• Home
  • »
  • News
  • »
  • bhojpuri-news
  • »
  • Bhojpuri Spl: रोड पर बल्ब बेचे वाला जब बन गइल भोजपुरी फिल्म के एक्शन स्टार यश कुमार, आज ह जन्मदिन

Bhojpuri Spl: रोड पर बल्ब बेचे वाला जब बन गइल भोजपुरी फिल्म के एक्शन स्टार यश कुमार, आज ह जन्मदिन

हीरो बने खातिर भोजपुरी फिलिम के एक्शन स्टार यश मिश्रा (Bhojpuri Action Star Yash Mishra) अपना माई के पर्स से 150 रुपया लेके मुंबई भाग गइलें. सोचलन कि सुघर चेहरा देखके उनका फिलिम में काम मिल जाई, लेकिन एह खातिर खूब संघर्ष करे के पड़ल. आज 12 फरवरी के उनकर जन्मदिन ह.

  • Share this:

हमार एगो शेर बा कि

होखे अगर जो हिम्मत कुछुओ पहाड़ नइखे
मन में जो ठान लीं त कहवां बहार नइखे
अगर रउआ मन में ठान लीं कि हमरा अपना सपना के साकार करे के बा, भले उ सपना केतनो असंभव होखे त एक ना एक दिन उ सपना जरूर पूरा होला. ई अलग बात बा कि ओकरा खातिर रउआ केतना साल बिना थके लगातार ओकरा खातिर परिश्रम आ इंतज़ार करे के पड़ेला. गायक से नायक बनल स्टार लोग से भरल भोजपुरी इंडस्ट्री में आपन अलग पहचान बनावल एगो नॉन-सिंगर खातिर केतना मुश्किल बा, रउआ भोजपुरी फिल्मन के आधुनिक इतिहास उठा के देख सकेलीं. बीस से ऊपर अइसन अभिनेता लोग हीरो बने भोजपुरी में आइल आ फ्लॉप हो गइल. लेकिन एह सबके बीच में 2013 से भोजपुरी फिल्मन में डैब्यू करे वाला यश कुमार मिश्रा आपन एगो अलग छवि बनावे में सफल रहल बाड़ें.

यश के पूरा नाम यश कुमार मिश्रा ह. उनके जन्म 12 फरवरी 1985 के बलिया जिला में बेलथरा रोड के लगे गाँव चैनपुर गुलौरा में भइल. उनके पिता जी नौकरी में रहलें आ उनके परिवार गाँव के एगो मध्यमवर्गीय परिवार रहे जहां अक्सरहा लोग इहे सोचेला कि बेटा हमार पढ़ लिख के इंजीनियर भा कवनो सरकारी नौकरी कर ली. बाकिर यश के शुरू से ही अभिनय आ नृत्य के शौक रहे. ऊ बचपन में हर बियाह शादी में आगे आगे जाके लौंडा कुल के साथे नाचे लागस, जेकरा खातिर उनके पिता जी से खूब डाँट भी पड़े. जब 18 बरिस के भइलें आ अपना सपना पूरा करे के जोश जागल त उ घर वाला लोग के बिना बतवले गाँव से भाग गइले. ई 2002 के बात ह जब भागे से पहिले उ एगो लमहर ढाढ़ा के चिट्ठी लिखलें आ आपना माई के पर्स में से 150 रुपया लेके भाग गइलें. घर से राति के निकललें आ नजदीक के रेलवे स्टेशन बेलथरा रोड से बंबई जाए वाली ट्रेन दादर एक्सप्रेस पकड़ के मायानगरी पहुँच गइले.

यश कुमार त सोचलें रहलें कि जाते उनके केहु हीरो बना दी लेकिन मुंबई में उनके जिनगी के तीत सच्चाई से पाला पड़ल. उ खाए खाए खातिर छीछीआए लगलें. कई जगह काम कइले. कई गो रात भूखे गुजरले. एगो त अइसन समय आ गइल रहे कि उनके रोज पेट भरे खातिर सड़क के किनारे सीएफएल बल्ब बेचे पड़े. उनके ई संघर्ष लगभग 10 साल चलल. 2002 -2012 तक मायानगरी के खाक छनलें. कई बार भइल कि गाँवें लौटे पड़ी लेकिन पुरबिया नवजवान गाँवही जाके का कर सकेला. फेर कमाए ओकरा शहर आवे पड़ी. उ फिल्म इंडस्ट्री में काम ना मिलला के चलते एक बार एतना निराश भइलें कि टैक्सी चलावे के भी योजना बन गइल रहे तले किस्मत से उनके सुनील शेट्टी के प्रोडक्शन हाउस में असिस्टैंट डायरेक्टर के तौर पर काम मिल गइल.

2013 के बात ह जब प्रोडक्शन हाउस के ऑफिस में उनके मुलाकात एगो फिल्म प्रोड्यूसर दीपक शाह से भइल. दीपक शाह भोजपुरी में फिल्म बनावत रहलें, आ उ यश के लुक आ भोजपुरिया बैकग्राउंड के चलते उनके भोजपुरी में काम करे के न्यौता दिहलें. यश अइसन ही कवनो ऑफर के तलाश में रहलें एहीसे तुरंत स्वीकार कर लेहलें आ उनके एहीजे से बाउर दिन के अंत होखल चालू हो गइल. उनकर भोजपुरी फिल्मन में करियर के शुरुआत हो गइल. उनकर पहिला फिल्म दीपक शाह के निर्माण में बनल ‘दिलदार संवरिया’ आइल जवन 2013 में प्रदर्शित भइल. फिल्म में अंजना सिंह उनके हीरोइन रहली जिनका से बाद में यश बियाह भी कइलें आ उन दूनू जाना के देहि से एगो बेटियो बिया. अब भी यश अउरी अंजना के जोड़ी दर्शक देखल पसंद करेला आ दूनू लोग के कईगो फिल्म काफी अच्छा प्रदर्शन कइले बा.

ई फिल्म के बारे में बात करत बेरा यश कुमार एक बार कहले रहलें कि ई फिल्म जब बनत रहे तब हमरा बहुत डर लागे. एक तरफ दिनेश लाल यादव निरहुआ रहलें, एक तरफ पवन सिंह आ खेसारी लाल यादव. तीन गो सिंगर लोग इंडस्ट्री पर कब्जा जमवले रहे. हम ओ लोग के बीच में आपन स्थान बना पाएब कि ना एकर बड़ा डर रहे. भोजपुरिया दर्शक नॉन-सिंगर के मौका ही ना देव लेकिन हम शुक्रगुजार बानी कि हमार पहिलके फिल्म से हमार अलग पहचान बनल आ हम स्थापित हो गइनी.

यश के भोजपुरिया दर्शक एक्शन स्टार के अलावा एगो संवेदनशील अभिनेता के रूप में जानेला. उ शुरुए से अपना फिल्मन में अलग प्रयोग करेलें. उनके एगो फिल्म ‘रंगदारी टैक्स’ सत्य घटना पर आधारित रहे आ गैंगस्टर श्रीप्रकाश शुक्ला पर बनल रहे जिनके 1999 में इन्काउनर भइल रहे. फिल्म पराग पाटील के निर्देशन में बनल रहे आ ओकरा खातिर यश काफी तैयारी कइले रहलें. उ अपना रोल खातिर गैंगस्टर के जिनगी पर रिसर्च कइलें, वजन कम कइलें आ बाल मुड़वा लिहलें फेर ओकरा पचिसवा दिन से शूटिंग शुरू कइले. 2016 में आइल ई फिल्म के काफी चर्चा भइल. उनके एक्शन और एग्रेशन वाला रोल त खूब हिट भइल बाकिर 2018 में मंजुल ठाकुर के निर्देशन में एक रजाई तीन लुगाई नाम से एगो कॉमेडी फिल्म आइल. फिल्म सिटकॉम जौनर के रहे आ दर्शकन के काफी पसंद आई. मंजुल ठाकुर के साथे यश एगो रॉम-कॉम फिल्म दुपट्टा वाली आई लव यू भी कइले.

यश मिश्रा के एगो फिल्म नागराज भोजपुरी में वीएफएक्स के एगो अच्छा प्रयोग वाली फिल्म रहे, फिल्म नाग-नागिन के फैन्टेसी कथा पर आधारित रहे. यश के 2019 में आइल फिल्म ‘बिटिया छठी माई के’ उनके अबतक के सबसे बेहतरीन प्रदर्शन वाली फिलिम हवे. एह में उनके लीड रोल में रहे आ एकर कहानी भी यश ही लिखले. ई सामाजिक विषय पर बनल फिल्म ह जवन भोजपुरी सिनेमा खातिर आगो नया विषय रहे. फिल्म एगो संदेश के साथ बनल रहे कि हरबार स्त्रीए बाँझ ना होली, कई बार पुरुष में भी कमी हो सकेला. उहो बांझ हो सकेले. फिल्म में यश कुमार एगो विक्षिप्त व्यक्ति के भूमिका निभवले. यश के किरदार छठी मैया में काफी आस्था रखsता अउरी एक दिन जब उ छठी माता से एगो बेटी के कामना करsता त ओके मंदिर में एगो लावारिस नवजात बच्ची मिल जातिया, उ पागल बच्ची के पालता अउरी ओके सफल बनावता आ ओकरा खातिर सबसे लोहा लेबे खातिर तैयार रहsता.

यश अपना स्वतंत्र यूट्यूब चैनल खातिर गाना भी गावल चालू कइले बाड़ें. उनके लीक से हटकर दु तीन गो फिल्म प्रदर्शन खातिर तैयार बा. ‘चंदन परिणय गुंजा’ आ ‘दामाद जी किराये पर हैं’ पारंपरिक वियाह के रस्म रिवाज के इर्द गिर्द बुनल गइल दु गो फिल्म बा जवना में परिस्थिति आ कुछ लोग के कारण कइसे नायक आ नायिका के जिनगी में अप्रत्याशित मोड आवत बा. यश मिश्र के करियर के उल्लेखनीय फिल्मन में से दिलदार संवरिया, हीरो गमछावाला, कसम पैदा करने वाले की, नागराज, इंडिया वर्सेस पाकिस्तान, सरगना कुशीनगर, रंगदारी टैक्स, लूटेरे, बिटिया छठी माई के आदि बा.

( लेखक मनोज भावुक भोजपुरी सिनेमा के जानकार हैं. )

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज