भोजपुरी में पढ़ें: हाथरस मामला- खाली राजनीति ठीक नइखे, अपराध पर अंकुश लगावे के होई

विरोधी लोगन के ते कुछऊ चाहीं, बाकीर ओकरे हद होखे के चाहीं. पहिले लोग मांग कईल कि सीबीआई जांच होखे के चाहीं. प्रदेश के मुख्यमंत्री बाबा आदित्यनाथ ओहू के मानि लिहले. बाकिर विरोधी का जे चुप रहे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 3:29 PM IST
  • Share this:
राजनीतियो गजब बा. हाथरस के एगो गांव में एगो लड़िकी के संगे बड़ा बाउर भईल. जेकरा पर शक रहे, पुलिस चारि लोगन के पकड़ि के जेल में डालि दिहलसि. अब विरोधी लोगन के त मसाला मिले के चाहीं. रेपे पर राजनीति. चलीं एकरो के बाउर मनला के काम नईखे. विरोधी लोगन के ते कुछऊ चाहीं, बाकीर ओकरे हद होखे के चाहीं. पहिले लोग मांग कईल कि सीबीआई जांच होखे के चाहीं. प्रदेश के मुख्यमंत्री बाबा आदित्यनाथ ओहू के मानि लिहले. बाकिर विरोधी का जे चुप रहे. लड़िकी के घर वालन से मिले के अईसन मारामारी होगईल बा कि केहू पिछुआ मति जाइ.

मामिला लड़िका के बा, त औरति लोग बोलबे करी. बहुत औरति लोग भी राजनीति में बा, एमपी अउर मंत्री भी बा. बाबा के अपने पार्टी के कुछ नेता औरति भी विरोध करत बा. इ अलगा बात बा कि एहि लोगन के कवनों ढेर मानि-सम्मानि ना मानल जाला.  संन्यासी जी राजनीति में बाड़े त जानते होइहें कि इहां शासक के साम-दाम-दंड-भेद के अलावा अउरो बहुते कुछ होला. अब ऊ उत्तर प्रदेश के शासक हउअन अउर बतिए अइसन होगईल बा, जईसे कुल्हि अपराध एहि उतरे परदेस में बा. ए तरह के अपराध उहां राजस्थानों में भइल बा, बाकिर उहां के चर्चा कहिं नइखे होत. अब त जाना ता कि टेलीविजनो पर खाली हाथरसे हाथरस बा.

हाथरस में एगो लइकी के संगे जवन भईल बा, ओकरा के हर आदमी बाऊरे कही. तबो हमनी के समाज अईसन बा कि मामिला लइकी अऊर मेहरारू के होखे, तो ओकरा पर लोग अलगा तरीका से सोचत-बोलत बा. अपराध त अपराध ह, लइकी के संगे होखे चाहे लड़िका के. तबो औरति-बच्चा अउर बुजुर्ग के जवना समाज में इज्जति ना होखे त हल्ला होखबे करि. हाथरस के मामिला पर त सभे नाराज बा, तबो देखे के बात बा कि अपने पार्टी के नेता, ऊहो औरति नेता लोग मुख्यमंत्री योगी जी के रास्ता बतावत बा. राजनीति अइसने होला. एहिजा संन्यासी लोग भी घेराला अउर बुझाता कि बाबा के घेरे के कोशिश कईल गईल बा. शासक बाबा के साम-दाम-दंड-भेद के अलावे बाहर से भी बहुत कुछ होखत बा.



भोजपुरी में पढ़ें: नसाखोरी से कला के नुकसाने होई
बाबा के घेरे वाला ढेर औरतिए लोग बा. अइसे त केंद्र में मंत्री रामदास अठावले भी मुख्यमंत्री से मिले के कार्यक्रम बनवले. अठावले जी महाराष्ट्र के अइसना पार्टी के नेता हऊअन, जवन दलित लोग के हिमायती बतावल जाला. अठावले जी हाथरस कांड के सीबीआई जांच के मांग कईले बाड़े. ऊ बाति त योगी जी मानिए लेले बाड़े. खास बात बा कि मुख्यमंत्री से नाराज लोगनि में कांग्रेस के सोनिया अउर प्रियंका गांधी, तृणमूल के नेता अउर पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के संगे अपने पार्टी भाजपा के उमा भारती अउर निरंजन ज्योति भी बाड़ी. देखे वाला बाति ई बा कि उमा भारती अउर निरंजन ज्योति भी योगी जी नियर संन्यासिए हई.

रामदास अठावले त साथी दल से मंत्री बाड़े, एगो अऊरी राज्यमंत्री निरंजन ज्योति भाजपा के हई. ऊहो योगी जी नियर अऊर उमा भारती नियर संन्यासी हवी. उ लड़िकी के लाश चुपचाप जरा दिहला से नाराज बाड़ी. साध्वी निरंजन ज्योति उतरे परदेस के जिला हमीरपुर से सांसद बाड़ी. योगी जी के अपने परदेश से आवे वाली ई संन्यासी मंत्री कह तारी कि हम एकरा के ठीक नइखीं समझत. लड़िकी के लाश ओकरा घर वालन के दे देबे के चाहत रहे. अब के बतावे कि पुलिस के लोग प्रमाण देत बा कि लाश जरावे के काम लड़िकी के परिवार से पूछि के कईल बा.

कहल जाता कि साध्वी होखला के अलावा निरंजन ज्योति एगो विशेष कारन से भी मंत्री बनावल गईल बाड़ी. एह कारन उनकरा बोलहीं के चाहीं. अइसन दुसरका साध्वी उमा भारती भी बोल तारी. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहि चुकल उमा भारती अइसन पहिला संन्यासी हवी, जवन एहि कुर्सी पर पहुंचली. ऊ कह तारी कि जे नेता हाथरस जाके रेप पीड़ित ऑ जान गंवा चुकलि लड़की से मिले चाहत बा, योगी आदित्य नाथ के ओकरा के जाए देबे के चाहीं. योगी जी त ई करते बड़े. अब कोरोना चलत बा, त मिले वाला के भी चाहीं कि परहेज बरते.

भोजपुरी विशेष : शीलहरन के सिलसिला- समाज में कब ले बनल रही ई दिमागी विकृत सोच?

पुलिस ईहे चाहति बा. उमा भारती के इहो कहनाम बा कि ऊ कोरोना मरीज होखला के कारनि ऋषिकेश के अस्पताल में बाड़ी. ठीक होते ऊहो हाथरस जाइके लड़िकी के परिवार वालन से मिलिहें. बूझाता कि उनकरो के ना रोकलि जाई. उमा भारती योगी जी से कहले बाड़ी कि रऊरा त बड़ा साफ-सुथरा अऊर तेज शासक हवीं. विपक्ष अउर मीडिया के हाथरस जायेके रोकला पर बीजेपी अऊर राऊर, दुनों के बदनामी होत बा. अब शायद उमा भारती जी संतुष्टे होइहें.

विपक्ष के त कामे बा सरकार के घेरे के. सोनिया गांधी अउर प्रियंका गांधी के बयान आइल बा. प्रियंका गांधी त अपना भाई संगे हाथरस पहुंचे के कोशिश में दू दिन लड़त रहि गईली. सोनिया गांधी कहत बाड़ी कि लड़िकी के राते-राति जरा दिहल इंसनायित के संगे खेलवाड़ ह. तरह-तरह के आयोग भी हाथरस पर गंभीर बा. राष्ट्रीय महिला आयोग के चेयरपरसन रेखा शर्मा उत्तर प्रदेश के मुख्यसचिव के नोटिस भेजले बाड़ी.

आयोग नियर संगठन आपन काम करत रहेला, विपक्षी नेता लोग भी सरकार के घेरबे करी. पश्चिम बंगाल के सरकार में मौजूद ममता बनर्जी भी दोसरा परदेश के संन्यासी मुख्यमंत्री के खिलाफ कलकत्ता में हुंकार भर तारी. त एकरा के संयोग ना कहल जाई. पश्चिम बंगाल में जल्दिए चुनाव बा. उत्तरो परदेश में 2022 में होई. सब के नजरि चुनावे पर बा. अब जे राजनीकति में बा, उ चुप कईसे रही. बोली ना त कईसे बुझाई कि जनता के चिंता करत बा. अब बोले के काम चालू बा. भले सीबीआई जांच के आदेश हो गईल, जे चाहत बा, हाथरस जाके लड़िकी के परिवार के संगे मिलते बा. राजनीति ह, चलते रही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज