Bhojpuri: अगर सुशील मोदी पs भाजपा अंटकी, तs बिहार के मिशन 2025 में भटकी!

जवन सुशील मोदी के मेहनत अउर हिम्मत से भाजपा के बिहार में दिन फिरल, उनके के तिरशंकु लेखा लटका देलस पाटी. उनका जइसन जुझारू नेता के मंतरी बनावे में का दिक्कत रहे ?

  • Share this:
शायर उमेश उल्फत आज फूल मूड में रहन. केन्द्रीय कैबिनेट में बिहार के अनदेखी पs पितपिताइल रहन. अखबार चौकी पs पटक के कहले, भला बताव ! जवन सुशील मोदी के मेहनत अउर हिम्मत से भाजपा के बिहार में दिन फिरल, उनके के तिरशंकु लेखा लटका देलस पाटी. उनका जइसन जुझारू नेता के मंतरी बनावे में का दिक्कत रहे ? मेहनत कइले राम, मेवा खइले श्याम ! उमेश उल्फत के बात सुन के लेखक बिपुल बैरागी के कहले, यूपी चुनाव के धेयान में राख के केन्द्रीय कैबिनेट के बिस्तार कइल गइल बा. एह समीकरण में सुशील मोदी एडजस्ट ना भइले.

उमेश उल्फत तनी रंज हो के कहले, का सुशील मोदी एडस्ट करे वला नेता हवें ? उनका के तs बिहार के जार्ज फरनानडिस कहल जाला. जब बिहार के वित्त मंतरी रहन तs सदन में पूरा तइयारी के साथे जात रहन. कागज पत्तर से ओतना मजबूत नेता बिहार में के बा ? ओतना पढे- लिखे वला नेता के बा ? ऊ तs परफौरम करे वला नेता हवें. एकर जबाब में बिपुल बैरागी कहले, अइसन थोड़े बा कि भाजपा के नाफा-नोकसान मालूम नइखे ? हो सकेला कि सुशील मोदी खातिर कवनो बड़ जिम्मेदारी सोचल गइल होखे.

ना मिलल काम के इनाम
बिपुल बैरागी के बात से उमेश उल्फत के मान शांत ना भइल. ऊ कहले, इयाद करs अपरील 2017 के समय. सुशील मोदी एक पs एक 44 प्रेस कौनफरेंस कs के नीतीश सरकार के हिला देले रहन. उनकर धुआंधार प्रेस कौनफरेंस से सरकार में शामिल राजद के सिंघासन डोले लगल रहे. ओह घरी राजद के सरकार रहे. लालू परिवार पs बेनामी सम्पत्ति के आरोप लगावल केतना हिम्मत के काम रहे ? जमीन-फलैट के कागज जुटावल केतना मोसकिल रहे ! लेकिन एतना पुखता सबूत के साथे आरोप लागल कि बिहार के राजनीते बदल गइल. ओह घरी तs भाजप के कवनो नेता अतना साहस ना देखवले ? ओह घरी तs कवनो भाजपा नेता लालू परिवार के खिलाफ एतना कागज-पत्तर ना जुटवले ? ई सुशीले मोदी के कमाल रहे कि भाजपा के किस्मत पलट गइल. नीतीश कुमार अउर भाजपा में फेन मेल हो गइल. 2020 में भी चुनाव जीतला के बादो कम दिक्कत ना रहे. स्पीकर के चुनाव में अगर सुशील मोदी फोनकांड के पोल ना खोलिते तs एनडीए के बनल काम बिगड़े वला रहे. आरोप लागल रहे कि लालू जी भाजपा विधायक के तूरे खतिर जेल से फोन कइले रहन. लेकिन चुनाव के पहिले ही सुशील मोदी फोन के भंडाफोड़ कर देले. एकरा चलते राजद के दाव खाली चल गइल.

पटना से दिल्ली बोलावे के का मतलब ?
लेखक बिपुल बैरागी कुछ सोच के कहले, हां, ई बात तs समझ में ना आइल कि सुशील मोदी के पटना से दिल्ली काहे बोलावल गइल ? शायर उमेश उल्फत कहले, न खुदा ही मिला ना विसाले सनम.... रहे दिल में हमारे ये रंज-ओ-अलम... जब उनका दिल्ली में मंतरी बनावे के ना रहे तs बिहार के राजनीत से काहे हटावल गइल ? ओग घरी तs कहल गइल रहे कि सुशील मोदी के अनुभव के फैदा अब केन्द्र में उठावल जाई. केन्द्र में उनका के मंतरी बनावल जाई. देखत देखत आठ महीना हो गइल. जब मौका आइल तs भाजपा बात के बिसरा देलस. ई तs उनका साथे नाइंसफिये कहाई. उनकर इंट्री तs असपेसल कोटा में भइल चाहत रहे. लेकिन जब ना भइल तs केकरा के का कही ? रामजी के चिरईं, राम जी के खेत, खा लs चिरईं भर-भर पेट. तनी दम धर के उमेश उल्फत कहले, हमार तs कहनाम बा कि सुशील मोदी के बिहारे में बेसी जरूरत बा. अगर राजद से राजनीतिक लड़ाई लड़े के बा तs सुशील मोदी जइसन जोधा के रहल बहुत जरूरी बा. सुशील मोदी अउर लालू जादव एक्के साथे छात्र राजनीति कइले बाड़े. दून जना एक दोसरा के नजदीक से जानत बड़े. अइसना में सुशील मोदी जतना मजबूती से लालू जादव के जबाब दे सकेले, ओतना दोसरा खातिर मोसकिल बा.

डेनिस लिली के बौल खेले खातिर गवास्कर चाहीं
अगर भाजपा के कुछ नेता सुशील मोदी के कमजोर कइल चाहत बाड़े तs एक तरह से ऊ राजद के फायदा पहुंचा रहल बाड़े. जब केन्द्र में उनका के मंतरी ना बनावल गइल तs राजद में खुशी के लगर दउड़ गइल. सांसद बनला के बादो सुशील मोदी ट्विटर पs राजद के खिलाफ लड़ाई ठनले रह गइले. राजद जइसन मजबूत पाटी के जबाब देवे खातिर भी बरियार जोधा चाहीं. डेनिस लिलि जइसन तूफानी गेंदबाज के सामना करे खातिर सुनील गवास्कर जइसन बल्लेबाज चाहीं. ना तs बिकेट कबर के स्लीप में फेंका जाई. अगर भाजपा आपसी गुटबंदी में सुशील मोदी के साथे नाइंसाफी करी तs एकर नतीजा 2025 के चुनाव में भोगी के पड़ी. शायर उमेश उल्फत कुछ सोच के कहले, हमरा नजर में अगर भाजपा सुशील मोदी के नांव पs अंटकी, तs बिहार के मिशन 2025 में भटकी. आठ महीना हो गइल लेकिन तब्बो बिहार भाजपा के कवनो नेता उनकर खाली जगह ना भर पइले. कबो-कबो मजबूत नेता के दरकिनार कइल पाटी के बहुत महंग पड़ जाला. अगर असम में कांग्रेस हिमंत बिस्वा सरमा के अनदेखी ना कइले रहित तs आज ऊ भाजपा नेता बन के मुखमंतरी ना बनल रहिते. शायर उमेश उल्फत के बात पs लेखक बिपुल बैरगी चुप हो गइले. (अशोक कुमार शर्मा वरिष्ठ स्तंभकार हैं. यह उनके निजी विचार हैं.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.