Bhojpuri: बंगाल में उधार के नेता के कतना असर डालि पाइहें, जानीं का बा माहौल

लोग के सबसे बेसी नाराजगी ओह लोगन से बा, जे काल्ह ले तृणमूल कांग्रेस में रहे आ आज भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतार दिहल गइल बा. पहिलहीं से भाजपा के लोग तृणमूल के नेता लोग से खार खइले रहल बा. कम से कम 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 4:01 PM IST
  • Share this:
बंगाल विधानसभा के चुनाव में जवनी गंतिया भाजपा के खिलाफ ओकर कार्यकर्ता नाराज बाड़े, ओकरा के कवनो नाप-जोख के मैपाना मानल जाव त इहे कबूले के परी कि जेतना तेजी से एकर उभार भइल रहल हा, ऊ अब उलटा दांव हो ना साबित हो जाव. सांच कहल जाव त ममता के पार्टी तृणमूल कांग्रेस के विधायक-सांसद के तूरे के योजना भाजपा सोच-समझ के बनवले रहलस हिया. ओकर इहे मंशा रहल हा कि ममता के मानसिक रूप से कमजोर कइल जाव. बाकिर जेतना लोग तृणमूल कांग्रेस छोड़ के आइल, ओह लोगन के विधानसभा चुनाव के टिकट दे के भाजपा अपने हाथ आग में डाल दिहले बिया. जवना के कहल जाला- होम करे गइनी, हाथ जरा के अइनी. उधार के सेनुर से भाजपा सोहागिन बने के कोशिश कइले बिया, जवन भाजपा के असली पुरनका नेता-कार्यकर्ता के तनिको नइखे सुहाइल. बाद में चुनाव लड़े खातिर अपना चार गो एमपी के मैदान में भाजपा उतार दिहलस. एह से ई सनेशा लोगन में गइल कि भाजपा के लगे कैंडिडेटे नइखन. भाजपा के भलहीं ई कवनो चाल होखे, बाकिर आम आदमी में इहे सनेशा गइल बा.

लोग के सबसे बेसी नाराजगी ओह लोगन से बा, जे काल्ह ले तृणमूल कांग्रेस में रहे आ आज भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतार दिहल गइल बा. पहिलहीं से भाजपा के लोग तृणमूल के नेता लोग से खार खइले रहल बा. कम से कम 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद. ओही घरी से भाजपा के लोगन के मारल-पीटल, फरजी के मुकदमा में फंसावल आ मुआवे-सतावे के काम तृणमूल करत आइल रहलसि हा. जवना विधायक लोग के ई जिम्मा तृणमूल दिहले रहे, ओही में कम से कम तीन दर्जन नेता के भाजपा टिकट दे दिहले बिया. अब ई समझे में केहू से कवनो भूल ना होखे के चाहीं कि जवन आदमी भाजपा के समर्थन करे वाला लोगन के अब ले सतवलस, मरलस-पीटलस भा मरवा-लुटवा दिहलस, ओकरा खातिर केहू कइसे परचार करी आ जितावे खातिर वोट मांगी. जे ई अत्याचार भोगले भा देखले बा, ऊ आपन ऊ दिन कइसे भुलाई. एकरा के एही से समझल जा सकेला कि अमित शाह से लेके बंगाल भाजपा के अध्यक्ष ले ई बात कहत-सुनावत बा लोग कि तृणमूल कांग्रेस के लोग भाजपा के 137 आदमी के जान ले लिहल. केतने के घर जरावल गइल आ केतने पर फर्जी मुकदमा भइल. सरकारी राशन-सुविधा में भाजपा के लोग के संगे भेदभाव कइल गइल. अइसन हालत में केहू जीयत माछी कइसे घोंटी. बंगाल में भाजपा के पुरनका कार्यकर्ता लोग के इहे हाल हो गइल बा.

एकर नतीजा ई भइल बा कि जगहृ-जगहा भाजपा के समर्थक हल्ला-हुड़दंग मचवले बाड़े. कहीं रोड जाम होता, त कहीं आफिस में में ताला लगा दिहल जाता. आफिस में तूर-फूर ले हो गइल. हंगामा अइसन कि केहू मनवलो पर माने के तैयार नइखे. बंगाल में भाजपा के लोग पहिलहीं से एह बात से बिदकल रहल हा कि नवका लोग के आगे ओह लोगन के पूछ घट गइल बा. जे नया-नया आइल बा, ओकर मान भाजपा में बढ़ गइल. पार्टी के दबाव में भलहीं अइसन लोग मुंह ना खोले, बाकिर बिदकवले त जरूर बा. बाहर-बाहर भाजपा के हवा ना, आन्ही चलत बा, बाकिर भीतरे भीतर लोग के खिसियइला के खबर दिल्ली तक पहुंच गइल बा. दिल्ली दरबार एह बात से फिकिर में पड़ गइल बा. अब नया पलान बनावल जाता.

भाजपा के नया पलान ई बा कि अब जहवां-जहवां पार्टी के सभा होई, उहवां बाहर से आइल नेता लोग के मंच पर ना राखल जाई. खोज-खोज के भाजपा के लोकल नेता लोग के मंच पर जगह दियाई. भाजपा के उमेद बा कि एह से लोग के नाराजगी कम हो सकेला. ओह लोगन के बुझाई कि केहू केतनो बाहर से आके पार्टी में बड़ हो जाव, बाकिर भाजपा के असली आ पुरनका लोग के भाव ना घटी. पुरनके लोगवा भाजपा के लोकसभा में 18 सीट पर पहुंचवले बा आ 126 विधानसभा सीट पर तृणमूल कांग्रेस से आगे ले गइल बा. दिल्ली दरबार के अब ई बात समझ में आ गइल बा.
भाजपा आपन सगरी ताकत बंगाल में झोंक दिहले बिया. प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, यूपी के सीएम योगी समेत भाजपा के बड़-बड़ नेता आ मंत्री बंगाल में एक गोड़ त दूसरका गोड़ अपना इलाका में रखले बा. बंगाल के लड़ाई अब भाजपा के मान-शान से जुड़ गइल बा. एह से उमेद करे के चाहीं भाजपा के अपना चूक के जइसे-जहां एहसास होई, ऊ ओकरा के सुधारे खातिर कवनो कसर ना छोड़ी. (लेखक ओमप्रकाश अश्क वरिष्ठ पत्रकार हैं.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज