अपना शहर चुनें

States

Bhojpuri Special: भारत घाहिल बा तs का ! जोश हाई बा, ब्रिस्बेन के रेकौड धइले रह जाई

गाबा के मैदान पर टीम इंडिया के रिकॉर्ड भले ही खराब बा, लेकिन जोश हाई बा.
गाबा के मैदान पर टीम इंडिया के रिकॉर्ड भले ही खराब बा, लेकिन जोश हाई बा.

आस्ट्रेलिया, ब्रिस्बेन के गाबा मैदान (Gabba Stadium, Australia) पs 55 टेस्ट मैच खेलले बा जेकरा में 33 में जीत मिलल बा। एकरा अलावे 13 मैच ड्रा, एक टाई अउर 8 में हार मिलल बा।

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 6:11 PM IST
  • Share this:
आस्ट्रेलिया के धाकड़ स्पिनर नाथन लियोन के कहनाम बा, गाबा के मौदान पs आस्ट्रेलिया के बहुत शानदार रेकौड बा। लेकिन ई रेकौड होखे से आस्ट्रेलिया बेफिकिर ना बइठ सकेला। अतीत में आस्ट्रेलिया निमन खेलले बा लेकिन अब स्थिति बदल गइल बा। भारत के खेलाड़ी जवन हिम्मत अउर जोश से खेल रहल बाड़े ओकरा से आस्ट्रेलिया के चिंता बढ़ गइल बा। एह घरी भारत के कवनो खेलाड़ी के कमजोर ना आंकल जा सकेला। केहू सोचले रहे कि कुल्लम 12 टेस्ट मैच खेले वला हनुमा बिहारी सिडनी के पिच पs चार घंटा से अधिका बैटिंग करिहें। केहू सोचले रहे कि केहुनी टूटला के बादो रिषभ पंत 97 रन बना दिहें। केहू सोचले रहे कि बौलर होखला के बादो अश्विन 42 ओभर टिक जइहें। लेकिन जनवन ना सोचल गइल उहे भइल। अइसना में रेकौड के बात कइला के कवनो मतलब नइखे। भारत के खेल अभी बहुत आला दरजा के बा।

रेकौड का करी, जोश हाई बा
आस्ट्रेलिया, ब्रिस्बेन के गाबा मैदान पs 55 टेस्ट मैच खेलले बा जेकरा में 33 में जीत मिलल बा। एकरा अलावे 13 मैच ड्रा, एक टाई अउर 8 में हार मिलल बा। जब कि भारत गाबा में अबहीं ले 6 टेस्ट मैच खेलले बा जेकरा में पांच हार गइल बा। एक टेस्ट ड्रा रहे। जवन टीम (आस्ट्रेलिया) के एक मैदान पs अतना तागड़ा रेकौड होखे ओकर जोश के अंदाजा लगावल जा सकेला। लेकिन अबहीं भारतीय टीम के जवन मनोबल बा ओकरा आंगा कइसनो रेकौड के कवनो भैलू नइखे। घायल शेर पहिल से अधिका खतरनाक होखेला। जिद अउर जुनून अइसन बा कि भारत के साधारण खेलाड़ी भी आस्ट्रेलिया के दांत खांटा कइले बाड़े। भारत के क्रिकेटर अभी मतवाला हाथी अइसन झूम रहल बाड़े। के रउंदा जाई, कवनो ठेकाना नइखे।

नरभस बा आस्ट्रेलिया
भारत के झनकदार खेल देख के आस्ट्रेलिया नरभस हो गइल बा। ओकर तेज गेंदबाजी के बहुते भौकाल रहे। 140-150 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ्तार से गेंदा फेंके वला एंडरसन कमिंस अउर मिचेल स्टार्क के बड़ा रुतबा रहे। आस्ट्रेलिया के पिच सबसे तेज मानल जाला। सिडनी के तेज पिच पs सब धुरंधर लाग गइले तबहुओं भारत के 131 ओभर में ऑल आउट ना कर पइले। सब नाम-धाम धरल के धरल रह गइल। फास्ट बौलरन के नाकामी से आस्ट्रेलिया नरभसा गइल बा। एही से ओकर ब्रिस्बेन में चिंता बढ़ गइल बा। एकरा अलावे आस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाजी भी बड़का समस्या बनल बा। वार्नर पूरा फिट नइखन लेकिन तबहुओं उनका खेलावल जा रहल बा। वार्नर अपना नाम के मोताबिक खेल देखावे में फेल बाड़े। बौटिंग के टोटल लोड स्मिथ अउर लाबुशाने के माथे बा। सिडनी में एक समय आस्ट्रेलिया के स्कोर 2 विकेट पs 200 रन लेकिन अचके में 338 पs ऑल आउट हो गइल। अगर चउथा टेस्ट में स्मिथ, लाबुशाने के बिकेट जल्दी मिल जाई तs भरत के राह आसान हो जाई। ब्रिस्बेन के आंकड़ा जरूर आस्ट्रेलिया के पक्ष में बा लेकिन टीम के मौजूदा हौसला डाउन बा। आस्ट्रेलिया के इहे गिरल मनोबल भारत खातिर कोरामिन साबित होई।



भारत खातिर गेंदबाजी में चिंता
जे मैदान में लड़ी-भिड़ी ऊ घाहिल होइबे करी। भारत के मैच जिताऊ गेंदबाज एक-एक कर के घाहिल भइल जात बाड़े। शमी, जडेजा, उमेश के बाद अब बुमराह भी चोटिल हो गइल बाड़े। ई खेल के हिस्सा हs। एह से ई समस्या पs अधिक माथा खपावला से कवनो फैदा नइखे। अब आगा के सोचे के चाहीं। अब भारत के तेज गेंदबाजी में के-के शामिल होई ? क्रिकेट के जानकार लोगन के कहनाम बा कि मोहम्मद सिराज के साथे नवदीप सैनी अउर शार्दुल ठाकुर के राखे के चाहीं। नटराजन बायां हाथ के तेज गेंदबाज जरूर हवन लेकिन लेकिन ऊ आपन कमाल अभी तक सफेद गेंदा (आइपीएल) में ही देखवले बाड़न। टेस्ट मैच के लाल गेंदा के स्विंग अउर बाउंस के कंट्रोल करे के उनका अभी अनुभव निइखे। काहे कि नटराजन के टेस्ट खेले के मौका नइखे मिलल।

टीम में चार गेंदबाज होखस कि पांच?
अगर भारत पांच गेंदबाज के साथे मैदान पs उतरे के सोचे तब नटराजन के भी मौका मिल सकेला। अब सिराज, सैनी अउर ठाकुर बहुत बड़ जबाबदेही बा। सिराज दू टेस्ट, सैनी एक टेस्ट अउर ठाकुर एक टेस्ट खेलले बाड़े। अनुभव कम बा एह से भारत के नवका फास्ट बौलर लोगन के पूरा दमखम से खेले के पड़ी। अगर अश्विन खेलहीं तब तs ठीके बा लेकिन अगर ना खेलले तs कुलदीप यादव के मौका मिल सकेला। हनुमा बिहारी के जगह मयंक अग्रवाल खेले वला रहन लेकिन चोटिल हो गइले। अइसना में रिषभ पंत के बल्लेबाज के रूप में शामिल कइल जा सकेला। रिद्धिमान साह विकेटकीपर हो सकेले।

ट्राफी के हकदारी खातिर भारत के ड्रा के जरूरत
अबहीं सीरीज 1-1 से बराबर बा। जे चउथा टेस्ट जीती सीरीज ओकरे नाम होखी। अगर भारत ब्रिस्बेन टेस्ट ड्रा भी कर देता तs बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी भारते भीरी रही। एह से भारत के मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल बा। आस्ट्रेलिया में खेले के बाद भी ट्राफी भरत भीरी रहे तs ई बहुत बड़ बात बा। भारत के सुरक्षित राखे के जबाबदेही बल्लेबाज लोगन पs बा। अइसन बैटिंग कइल जरूरी बा जवना से कि स्कोर तीन सौ-चार सौ के बीच बन सके। रोहित शर्मा के आवे से टीम के हौसला बढ़ल बा। पुजारा के फारम भी लौट आइल बा। रहाणे के एक बेर फेन कप्तानी पारी खेले के पड़ी। अगर भारत के बैटिंग जम गइल तs ऊ ब्रिस्बेन में भी गदर काट सकेला। भारत के बैटिंग कोच विक्रम राठौर कहले बाड़े, हमनी के ब्रिस्बेन के बाउंसी बिकेट पs खेले के आच्छा अभ्यास कइले बानी जा। उमेद बा कि भारत के बैटिंग ठीक रही।
(अशोक कुमार शर्मा जी वरिष्ठ स्तंभकार हईं)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज