Home /News /bhojpuri-news /

BHOJPURI में मलिकाइन के पाती- नीतीश सरकार डाल-डाल, भ्रष्टाचारी पात-पात

BHOJPURI में मलिकाइन के पाती- नीतीश सरकार डाल-डाल, भ्रष्टाचारी पात-पात

नीतीश जी के कहनाम ह कि करप्शन, क्राइम आउर कम्युनलिज्म से कवनो समझौता ना होई. बाकिर बिहार में ई साफ लउकत बा कि सरकार डाल-डाल चलत बिया त भ्रष्टाचारी पात-पात डोल रहल बाड़े. क्राइम के भी इहे हाल बा.

नीतीश जी के कहनाम ह कि करप्शन, क्राइम आउर कम्युनलिज्म से कवनो समझौता ना होई. बाकिर बिहार में ई साफ लउकत बा कि सरकार डाल-डाल चलत बिया त भ्रष्टाचारी पात-पात डोल रहल बाड़े. क्राइम के भी इहे हाल बा.

नीतीश जी के कहनाम ह कि करप्शन, क्राइम आउर कम्युनलिज्म से कवनो समझौता ना होई. बाकिर बिहार में ई साफ लउकत बा कि सरकार डाल-डाल चलत बिया त भ्रष्टाचारी पात-पात डोल रहल बाड़े. क्राइम के भी इहे हाल बा.

पांव लागीं मलिकार. रउरा जरी त ई खबर पहुंचिए गइल होई कि बिहार में एगो इंजीनियर के घर से 60 लाख नगदी, 50 लाख से ऊपर बैंक में, डेढ़ किलो सोना आ पांच किलो चानी के संगे कई गो जमीन-मकान के कागज पकड़ाइल बा. ई पहिलका केस नइखे मलिकार, एकरा पहिलहूं कई गो अइसन केस सुने में आइल बा, जवना से बुझाता कि नीतीश कुमार के सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ डाल-डाल कूदत बिया त भ्रष्टाचारी पात-पात डोले लागत बाड़े सन.

पांड़े बाबा काल्ह कहत रहुवीं कि अब नीतीश जी के एकबाल ओइसन नइखे रह गइल. 2005 में जब ऊ पहिलका बेर बिहार के मुखिया बनला पर रहले त सगरी चोर-बदमाश आ भ्रष्टाचारी अइसन सटक गइल रहले सन कि सचहूं बुझाव कि सुशासन आ गइल बा. बड़का-बड़का बदमाश लोग के पुलिस डांड़ में रस्सा बान्ह के जेल में ठेल दिहलस. जल्दी-जल्दी सुनवाई क के ओह लोगन के सजा हो गइल. ओही में एगो शहाबुद्दीनो रहले. जेल में बान्हले-बान्हले ऊ चल बसले. अउरियो कई जाना अबहियो जेल खट रहल बा लोग. अब त ई हाल बा मलिकार कि खाली पटना में एह महीना में अबहीं ले 16 आदमी के मडर (मर्डर के मलिकाइन मडर लिखले बाड़ी) हो गइल बा. कहीं मुखिया मरात बाड़े त कहीं एमएलए के जान से मार देबे के धमकी मिल रहल बा.

पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि नीतीश जी बराबर ई बात कहेले कि करप्शन, क्राइम आउर कम्युनलिज्म से कवनो समझौता ना होई. बाकिर बिहार में ई साफ लउकत बा कि सरकार डाल-डाल चलत बिया त भ्रष्टाचारी पात-पात डोल रहल बाड़े. क्राइम के भी इहे हाल बा. क्राइम आ करप्शन करे वाला त मुड़ी पर चढ़ के नाचत बाड़े सन. रउरा इयाद होई मलिकार कि भागलपुर में एगो सिरजन घोटाला भइल रहे. सुने में आवेला कि करोड़ों रुपिया के घोटाला रहे. शौचालय घोटाला से ले के नल-जल योजना तक रोजे घोटाला सुनाला. केतने लोग धरइबो-पकड़इबो करेला. अब रउरे बताईं मलिकार कि साठ-सत्तर हजार रुपिया तनखाह पावे वाला इंजीनियर 15-20 साल के नौकरी में एतना संपत्ति जुटा लिहलस आ केहू के अबहीं ले कानोकान खबर ना रहे!

पांड़े बाबा बतावत रहुवीं कि फूल छाप वाली पाटी के एगो एमएलए ज्ञानेंद्र सिंह ठीके कहले रहले कि नीतीश सरकार में 80 परसेंट मंत्री भ्रष्ट बाड़े. ऊ ट्रांसफर-पोस्टिंग में पइसा वसूली करे में लागल बाड़े. अब केकरा ई बात समझ में ना आई कि जे घूस देके आपन पोस्टिंग कराई, ओकर भरपाई त ऊ अइसने घूस के कमाई से नू करी. एही खातिर त पइसा देके लोग ट्रांसफर-पोस्टिंग करावेला कि मनचाहा कमाई वाला महकमा मिल जाव. सुने में आइल हा मलिकार कि जवना इंजीनियरवा के घर से ई कुल मिलल, ओकरो बदली एही घरी भइल रहल हा. एकरा पहिले कवनो डीटीओ पकड़ाइल रहले. उनकरो घर से जेतना संपत्ति मिलल, ओकर मेल उनकरा आमदनी से ना खात रहे.

विपक्षी लोग के त कामे ह मलिकार, सरकार के हर नीमन-बाउर काम में बकबक कइल, बाकिर जब सरकार में शामिल दल के नेता लोग सवाल उठावे लागे त मान के चले के चाहीं कि कहीं ना कहीं कुछ गड़बड़ जरूर बा. पांड़े बाबा कहत रहुवीं कि बिहार के जेतना नाम नीतीश जी के पहिलका बेर सीएम बनला पर भइल, ओही तरे बिहार के नाम उनकरे राज में खराब हो रहल बा. तीन साल पहिले कवनो सर्वे के बात उहां के बतावत रहुवीं. ओइमें बतावल गइल बा कि बिहार के अफसर सबसे बेसी भ्रष्ट बाड़े. एकर परमानो उहां के बतावत रहुवीं. उहां के कहुवीं कि पंद्रह साल में करीब 2000 सरकारी कर्मचारी भ्रष्टाचार के आरोप में पकड़ाइल बाड़े आ ओह लोगन के 25 करोड़ से बेसी संपत्ति सरकार सीज कइले बिया. एतना भइला के बादो ना भ्रष्टाचार रुके के नाम ले रहल बा आ ना सरकार रोक पावे में कारगर बिया.

हमरा त बुझाता मलिकार कि अपना मुलुक से भ्रष्टाचार कबो ना ओराई. ई खाली बिहारे के बात नइखे, बरगद अइसन एकर सोर सगरी सूबा में फइलल बा. मुंहझौंसा ई भ्रष्टवा त ओह राकस अइसन हो गइल बाड़े सन, जवना के मारल गइल त जेतने बून खून गिरल, ओतने संख्या में फेर ऊ पैदा हो गइल. बड़का मोदी जी से उमेद रहल हा कि एकरा पर रोक लगावे में कामयाब हो जइहें. ऊ कोशिशो कइले, बाकिर कहां रोका पावल. राजीव गान्हीं एक बेर कहले रहले कि सरकार सौ पइसा पाबलिक खातिर भेजे ले, ओइमे दसे-पन्द्रह पइसा पहुंच पावेला. बीचे में बाकी पइसा गोल हो जाला. बड़का मोदी जी एगो नीमन काम इहे कइले कि सरकारी पइसा, सगरी बैंक के खाता में जाई. बाकिर कहल जाला नू कि चोर के जरी बीस गो बुद्धि होला. ऊ चोरी के रास्ता खोजिए लेले सन. इहो खोजिए लेले बाड़े सन. एकनी के त सीधे फांसी पर चढ़ा देबे के चाहीं.

चलीं, ई कुल त लागले रही मलिकार, एगो अउरी बात बतावे के रहल हा. एह घरी अपना इहां सियार, बानर आ घोड़परास एतना उत्पात मचवले बाड़े सन कि बुझाता ई गांव ना, जंगल ह. काल्ह अंगना में चूल्हा बार के सानल आटा ध के रसोइया घरवा में गउवीं तावा लिआवे, तब ले ढढुअवा बानर टप से कूद के अटवे उठा ले गउवे. एक दिन पांड़े बाबा के अंगना से रोटी के थाहे उठा ले गइल रहे. हार के हार बानर आवत बाड़े सन आ भर दिन एह घर के छत से ओह घर के छत पर कूदत-फानत रहत बाड़े सन. अइसने उत्पात घोड़परसवा मचवले बाड़े सन. खेत में खात कम बाड़े सन, रउनत बेसी बाड़े सन. एकनिये के नू लीलगाय (नीलगाय) कहल जाला मलिकार. बड़का खेत में अबकी अइसन जियान कइले सन कि तीनो किंटल गेहूं ना घरे आइल. रउरा त मालूमे होई कि आपन बड़का खेत बिगहा भर के बा.

दू साल पहिले नीतीश सरकार एकनी के गोली मारे के हुकुम दिहले रहे. सुने में आइल कि एके जिला में तीन दिन में तीन सौ मराइल रहली सन. मुजफ्फरपुर में तीन हजार मारे के तय भइल रहे. एकनी के मारे खातिर दोसरा राज से बनूकची (बंदूकची के मलिकाइन बनूकची लिखले बाड़ी) खरचा देके बोलावल गइल रहले सन. सियार त कुकुर अइसन दुआरे-दुआरे घूमत बाड़े सन. एकर चरचा पांड़े बाबा के दुआर पर होत रहुवे त केहू बतुउवे कि ई सरकारी सियार हउवन सन. एतने बा मलिकार कि ई कवनो खतरा नइखन सन करत. काल्हे रतिया में देखुवीं कि सात गो सियार एक पर एक अपना मध दुआर मुंहे बंसवरिया में गउवन सन. रात में जब झुंड बना के ई फेंकरत बाड़े सन त मन डेरा जाता. अइसहूं कहल बा मलिकार कि पुरुवा के सिहकल आ सियार के फेंकरल बांव ना जाला. एकनी के हुआं-हुआं से सुतला में लइकवो डेरा जा तारे सन मलिकार.

हमहूं हर बेरी का ले के बइठ जाई ले मलिकार. एइजा सब ठीक बा. विसवास बा, रउरो निरोग होखेब. सावन के सतमी के सतनारायन भगवान के सात अधेयाय कथा कहवा के धाजा फेरवां दिहुवीं. पाती लमहर हो गइल. बाकी अगिला पाती में.
राउरे, मलिकाइन

(लेखक ओमप्रकाश अश्क वरिष्ठ पत्रकार हैं. आलेख में व्यक्त विचार उनके निजी हैं)

Tags: Bhojpuri, Bhojpuri News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर