अपना शहर चुनें

States

Bhojpuri Special: गाबा में टीम इंडिया के जलवा, 32 साल बाद हारल ऑस्ट्रेलिया

ई ऐतिहासिक जीत में अइसे तs पूरा टीम के जोगदान बा लेकिन 6 खेलाड़ी अपना खेल से चकाचौंध कर देले.
ई ऐतिहासिक जीत में अइसे तs पूरा टीम के जोगदान बा लेकिन 6 खेलाड़ी अपना खेल से चकाचौंध कर देले.

अबकी बार दीया अइसन जगमग भइल कि 32 साल के अन्हरिया दूर हो गइल। ई ऐतिहासिक जीत में अइसे तs पूरा टीम के जोगदान बा लेकिन 6 खेलाड़ी अपना खेल से चकाचौंध कर देले।

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 4:05 PM IST
  • Share this:
ब्रिस्बेन टेस्ट में भारत के जीत, क्रिकेट इतिहास के सबसे यादगार जीत बन गइल. गाबा में आस्ट्रेलिया 32 साल से ना हारल रहे. लेकिन भारत के नौजवान खेलाड़ी असंभव के भी संभव बना देले. ई ऐतिहासिक जीत के नायक रहले रिषभ पंत. जवना घरी कमिंस –हेजलवुड- स्टार्क के तूफान में भारत के दीया थरथरात रहे ओह घरी रिषभ पंत पहाड़ बन के खाड़ा हो गइले. एकरा बाद तs दीया अइसन जगमग भइल कि 32 साल के अन्हरिया दूर हो गइल. ई ऐतिहासिक जीत में अइसे तs पूरा टीम के जोगदान बा लेकिन 6 खेलाड़ी अपना खेल से चकाचौंध कर देले.

रिषभ पंत और वाशिंटन सुंदर
जब भारत के स्कोर 265 रन रहे अउर मयंक अग्रवाल पांचवा विकेट के रूप में आउट हो गइले तs भारत के चिंता बढ़ गइल. मयंक के बाद केहू खांटी बल्लेबाजी ना रहे. वाशिंगटन सुंदर के बैटिंग खातिर आवे के रहे. अब भारत के खेमा में सोच-विचार चले लागल कि ड्रा खातिर खेले के चाहीं कि जीते खातिर ? जीते के कोशिश में हारे के जोखिम भी बा. लेकिन इहे निर्णायक समय में भारत साहसिक फैसला लेलस. रिषभ पंत पs टीम के भरोसा रहे. हार्ड हिटर पंत टीम के जीता सकत रहन. जीते खातिर 63 रन बनावे के रहे. दस बारह ओभर ही बांचल रहे. आसान काम ना रहे. रिषभ अउर सुंदर के मिल के ई असंभव काम कर के रहे. तमाम सोच-बिचार के बाद भारत जीते खातिर खेले के फैसला कइलस.

पंत अउर सुंदर के हमला
वाशिंगटन सुंदर के ई पहिला टेस्ट मैच रहे. ऊ पहिले मैच में किला कबार देले. पांच बिकेट पs 265 से आगा खेल शुरू भइल. कमिंस, हेजलवुड, स्टार्क अउर नाथन लायन शानदार बौलिंग करत रहन. एकरहा बादो सुंदर टीम के जरूरत के मोताबिक वनडे अइसन खेल देखवले. एक छक्का अउर दो चउका लगा के 29 गेंदा पs 22 रन बना देले. सुंदर, रिषभ के साथे मिल के 53 रन के साझेदारी कइले. ईहे ऊ निर्णायक समय रहे जब भारत जीत, ड्रा अउर हार के तिराहा पs खाड़ा रहा. पंत अउर सुंदर भारत के स्कोर 318 पs पहुंचा देले. अब जीत खातिर 10 रन के जरूरत रहे कि सुंदर आउट हो गइले. एकरा बाद पंत मोर्चा संभारले. शर्दुल हड़बड़ी में 2 रन पs आउट हो गइले. सतवां बिकेट गिर गइल. अब जीत खातिर 3 रन के जरूर के जरूरत रहे. पंत चउका मार के भारत के असंभव जीत दिला देहले. पंत 138 गेंदा पs 89 रन बनवले अउर मैन ऑफ द मैच चुनइले. ई पंत के जिनगी के सबसे यादगार पारी रहल.



शुभमन गिल अउर पुजारा
21 साल के शुभमन गिल लाजबाब खेल देखवले. जब अनुभवी रोहित शर्मा 7 रन पs आउट हो गइले तs शुभमन गिल निडर और अउर शांत हो के खेलले. चउथा पारी में जब भारत के जीते खातिर 328 रन बनावे के रहे तब ओपनिंग बैट्समैन के बढ़िया खेलल जरुरू रहे. शुभमन अउर अनुभवी पुजारा के साझेदारी ऊ नींव रहे जवना पs भारत के जीत के महल खाड़ा भइल. तीसरा टेस्ट खेल रहल शुभमन आस्ट्रेलिया के तेज तिकड़ी कमिंस स्टार्क, हेजलवुड के सामने तनिको ना डेरइले. शुभमन 146 गेंदा पs 91 रन बनवले. उनकर शतक ना पूरा भइल लेकिन ई पारी से भारत के खेल में भरोसा बढ़ गइल.

शतकीय साझेदारी
शुभमन अउर पुजारा 114 रन के साझेदारी कइले. भारत के खेमा अब जीत खातिर सोचे लागल. पुजारा के पारी के भी बहुत अहमियत बा. जब बिकेट के बचावल जरूरी रहे तब ऊ पिच पs खूंटा गाड़ के खेलले. कप्तान रहाणे उनका कहले रहन कि ऊ शांत हो के अपना मन के हिसाब से खेलस. पुजारा आपन खेल जीवन के सबसे धीमा हाफ सेंचुरी मरले. 211 गेंदा खेल के 56 रन बनवले. भारत के इहे खूबी ओकरा के खास बना देलस. पुजारा डिफेंस कइले तs शुभमन अउर पंत हमला कइले. जब जइसन समय तब तइसन खेल. भारत के जोधा समय के मांग के हिसाब से खेल देखवले. इहे जीत के आधार रहे.

मोहम्मद सिराज अउर शर्दुल ठाकुर
आस्ट्रेलिया के दूसरा पारी के 294 रन पs रोकला के वजह से ही भारत के जीते खातिर 328 रन के टारगेट मिलल रहे. एक समय आस्ट्रेलिया के स्कोर 195 रन पs पांच बिकेट रहे. रन मशीन स्मिथ खलते रहन. लेकिन जइसहीं सिराज स्मिथ के आउट कइले मैच पs भारत के पकड़ मजबूत हो गइल. सिराज अउर शार्दुल के लाजबाब बौलिंग के वजह से भारत आस्ट्रेलिया 294 रन पs रोक देलस. अगर आस्ट्रेलिया के लीड अधिका रहित तs भारत ई टेस्ट मैच जीते खातिर ना बलिक ड्रा करे खातिर खेलित. सिराज पांच विकेट लेले अउर शार्दुल चार बिकेट लेले. सिराज अपना जिनगी में पहिला बेर पांच बिकेट लेले. शार्दुल ई अहम मैच के दूनो पारी मिला के 7 विकेट मिलल. सिराज एह सीरीज में कुल 13 बिकेट ले के भारत के नया तूफानी गेंदबाज बनले. भारत के कवनो तेज गेंदबाज अपना पहिला टेस्ट सीरीज में 13 बिकेट ना ले रहे. एकरा पहिले जवागल श्रीनाथ 10 बिकेट लेके रेकौड बनवले रहन. भारत, आस्टेलिया में 2-1 से सीरीज जीते के ऐतिहासिक कारनामा कइलस. महाशक्तिशाली आस्ट्रेलिया के खिलाफ लड़े, भिड़े अउर जीते के अइसन जज्बा दुनिया के कवनो टीम ना देखवले रहे. (लेखक अशोक कुमार शर्मा वरिष्ठ स्तंभकार हईं.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज