ संजय पाण्डेय के कहानी बता चुकल बानी. आज दू गो अउर अद्भुत कलाकार के कहानी पढ़ीं जे बतौर विलेन नाम कमइले बाड़न.

भोजपुरी के पहिला टीवी सीरियल के हीरो बाद में काहे बन गइलें एंटी हीरो

हिंदी से भोजपुरी में आवे वाला कलाकार में अनूप अरोड़ा के नाम प्रमुख बा. अनूप अरोड़ा वाराणसी से थिएटर शुरू कइलें आ मुंबई जा के फिल्म लाइन में प्रयास करे लगलें. कईगो हिंदी फिल्म में छोट मोट काम कइला के बाद उनके नाना पाटेकर के हिंदी फिलिम ‘आज’ में बढ़िया रोल मिल गइल. 1997 से उ भोजपुरी में काम करे लगलें. अनूप अरोड़ा तब पटना दूरदर्शन से प्रसारित होखे वाला भोजपुरी के पहिला सीरियल ‘साँची पिरितिया’ में मुख्य किरदार कइलें. ओकरा बाद उ लगातार भोजपुरी फिलिम में खूब काम कइलें. उनकरा किरदारन में अधिकतर भूमिका हीरो-हीरोइन के पिता के ही रहल बा, लेकिन जब-जब उ ग्रे शेड के किरदार कइलें बाडें उ लाजवाब रहल बा. अनूप अरोड़ा 2003 में आइल फिलिम ‘कन्यादान’ में भी रहले. उ ‘साजन चले ससुराल’, ‘साजन चले ससुराल 2’,‘प्यार झुकता नहीं’, ‘निरहुआ चलल ससुराल’ में खलपात्र निभवले बाड़न. ‘साजन चले ससुराल’ खेसारीलाल के पहिला फिल्म रहल अउरी एह फिलिम में उ हीरोइन के अड़ियल अउर खलनायक पिता के रोल कइलें आ एह फिल्म के सीक्वल में भी ओइसने चरित्र निभवले.

‘निरहुआ चलल ससुराल’ में उनकर तिवारी के कैरेक्टर खासा लोकप्रिय भइल. ‘इंसाफ’ फिल्म में उनकर एगो ढोंगी अउरी धूर्त पंडित के रोल जवन करिया कपड़ा में रहsता, लाजबाब बा. बकौल अनूप अरोड़ा, हम तीनों सुपरस्टार मनोज तिवारी, रवि किशन अउरी निरहुआ के फिलिम ‘गंगा जमुना सरस्वती’ में पाखी हेगड़े के पिता के रोल कइनी जे ग्रे शेड वाला रहल. बेताब में हमार गूंगा के रोल आज भी यूट्यूब पर खूब देखल जाला. खेसारीलाल के ‘हीरो न. 1’ में हम मुनीम के रोल कइनी जे नकारात्मक त रहल, लेकिन हंसावत भी रहे. ‘बंधन’ फिलिम में हमार चरित्र लकवाग्रस्त रहल, एह वजह से पूरा सीन में हमके मुंह टेढ़ करके संवाद बोले के पड़ल, ई रोल हमरा खातिर चुनौतीपूर्ण रहल. निरहुआ के फिल्म बेटा में हमार रोल हमरा दिल के सबसे करीब बा अउरी सभे लोग ओकरा के खूब पसंद कइलस. अनूप अरोड़ा भोजपुरी में खलनायकन के मिलल ट्रीटमेंट से संतुष्ट बाड़न.

‘निरहुआ रिक्शावाला’ से सुशील सिंह घर-घर में जानल गइलें जब भोजपुरी सिनेमा आपन नया सवेरा देखत रहे तब 2003 में एगो फिलिम आइल कन्यादान. फिलिम के मुख्य किरदार में 90 के दशक के हीरो कुणाल अउरी भोजपुरी में आपन करियर लगभग शुरु करत रविकिशन रहलें. फिलिम में एगो खलनायक भी पहिला बार पर्दा पर आइल रहलें जे बाद में भोजपुरी फिलिमन के बड़ नाम साबित भइलें. फिल्म में रविकिशन के लालची भाई के रोल वाराणसी के सुशील सिंह कइलें रहले. सुशील सिंह वाराणसी के उदय प्रताप कॉलेज से बीएससी में डिग्री लिहलें, साथ में थियेटर भी चलत रहल. ओकरा बाद उ फिल्मन में आपन किस्मत आजमावल शुरु कइ दिहले. ‘कन्यादान’ उनकर पहिला फिलिम रहे. सुशील के अगिला फिल्म ‘हो गइल बा प्यार ओढ़निया वाली से’ रहे जवन निरहुआ के करियर के बड़ फिल्म रहे. ओकरा बाद आइल फिल्म ‘निरहुआ रिक्शावाला’ जवना से कई गो कलाकार भोजपुरी सिनेमा अउरी दर्शक के दिल में स्थापित भइलें. दिनेश लाल यादव भी एही फिल्म के बाद निरहुआ बनलें. सुशील सिंह भी एही फिल्म से घर-घर में जानल गइलें. फिल्म कई गो सिनेमाघरन में एक साल तक चलल. सुशील सिंह के किरदार एगो अड़ियल विधायक भाई के रहे जे आपन बहिन के शादी एगो रिक्शावाला से नइखे होखे देबे चाहत.

इहवां भी उहे हिंदी फिल्म के फार्मूला काम आइल जेकरा में एगो गरीब आदमी अपना लोगन के मसीहा बनेला अउरी सिस्टम आ दबंग लोग से लड़ीके आपन हक छीन लेला. ऊ सुशील सिंह ही रहलें जिनकर वीभत्स छवि से निरहुआ के हीरो के रूप में स्थापित होखे के स्कोप मिलल. सुशील सिंह आपन अगिला फिल्म ‘श्रीमान ड्राईवर बाबू’ में एगो बहीर अउरी मजाकिया बस ट्रांसपोर्ट के मालिक के रोल कइलें जे समय पड़ला पर आपन कमीना रुप देखावेला. ई किरदार भी बेहतरीन रहे. मुन्ना बजरंगी में एगो सकारात्मक चरित्र निभवला के बाद सुशील सिंह के बढ़िया रोल ऑफर होखे लागल. एगो इंटरव्यू के दौरान सुशील सिंह बतवलन कि उनका पर भोजपुरी के विलेन के मोलम्मा चढ़े लागल आ जवन रोल मिले उ एके टाइप के होखे. मेहनताना भी कुछ खास ना मिले. एहसे उनके आपन रणनीति बदले के पड़ल.

उ टीवी सीरियल के तरफ रुख कर लेहलें अउरी लगभग चार साल तक कलर्स के शो भाग्य-विधाता कइलें. एह बीच भोजपुरी में नया निर्माता- निर्देशक अउरी लेखक भी आ गइलें, फेर उनके नीमन रोल मिले लागल आ उ फेर से फिलिम में आ गइलें. सुशील सिंह प्रतिज्ञा 2 फिलिम कइलें जे में उनके किरदार मलखान काफी खूंखार अउरी हीरों से भी मजबूत रहे. कहानी में उनके काफी स्पेस मिलल. फेर निरहुआ के साथ ‘मोकामा 0 किलोमीटर’ कइलें. ई एगो प्रयोगात्मक फिल्म रहे अउरी मोकामा में व्याप्त अपराध जगत के कहानी रहे. उनकर किरदार छोटे सरकार के रहल जवन साँच घटना से लिहल गइल रहे. ई सुशील सिंह के अब तक के सबसे पसंदीदा किरदार भी ह. एके लेखा रोल बार-बार कइला से सुशील सिंह के भीतर के कलाकार खुल के निकल के ना आवत रहे. कलाकार के ओकर कला के विविधता जिंदा राखेला. एह से सुशील सिंह के एगो मौका के इंतजार रहे आ उ मौका जल्दिए मिल गइल. बकौल सुशील सिंह, ‘जिगर में हमार रोल सकारात्मक रहे, जे में एगो भाई अपना बहिन के बहुते प्यार करsता. उ ओकरा खुशी खातिर जान भी देबे के तैयार बा. हम फिलिम में हीरो के बराबर विलेन के मिल रहल स्थान से खुश बानी.’
( लेखक मनोज भावुक भोजपुरी सिनेमा के जानकार हैं. )

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज