Home /News /bhojpuri-news /

Bhojpuri: जतरा के पतरा अइसन पाजिटिव भइले से भगवान बचावें

Bhojpuri: जतरा के पतरा अइसन पाजिटिव भइले से भगवान बचावें

.

.

सामान्य लोक व्यवहार में देखी त अबहिनो लोगन निगेटिवे के नाम से डेराला, लेकिन अब दुनिया में कुछ अइसनो चीज आ गइल हौ जौने के पाजिटिव भइले से लोग डेराला. जौने में एक ठे त अबहिन हालिये के बाति हौ – कोरोना. कोरोना यानी कि कोविड 19, जेके लोक में कहीं-कहीं माई के भी दरजा दे दिहल गइल. ई त धन्यबाद कहीं ए बिज्ञान के कि जेकरे तरक्की से दू साल के भित्तर इनकर टीका खाली बनिए भर ना गइल सौ करोड़ लोगन के लगियो गइल.

अधिक पढ़ें ...

अगर आजु बिज्ञान ए हैसियत में ना रहत त समझीं कि कौनो ठीक नइखे कि ई कोरोना माई भूमंडलीकरण के प्रभाव से पूरी दुनिया के माई हो गइल रहिती. ओबा माई त अइसहूँ ई होइए गइल हईं. एह दुनिया के सामने अबहिनो एक ठो बिपति अइसन हौ जौने के कौनो टीका ना बन पौले हौ. बनबो कइल त पता ना कौने कारन से ओके मान्यता ना मिल पवलस. ऊ बिपति ह एड्स. आ इहो ओही कटेगरी के ह, जौने के टेस्ट में पाजिटिव पावल गइले से दुनिया डेराले.

अब ई अलग बाति बा कि जइसे अबहिनो कई जने कोरोना के मनगढ़ंत आ न मालूम केकर चाल मानत हवें ओही तरह एड्स के भी बहुत जने काल्पनिक बतावे लन. हालाँकि ई याद क के बहुत दुख होले लेकिन सच हौ त एसे भागल त जा नाई सकत, हमार दू जने मीते लोग अइसहीं कोरोना के मनगढ़ंत बतावत बतावत चल दिहले. इहे बात एड्स के साथे होत हौ. मेडिकल साइंस कहाला कि ई कौनो बीमारी ना हौ, बस देही के एक ठे बिसेस स्थिति हौ. अइसन स्थिति जौने में कौनो बीमारी से लड़ले के ओकर छमता खतम हो जाले. मने ई बाकी कुल बिमारिन के घर हौ, बकिर अपने कौनो बीमारी ना हौ. बस स्थिति हौ. अब अइसने स्थिति आ कौनो बेमारी में का फरक होले ई चिकित्सा के बिद्वाने लोग बता पाई.

हमके त एकर ध्यान आइल तीन साल पहिले गोरखपुर जिला में घटल एक ठे घटना से. भैल ई कि ऊ मेहरारू अक्सरुआ रहली. मरद परलोक सिधार गइल रहलन आ नइहरओ में बेचारी के ठेकाना ना मिलल. बेबसी के सिकार ऊ मेहरारू बेमार पड़ली त परधान जी उनके एगो डाक्टर लगे भेज देहलन. डाक्टर साहेब उनके खून जाँच करावे के कहलन आ जाँच में एचआईवी पाजिटिव पावल गइलिन. एक जाँच से लोगन के बिसवास ना भइल त दुबारा जाँच भइल. मेडिकल कालेज के एआरटी सेंटर में. उहों एही बाती के पुष्टि भइल. हड़कंप एकरे बाद मचल. ओह बेचारी के बेबसी के जे जे नजायज लाभ उठौले रहल तेकर सबकर हालत खराब भइल. केहू रासन कार्ड बनवउले के नाम पर त केहू बिधवा पेंसन आ केहू आवास योजना. ग्राम परधान से लेके सिकरेटरी ले कुल तेरह जने सामिल रहले एहमे. जाँच भइल त सभे पाजिटिव पावल गइल.

घटना 2018 के हौ. तबसे लेके अबले का का भइल गइल, एकर अब कौनो लेखा-जोखा नइखे. बकिर ई तय भइल कि जौने पूर्बांचल में लोग एचआईवी आ एड्स के नाम पर खाले मजाके उड़ावत रहल, ऊ लोगन क एसे सामना हो गइल. खाली पूर्बांचल ना, अपना के राष्ट्रीय स्तर के बतावे वाले कुछ बिद्वान लोगन के भी एचआईवी के नाम पर होवे वाली सारी बात खाली फर्जी हल्ला लगत रहल. बिलकुल अइसही जइसे कोरोना के संक्रमण के मामिला सुरू सुरू में बहुत लोगन के बेमतलब के हल्ला लगत रहल. हमार एक जने मीते त एक बेर कई जगह चुनाव आ न मालुम कौन कौन चीज के हवाला दे के बहस पर उतारू हो गइल रहलन कि खाली हमनिए खातिर कोरोना बा! अब ई बात याद क के बहुत दुख होले कि उनकर सोच उनही खातिर भारी पड़ल.

कौनो बेमारी से बरजोरी ना चलेले. बेमारी से बचे के हौ त ओकरे बारे में सही जानकारी ओकरे असली जानकार लोगन से करे के चाहीं. खाली एचआइविए ना, दुनिया के कौनहू बेमारी से लड़ले के सबसे कारगर हथियार जानकारी हौ. पुर्बांचल अबहिनो एकरे ब्याप्ति के लिहाज से बहुत असुरक्षित जवार हौ. काहे से कि अपने जवार के अधिकतर लोग रोजी-रोटी के लिए आपन गाँव जवार छोड़ के बाहर बा. केहू मुंबई, त केहू दिल्ली आ केहू कहीं और. एहमें परिवार ले के गइले के हैसियत बहुत कम लोगन के बा. सरीर के जरूरत त रुके वाला बा ना और एही के चलते कबो कबो लोग गलत कदम उठा लेला. अब ई जहाँ पहुँचावाला ओकर नतीजा इहे होले. एह मामले में भी अइसने कुछ रहल.

हालाँकि एचआईवी के संक्रमण खाली एह तरह के संबंध से होले इहो एकठे अंधविसवासे हौ, जौन अबहिनो बहुत जनी के बनल हौ. 2001 के बाति हौ. पंजाब में एक ठे नर्स एचआईवी पाजिटिव पावल गइली. उनके लिए ई हैरत के बात रहल. जब उनकर काउंसिलिंग भइल त पता चलल कि कौनो एक्सीडेंट के सिकार मरीज के बचवले के कोसिस में ओकर खून उनके उंगली में लग गइल रहल. ओह समय उनकर उंगली मामूली कटल रहल. एह तरह के कई घटना हई. सरीर के कौनो तरह के द्रव के संक्रमित मनई के द्रव से संपर्क भइले पर एकर संक्रमण हो सकेले एसे इनकार नाई कइल जा सकत. बेहतर बा कि लोगन आपन जानकारी बढ़ावे आ सचेत होखे. जानकारी माने ऊ ना लाल बुझक्कड़ छाप बिद्वान लोगन से मिलेले, खाली ऊ समझदार डाक्टर लोगन से मिलेले. सचेत रहीं, कोविड के भी एगो नया किसिम आ गइल बा.

(इष्ट देव सांकृत्यायन वरिष्ठ पत्रकार हैं, आलेख में लिखे विचार उनके निजी हैं.)

Tags: Bhojpuri Articles, Bhojpuri News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर